Followers


Search This Blog

Thursday, October 06, 2022

'रावण आमआदमी नहीं रक्तबीज है कोई' (चर्चा अंक 4573)

                         शीर्षक पंक्ति: आदरणीय डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' जी की रचना से। 

सादर अभिवादन। 

गुरुवारीय प्रस्तुति में आपका स्वागत है। 

आइए पढ़ते हैं विभिन्न ब्लॉग्स पर प्रकाशित चंद चुनिंदा रचनाएँ-

अकविता "एक मरता है हजार जन्म ले लेते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


तभी ध्यान आया
रावण आमआदमी नहीं
रक्तबीज है कोई
एक मरता है
हजार जन्म ले लेते हैं
उन्हीं में से 
किसी ने
इन चार सीताओं का
हरण किया होगा!
*****

नीति के दोहे मुक्तक

मुफ्त   रेवड़ी      बांटिये,  भोली जनता साथ।अर्थ व्यवस्था हो शिथिल,केवल  सत्ता   हाथ।। 

इंतजार करो

अपनी छत हो जाए

बच्चों की शादी हो जाए

फिर समय ही समय है...

मैं मसालों में लिपटी

तुम हिसाब-किताब में उलझे

चलते रहे यूँ ही

निभाते अपना धर्म...

  *****

दशहरा (मनहरण घनाक्षरी )घृणा पर सप्रेम की।

      विषम पर सम की।
        दुख पर समृद्धि की।
                जीत है दशहरा।

*****अमरकंटक- प्यार से पुकार लो जहाँ हो तुम

*****विजया दशमी

मानव पुतला मात्र है, समझ जगत की रीति को।
क्षण भर में धू-धू जले, लिए बुराई नीति को।।

राक्षस दैत्य प्रतीक में, छल का वध प्रतिवर्ष है।
आदिशक्ति की साधना,सद्गुण का उत्कर्ष है।।
*****
थोडी़ सी शाम
होंठों का मुस्कान के लिए तरसना
इस दिल का तेरे बिन धड़कना
जीवन का बंजर हो जाना
सूखे पत्तों सा हो जाना
तुम बिन मेरा खो जाना
*****
नेता आयेंगे, अधिकारीगण आयेंगे रावण वध देखने। मंच पर वो भी आयेंगे जिन पर ’बलात्कार’ के आरोप हैं।-वो भी आयेंगे जिनपर ’घोटाले’ का आरोप हैं।-वो भी आयेंगे जो ’बाहुबली’ हैं जिन्होने आम जनता का ’बूँद बूँद खून’ चूस कर अपने अपने अपने ’घट’ भरे हैं-।--रावण ने भी भरा था। वो भी आयेंगे जो कई ’लड़कियों’ का अपहरण कर चुके हैं। वो भी आयेंगे जिन पर ’रिश्वत’ का आरोप है। ’भारत तेरे टुकड़े होंगे’ इंशाअल्ला इंशाअल्ला गैंगवाले भी आयेंगे ।कहते है- आरोप से क्या होता है ? सिद्ध भी तो होना चाहिये। आज सब भगवान को माला पहनायेंगे--*****फिर मिलेंगे। रवीन्द्र सिंह यादव

12 comments:

  1. सार्थक चर्चा प्रस्तुति।
    आपका आभार आदरणीय रवीन्द्र सिंह यादव जी।

    ReplyDelete
  2. सभी संकलन सराहनीय।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. आभार मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए

    ReplyDelete
  5. अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं मेरी रचना को चयनित करने के लिए सहृदय आभार आदरणीय सादर

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं मेरी रचना को चयनित करने के लिए सहृदय आभार आदरणीय सादर

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं मेरी रचना को चयनित करने के लिए सहृदय आभार आदरणीय सादर

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. सुंदर सार्थक रचनाओं का संकलन ।

    ReplyDelete
  12. उत्कृष्ट रचनाओं से परिपूर्ण प्रस्तुति, सुजाता

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।