Followers

Saturday, February 15, 2020

शब्द-सृजन-8 'पराग' (चर्चा अंक-3612)

स्नेहिल अभिवादन। 
विशेष शनिवासरीय प्रस्तुति में हार्दिक स्वागत है।
शब्द-सृजन-८  के लिये 
विषय दिया गया था 'पराग'
पराग फूल का महत्त्वपूर्ण उत्पाद है जो फूल में मिठास के रूप में घुलमिलकर प्रकृति का अनमोल उपहार बनकर नये आयाम देता है. रंग-विरंगे फूलों से पराग एकत्रकर मधुमक्खियाँ मधु /शहद का निर्माण करती हैं जिसे समाज उपभोग करता है.
प्रकृति प्रदत्त उपहारों में पराग अनूठा है. फूलों के आसपास तितलियों, भँवरों को मडराते देख कवि/ कवयित्री का  हृदय झूम उठता है और कल्पनालोक में विचरण करते हुए मनमोहिनी रचनाओं का सृजन करता है. अतः पराग अदृश्य रहकर भी जीवन में मृदुल एहसासों को जाग्रत करता है, हमारे दृष्टिकोण को व्यापक बनाता है.

आइए पढ़ते हैं पराग विषयक अनूठा सृजन लिये कुछ रचनाएँ-
-अनीता सैनी
**
दोहे 
**
एक आवारा बदली
रंग-विरंगे सुकोमल सुमनों से सजीं सुरम्य क्यारियाँ 
पुकारतीं तितलियों को 
कुसुम-दलों पर छिटकीं धारियाँ 
मधुमक्खियाँ मधुर पराग पीने पधारतीं 
एक आवारा बदली 
बरसने से पहले 
निहारती दोनों दृश्य।  
**

**
**



पन्ना धाय तुम्हारे आँसुओं से भीगे,
खुरदरे मोटे इतिहास के पन्ने,
जिनमें सीलन मिलती है आज भी,
कर्तव्यनिष्ठा राष्ट्रप्रेम की।
**
आज का सफ़र यहीं तक 
कल फिर मिलेंगे।  
- अनीता सैनी

11 comments:

  1. पराग विषय पर मनमोहक अंक है । कली, पुष्प, पाँखुरी, पराग, परागकोष, परागकण, परागण और भँवरे आदि पर चिंतन करने पर लौकिक प्रेम और उसमें निहित स्वार्थ का बोध तो होता ही है साथ ही आध्यात्मिक दृष्टिकोण भी विकसित होता है।
    इन्हीं शब्दों के साथ आप सभी रचनाकारों को सादर प्रणाम।
    मेरे लेख को भी मंच पर इन सुंदर रचनाओं के मध्य स्थान देने के लिए अनीता बहन हृदय से आपका आभार।

    ReplyDelete
  2. शब्द सृजन-8 पर आधारित सुन्दर शनीवासरीय अंक।
    सभी रचनाएँ सार्थक और सुन्दर हैं।
    आपका आभार अनीता सैनी जी।

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया प्रस्तुती.

    ReplyDelete
  4. 'शब्द सृजन' आधारित बहुत सुन्दर प्रस्तुती । मेरे सृजन को सम्मिलित कर मान देने के लिए हार्दिक आभार अनीता जी ।

    ReplyDelete
  5. पराग अदृश्य रहकर भी जीवन में मृदुल एहसासों को जाग्रत करता है, हमारे दृष्टिकोण को ____ सच में पराग ने आज चर्चा मंच पर भी अपनी सशक्त उपस्थिति से अपनी सुगंध बिखेरी है ।शानदार भूमिका के साथ बहुत ही प्यारी प्रस्तुति प्रिय अनीता। सभी रचनाकारों को शुभकामनायें सर युमहे बधाई इस प्रस्तुति विशेष के लिए ।

    ReplyDelete
  6. मेरी रचना पराग को शामिल करने ले लिए आभार सहित धन्यवाद अनीता जी |उम्दा लिंक्स आज की |

    ReplyDelete
  7. शब्द सृजन का लाज़बाब अंक ,सुंदर भूमिका के साथ बेहतरीन प्रस्तुति अनीता जी ,सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. उम्दा लिंकों से सजा शानदार चर्चा मंच ...
    लाजवाब प्रस्तुति।
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए हृदयतल से धन्यवाद एवं आभार अनीता जी !

    ReplyDelete
  9. बहुत शानदार प्रस्तुति, शानदार भूमिका , एक से बढ़कर एक सृजन सभी रचनाकारों को बधाई ,मेरी रचना को शामिल करने केलिए हृदय तल से आभार।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर प्रस्तुतीकरण शब्द-सृजन का। पराग विषय पर बेहतरीन रचनाएँ सृजित हुईं हैं। पराग पर भूमिका सराहनीय है। सभी रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएँ।
    मेरी रचना सम्मिलित करने हेतु बहुत-बहुत आभार।

    ReplyDelete
  11. सुंदर प्रस्तुति हेतु बधाई आदरणीया।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।