Followers

Tuesday, August 11, 2020

"कृष्ण तुम पर क्या लिखूं!" (चर्चा अंक 3790)

स्नेहिल अभिवादन 
आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है।

आप सभी को  "श्रीकृष्ण जन्माष्टमी" की हार्दिक शुभकामनाएं  
हर साल की तरह इस साल भी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी दो दिन मनाया जा रहा है 11 और 12 अगस्त को। 
वैसे तो "कोरोना" ने इस उत्सव के रंग को भंग कर दिया है... 
मगर, कृष्ण के दीवाने कहाँ मानने वाले है जश्न तो होगा ही मगर पूरी सतर्कता के साथ... 
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी को भारत में ही नहीं, 
बल्कि विदेशों में बसे भारतीय भी पूरी आस्था व उल्लास से मनाते हैं। 
श्रीकृष्ण युगों-युगों से हमारी आस्था के केंद्र रहे हैं।
चाहे हम उनकी पूजा नटखट 
बाल-गोपाल के रूप में करे या राधा के मनमोहन के रूप में....
 कृष्ण तो हर दिल में बसें हैं ... 
************

कृष्ण तुम पर क्या लिखूं! कितना लिखूं

-------------------------------------------

कृष्ण तुम पर क्या लिखूं! कितना लिखूं!
रहोगे तुम फिर भी चाहे जितना लिखूं!  
प्रेम का सागर लिखूं! या चेतना का चिंतन लिखूं!
प्रीति की गागर लिखूं या आत्मा का मंथन लिखूं!
रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं!
ज्ञानियों का गुंथन लिखूं या गाय का ग्वाला लिखूं!
कंस के लिए विष लिखूं या भक्तों का अमृत प्याला लिखूं।
रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं!
पृथ्वी का मानव लिखूं या निर्लिप्त योगेश्वर लिखूं।
चेतना चिंतक लिखूं या संतृप्त देवेश्वर लिखूं।
रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं!
जेल में जन्मा लिखूं या गोकुल का पलना लिखूं।
देवकी की गोदी लिखूं या यशोदा का ललना लिखूं।
रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं!
गोपियों का प्रिय लिखूं या राधा का प्रियतम लिखूं।
रुक्मणि का श्री लिखूं या सत्यभामा का श्रीतम लिखूं।
रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं!
देवकी का नंदन लिखूं या यशोदा का लाल लिखूं।
वासुदेव का तनय लिखूं या नंद का गोपाल लिखूं।
रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं!
नदियों-सा बहता लिखूं या सागर-सा गहरा लिखूं।
झरनों-सा झरता लिखूं या प्रकृति का चेहरा लिखूं।
रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं!
आत्मतत्व चिंतन लिखूं या प्राणेश्वर परमात्मा लिखूं।
स्थिर चित्त योगी लिखूं या यताति सर्वात्मा लिखूं।
रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं!
कृष्ण तुम पर क्या लिखूं! कितना लिखूं!
रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित चाहे जितना लिखूं!
(आदरणीय सुशील कुमार शर्मा जी की रचना) 
**********************

कृष्ण की चेतावनी

--------------------

‘दृग हों तो दृश्य अकाण्ड देख,
मुझमें सारा ब्रह्माण्ड देख,

चर-अचर जीव, जग, क्षर-अक्षर,
नश्वर मनुष्य सुरजाति अमर।
शत कोटि सूर्य, शत कोटि चन्द्र,
शत कोटि सरित, सर, सिन्धु मन्द्र।
‘शत कोटि विष्णु, ब्रह्मा, महेश,
शत कोटि जिष्णु, जलपति, धनेश,
शत कोटि रुद्र, शत कोटि काल,
शत कोटि दण्डधर लोकपाल।
जञ्जीर बढ़ाकर साध इन्हें,
हाँ-हाँ दुर्योधन! बाँध इन्हें।
(आदरणीय श्री रामधारी सिंह "दिनकर"जी की कविता के कुछ अंश )
************

श्री कृष्ण को नमन करते हुए चलते है मेरी पसंद की कुछ रचनाओं की ओर.........
*********

तुम गोकुल में मत आना

मेरे आराध्य,
मेरे श्याम साँवरे,
अब तुम गोकुल कभी न आना !
गोकुल में अब कुछ भी वैसा नहीं रहा है
जैसा तुम कभी इसको छोड़ गये थे
*******
वो है निर्लिप्त निरंकार वो प्रीत क्या जाने
ना राधा ना मीरा बस " रमा " रंग है राचे,
आया था धरा को असुरो से देने मुक्ति,
आया था आते कलियुग की देने चेतावनी,
आया था देने कृष्ण बन गीता का वो ज्ञान,
Image result for कृष्ण भगवान के चित्र
जसोदा हरि पालनैं झुलावै।
हलरावै दुलरावै मल्हावै जोइ सोइ कछु गावै॥
मेरे लाल को आउ निंदरिया काहें न आनि सुवावै।
तू काहै नहिं बेगहिं आवै तोकौं कान्ह बुलावै॥
कबहुं पलक हरि मूंदि लेत हैं कबहुं अधर फरकावैं।

********
शुभ जन्माष्टमी
5 amazing legends and mythology about Lord Krishna's association ...
 माखनचोर
माखन  चोर भया  नंदलाला।

