Followers

Wednesday, March 16, 2016

नहीं बोलूंगा भारत माता की जय'; चर्चा मंच 2283


हुई लाल-पीली प्रिया, करे स्याह सम्भाव|
अंग-अंग नीला करे, हरा हरा हर घाव ||

एक दफ़ा गलती हुई,  रफा-दफ़ा कर रीस ।
 दफ़ा चार सौ बीस से, मत रविकर को पीस।।

युवा वर्ग से कर रही, दुनिया जब उम्मीद |
बहुतेरे सिरफिरे तब, मिट्टी करें पलीद ||

भट के फिर भटके कदम, दमन करे चहुँओर |
खौफ नहीं अल्लाह का, बन्दे आदमखोर ||

lokendra singh 

pramod joshi 
Sushma Verma 
डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति 
Surendra Singh bhamboo 
chandan bhati 
S.K. Jha 
udaya veer singh 
डॉ. नागेश पांडेय संजय 
Ravishankar Shrivastava 
[555[2].jpg]
धनहीन हूँ भिखारी, मैं दान माँगता हूँ।
झोली पसारकर माँ! मैं ज्ञान माँगता हूँ।।


दुनिया की भीड़ से मैं,
बच करके चल रहा हूँ,
माँ तेरे रजकणों को,
माथे पे मल रहा हूँ,
निष्प्राण अक्षरों में, मैं प्राण माँगता हूँ।
झोली पसारकर माँ! मैं ज्ञान माँगता हूँ।।

सुधीर 
रश्मि शर्मा 
Kirtish bhatt 
Kirtish bhatt 

No comments:

Post a Comment

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...