Followers

Tuesday, October 13, 2015

होते जीव हलाल, बैठ के देखें बन्दर- चर्चा मंच 2128

Image result for गांधी जी के तीन बन्दर 
बन्दर-भालू-सर्प बिन, मरा मदारी आज |
पशु-अधिकारों पे उठी, जब से ये आवाज |

जब से ये आवाज, हुवे खुश कुत्ता बिल्ली |
अभयारण में बाघ, सुरक्षित करती दिल्ली |

किन्तु विरोधाभास, देश-दुनिया के अंदर |
होते जीव हलाल, बैठ के देखें बन्दर ||
नीरज गोस्वामी 


Naveen Mani Tripathi 
प्रेम सरोवर  प्रेम सरोवर

Asha Saxena 


बन सकते तुम अच्छे बच्चे 

आनन्द विश्वास 
केवल राम 


महेन्द्र श्रीवास्तव 



सुशील कुमार जोशी 


प्रतिभा सक्सेना 


सरिता भाटिया 




पूरे श्रद्धा-भाव से, किये श्राद्ध निष्पन्न।
पितृअमावस पर हुए, काम सभी सम्पन्न।।
--
अब आयेंगे सामने, माता के नवरूप।
निष्ठा से पूजन करो, लेकर दीपक-धूप।।
--
देवेन्द्र पाण्डेय 
Yashwant Yash a

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...