यशोमती तेरा लाल गोपाला।।

बाल- सखा की पीठ चढ़कर,
छीके में से  मटकी  निकाला।

यशोमती तेरा लाल गोपाला।।

********
प्रभू क्यों आंखें मूंदे हो

इस युग के लोगों से
प्रभू कैसी तेरी दूरी है
क्यों फेर ली आंखें हमसे
ऐसी क्या मजबूरी है
कभी द्रोपदी की एक पुकार पर
प्रभू तुम दौड़े दौड़े आए थे
आज कई द्रोपदी सिसक रहीं
प्रभू क्यों आंखें मूंदे हो

*********
ये महीना त्योहारों का महीना है आज जन्माष्टमी है और बस तीन दिन बाद... 
 भारत की आजादी का पावन दिन है....इस पर्व से बड़ा कोई पर्व नहीं है...  
स्वतंत्रता दिवस पर मेरी पसंद की कुछ विशेष रचनाएँ... 
************
राम कृष्ण की जननी हो
बस एक आज़ाद दे दो ,
ना दे पावो तो
एक भगतसिंह फिर से दे दो,
कमाल नहीं दे सकती
एक बार फिर गांधी दे दो ,
गांधी भी ना दे पांवों
तो कम से कम पटेल दे दो,
*********
Independence Day Essay In Hindi 2019: स्वतंत्रता ...
माँ भारती ,माँ भारती ,माँ भारती ।
  स्वर्ग भी करता तुम्हारी आरती ।।
शुभ्र ज्योत्सना सृदश अंचल है तुम्हारा
   बह रही जिसमें युगों से पुण्य धारा
जोड़ कर रवि शशी प्रगति के अश्व को
चल रहे अस्तित्व के बन सारथी ।
  माँ भारती ,माँ भारती ,माँ भारती
स्वर्ग भी करता तुम्हारी आरती।
********

स्वतंत्रता दिवस, पावन पर्व आज़ादी का

कह दो  क़ुदरत क़ायनात से कुछ ऐसा, 
कश्मीर-सा सुन्दर उपहार सजा दे,
करूँ नमन प्रतिपल वीर शहीदों को,
हृदय को उनका द्वार दिखा दे |
लिया भार,भारत माँ  का  कंधों  पर , 
उन वीर शहीदों की, चौखट के दीदार करा दे,
पहन केसरिया किया जीवन अपना क़ुर्बान,
जनमानस को वीरों के रक्त से लिखा संदेश दिखा दे |
********

इस वास्ते पंद्रह अगस्त है हमें प्यारा

jai%2Bhind
इस दिन के लिए खून शहीदों ने दिया था
बापू ने भी इस दिन के लिए ज़हर पिया था
इस दिन के लिए नींद जवाहर ने तजी थी
नेताजी ने पोशाख सिपाही की सजी थी
गूंजा था आज देश में जय हिंद का नारा
आज़ाद हुआ आज के दिन देश हमारा
********
 आप सभी को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी और स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
परमात्मा इस बिपदा से हमारी रक्षा करें... 
इसी कामना के साथ...  

आज का सफर यही तक
आप सभी स्वस्थ रहें ,सुरक्षित रहें।
कामिनी सिन्हा

23 comments:

  1. सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।
    श्री कृष्ण जन्माष्मटमी की बधाई हो।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय धन्यवाद सर,सादर नमस्कार

      Delete
  2. सुंदर चर्चा...

    ReplyDelete

  3. सुंदर प्रस्तुति और भूमिका, नमन।

    कृष्ण की मोहक बाल-लीला देखनेके लिए हमें मन की आँख खोलने की जरूरत है। तभी नारायण का दर्शन संभव है। बाहरी आँखों से तो सिर्फ़ यह नश्वर जगत दिखता है। और मानव हृदय को भ्रमित करने वाली उसकी रासलीला।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय धन्यवाद शशि जी,सादर नमस्कार

      Delete
  4. Replies
    1. सहृदय धन्यवाद विश्वमोहन जी,सादर नमस्कार

      Delete
  5. बहुत सुन्दर चर्चा आज की ! आप सभी को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं ! श्याम साँवरे के जन्मदिवस की इस विशिष्ट प्रस्तुति में मेरी विनती भी उन तक पहुँचाने के लिए आपका हृदय से आभार सखी ! बहुत बहुत धन्यवाद एवं सप्रेम वन्दे !

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय धन्यवाद दी,आपके माध्यम से हम अपनी भी आवाज़ उन तक पहुँचाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि सभी की दुआएं उन तक पहुंचे और विश्व में शांति कायम हो,सादर नमस्कार दी

      Delete
  6. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति 👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय धन्यवाद सखी,सादर नमस्कार

      Delete
  7. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति।मेरे सृजन को स्थान देने हेतु सादर आभार आदरणीय कामिनी दीदी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय धन्यवाद अनीता जी

      Delete
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति, मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार सखी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय धन्यवाद सखी,सादर नमस्कार

      Delete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति कामिनी जी । सभी गुणीजनों को जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय धन्यवाद सखी,सादर नमस्कार

      Delete
  10. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सहृदय धन्यवाद कविता जी,सादर नमस्कार

      Delete
  11. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  12. सुंदर प्रस्तुति सखी | मेरी रचना को भी आज की चर्चा में लाने के लिए आभारी हूँ | सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई |

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन प्रस्तुति...
    बधाई


    कृपया मेरे ब्लॉग साहित्य वर्षा पर भी पधारें 🙏
    लिंक दे रही हूं -
    https://sahityavarsha.blogspot.com/2020/08/blog-post_12.html?m=1

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।