Followers

Wednesday, December 19, 2018

"ज्ञान न कोई दान" (चर्चा अंक-3190)

मित्रों! 
बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

दिसम्बर की बेदर्द रात.... 

श्वेता सिन्हा 

भोर धुँँध में
लपेटकर फटी चादर
ठंड़ी हवा के
कंटीले झोंकों से लड़कर
थरथराये पैरों को 
पैडल पर जमाता
मंज़िल तक पहुँचाते
पेट की आग बुझाने को लाचार
पथराई आँखों में 
जमती सर्दियाँ देखकर
सोचती हूँ मन ही मन
दिसम्बर तुम यूँ न क़हर बरपाया करो... 
yashoda Agrawal  
--
--
--

बहुत ठंड है जी----- 

ठंडक बहुत बढ़ते जा रही ,  
ठंडक में मेरी ताजी रचना  
आपके अवलोकन हेतु प्रस्तुत है.... 
Lovely life पर 
lovely edu  
--

विराम-अविराम 

[यह पूर्व- कथन पढ़ना अनिवार्य नहीं है - संस्कृत, पालि,प्राकृत भाषाओँ में विराम चिह्नों की स्थिति - ( ब्राह्मी लिपि से ,शारदा,सिद्धमातृका ,कुटिला,ग्रंथ-लिपि और देवनागरी लिपि.) संस्कृत की पूर्वभाषा वैदिक संस्कृत जिस में वेदों की रचना हुई थी, श्रुत परम्परा में रही थी. मुखोच्चार के उतार-चढ़ाव, ठहराव भंगिमा आदि के द्वारा आशय को स्पष्ट करने हेतु पृथक किसी आयोजन की आवश्यकता नहीं थी (श्रुत परंपरा का प्रयोग ही इसलिये किया गया था, कि उच्चारण, वांछित आशयों से युक्त और संपूर्ण हों.लिखित रूप में वह पूर्णता लाना संभव नहीं). अतः तब विराम-चिह्नो की आवश्यकता नहीं अनुभव की गई... 
लालित्यम् पर प्रतिभा सक्सेना 
--
--

शीर्षकहीन 

अलीपुर बम केस श्री अरविन्द अलीपुर बम केस में एक आरोपी थे. अपनी पुस्तक, ‘टेल्स ऑफ़ प्रिज़न लाइफ’, में उन्होंने इस मुक़दमे का एक संक्षिप्त वृत्तांत लिखा है. यह वृत्तांत लिखते समय उन्होंने ब्रिटिश कानून प्रणाली पर एक महत्वपूर्ण टिपण्णी की है. उन्होंने लिखा है कि इस कानून प्रणाली का असली उद्देश्य यह नहीं है की वादी-प्रतिवादियों के द्वारा सत्य को उजागर किया जाए, उद्देश्य है कि किसी भी तरह, कोई भी हथकंडा अपनाकर केस जीता जाए. यह केस श्री अरविन्द और अन्य आरोपियों पर 1908 में चला था. सौ वर्ष से ऊपर हो गये हैं पर देखा जाए तो आज भी न्याय प्रणाली में वादी-प्रतिवादी का असली उद्देश्य किसी न किसी तरह...  
i b arora  
--
--
--
--

कीमत 

म आ गए हो तो रौनक आ गई है गरीबखाने में  
वगरना कोई कब्रिस्तां में जश्न मनाता है क्या... 
अन्तर्गगन पर धीरेन्द्र अस्थाना  
--
--

6 comments:

  1. शुभ प्रभात...
    आभार...
    सादर...

    ReplyDelete
  2. अच्छी चर्चा...

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत चर्चा मंच

    ReplyDelete
  4. मेरी अंजानी रचना को स्थान देने के लिए चर्चा मंच के बहुत बहुत आभारी हैं । चर्चामंच सदैव से ही अच्छे अच्छे लिंक्स प्रस्तुत करते रहता है इसकी जितनी तारीफ की जाए कम है

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।