Followers

Search This Blog

Monday, December 31, 2018

"जाने वाला साल" (चर्चा अंक-3202)

मित्रों! 
सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।  
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
--
--
--

हमराही 

Akanksha पर 
Asha Saxena 
--

नववर्ष की मंगलकामना 

गूँथ कर माला प्रेम कीले हाथ में रोली चन्दन । 
नववर्ष के अवसर परप्रिय आपका अभिनंदन।।... 
Lovely life पर 
lovely edu 
--
--
--

हम में, तुम में फर्क बहुत है 

यूँ तो अपना फर्ज बहुत है  
पर छुपने को तर्क बहुत है  
तुम इस रस्ते, हम उस रस्ते  
हम में, तुम में फर्क बहुत है... 
मनोरमा पर श्यामल सुमन 
--
--

आसमानी ऊनी शाल 

सम्हाल कर रखा है  
तुम्हारे वादों का दिया हुआ  
ब्राउन रंग का मफलर  
बांध लेता हूँ जब कभी कान में  
फुसफुसाकर कहती है ठंड कि,  
आज बहुत ठंड है... 
Jyoti Khare  
--
--

7 comments:

  1. हमेशा की तरह सुंदर चर्चा अंक।

    ReplyDelete
  2. शुभ प्रभात
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  3. नये साल में मंगल मंगल।बहुत सुंदर। अगले वर्ष में भी चर्चा मंच उन्नति के शिखर पर साहित्यिक ध्वज फहराते रहे।

    ReplyDelete
  4. उम्दा चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  5. Very Nice.....
    बहुत प्रशंसनीय प्रस्तुति.....
    मेरे ब्लाॅग की नई प्रस्तुति पर आपके विचारों का स्वागत

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर और प्रभावी प्रस्तुति
    जाते साल का बेहरीन संकलन
    साधुवाद आपको
    मुझे सम्मलित करने का आभार
    सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।