Followers

Search This Blog

Thursday, August 27, 2020

चर्चा - 3806

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 

हर सिक्के के दो पहलू हैं 

मुहल्ले की मुनिया 

चीनी यात्री 

मरने से नहीं डरो रे 

मुसकराते रहो 

ओला और उबर 

ज्योतिर्मय वह स्रोत ज्योति का

पनीर मोदक (Paneer Modak recipe in hindi)

पनीर मोदक 

उन आँखों में अब कोई सपना नहीं 

बाढ़ 

मेरी फ़ोटो

क्या हमारे रोल बदल गए हैं 

व्यथा की कहानी 

महिला समानता दिवस 

धन्यवाद

दिलबागसिंह विर्क 

10 comments:

  1. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर और निर्विवाद चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  3. चित्रमयी सुन्दर संकलन । सुन्दर सार्थक सूत्रों का संयोजन ।

    ReplyDelete
  4. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद,दिलाबागसिंह भाई।

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन रचनाओं के लिंक्स साझा करने के लिए हार्दिक आभार ।

    ReplyDelete
  6. चित्रों से सजी सुंदर चर्चा, आभार मुझे भी इसमें शामिल करने हेतु !

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति।मेरी रचना को स्थान देने हेतु सादर आभार आदरणीय सर।
    सादर

    ReplyDelete
  8. उम्दा चर्चा

    ReplyDelete
  9. 'चीनी यात्री' शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।