समर्थक

Thursday, March 10, 2011

एक नज़र इधर भी डालिए..........चर्चा मंच.........451

लीजिये आ गयी हूँ दोस्तों 
वीरवार की चर्चा के साथ 
चलिए महिला दिवस तो 
मना लिया ........कोई भी पीछे नहीं रहा
इससे पता चलता है 
  महिलाओं के अस्तित्व के बारे में
चलिए अब चलते हैं 
अपने रोजमर्रा के काम पर
अरे रुकिए न .........जाने से पहले
एक नज़र इधर भी डालिए
फिर अपने दिन को संभालिये  





मरुस्थली समंदर बरसते रंगों के बीच
 मैं कहाँ हूँ 

मिलिए महान विभूति से 

 देखें कब तक ?

तो क्या होता ?

आप भी पढ़ें 

 अब तो ये भी जरूरी है

आज तो ऐसा नहीं है 

किस किसे डरोगे और कब तक ?

 ये कैसा समन्वय

अनोखी तलाश 

भिगो जाती हैं 

 आप भी जय करें

 बहुत कुछ कह जाती है

 पढ़े  लिखे को फारसी क्या 


देखिये एक नज़र इधर भी 

और उनमें मैं 

 कोई तो होगा ही

 होली के रंग सजाइए 

शाश्वत सत्य तो यही है 

 बधाई हो 

   सही बात कही 


आखिर कब तक ?

अच्छा .....अभी पता चला 


वो कैसे? 

अभी बताती हैं 

 ढूंढिए शायद कोई मददगार मिल ही जाये

सच में था न ............

और एक मुलाकात 


एक नज़र इधर भी डालिए 



 
निगाह जरूर डालिए इधर भी  



अनुत्तरित ही सही
हर प्रश्न के उत्तर सबको कब मिले हैं




तेरे इश्क में........ 
 क्या से क्या हो गए 


 तभी जिंदा हूँ मैं 


होली के रंग कुण्डलियों के संग






 अब आज्ञा दीजिये
फिर मिलेंगे
तब तक अपने विचार
प्रेक्षित करते रहिये
और हमारा उत्साह 
बढ़ाते  रहिये    

25 comments:

  1. चर्चा मंच में आप किन ब्लॉगों को शामिल करते हैं?

    ReplyDelete
  2. बहुत ही मनोरम चर्चा है। शीर्षकों के साथ आपने जो सानी लिखी है, वो लाजवाब है। मेरे देसिल बयना ’हाथ कंगन को आरसी क्या...’ को भी इस सम्मानित मंच पर स्थान दिया गया, इसलिये मैं आपका आभारी हूँ। धन्यवाद!!

    ReplyDelete
  3. बहुत खोजपूर्ण है आज का चर्चामंच .आजकल चर्चा मंच खोलने में भरी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है .इस कारण कोई कोई दिन तो ऐसे जा रहा कि इससे अलग रहना पड़ रहा है.आज हमारी पोस्ट को यहाँ स्थान देने के लिए मैं आपकी आभारी हूँ.देखें आज जब ये खुल ही गया है तो अन्य लिनक्स भी पकड़ में आते हैं क्या..

    ReplyDelete
  4. चर्चा अच्छी रही |कईलिंक्स के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  5. bahut acchi charcha hai vandna ji...meri rachna ko isme shamil krne ke liye bahut bahut dhanybad...

    ReplyDelete
  6. आभार इतने लिंक्स यहाँ पर चर्चा में शामिल करने के लिए

    ReplyDelete
  7. सुन्दर चर्चा .. आज रंग भी डाला है आपने लिंक्स पर .. :)) लगता होली मनाने की इरादा है... :))
    सुन्दर चर्चा ... बेहतरीन लिंक्स .. मेरी पोस्ट को चर्चा में जगह मिली .. आपका आभार ...

    ReplyDelete
  8. अच्छा सार-संकलन. हमेशा की तरह आज भी कई अच्छे लिंक्स मिल गए.आभार .

    ReplyDelete
  9. आज का दिन इतने सारे उम्दा लिंक के सहारे बिताऊंगा।
    बहुत अच्छी चर्चा पेश की है आपने।

    ReplyDelete
  10. चर्चा अच्छी ...कई अच्छे लिंक्स मिल गए...आभार

    ReplyDelete
  11. @डॉ. दलसिंगार यादव जी
    हम चर्चा मंच पर सभी तरह के ब्लोग्स को शामिल करते है फिर चाहे वो लेख हों,कहानियां हों या कवितायें……………चर्चा मंच सिर्फ़ एक माध्यम है सभी ब्लोगर्स तक ज्यादा से ज्यादा और बढिया से बढिया लिंक्स पहुंचाने का………यहाँ किसी से कोई भेदभाव नही किया जाता…………जो भी पोस्ट सामने आती है कोशिश होती है लेने की लेकिन सभी को तो स्थान नही दे सकते इसलिये कुछ पोस्ट छोडनी भी पड जाती हैं फिर भी कोशिश रहतीहै ज्यादा से ज्यादा ब्लोग पोस्ट ली जा सकें।

    ReplyDelete
  12. आपकी यह सुन्दर पोस्ट कल की चर्चा में शामिल होगी... आभार ... ;-)P

    ReplyDelete
  13. sundar charchaa. aapki lagan ko,mehanat ko naman...

    ReplyDelete
  14. bhut hi acha pryas hai, ki ek hi post me sbhi bloggers ki post ko samil kiya hai, It's really very nice..

    ReplyDelete
  15. चर्चा मंच में हम सभी तरह के ब्लॉगों को सम्मिलित करते हैं! केवल उनके ब्लॉग की पोस्ट लेना कठिन होता है जिन्होंने अपने ब्लॉ पर मजबूत ताला लगाया हुआ है!
    --
    और बन्दना गुप्ता जी, संगीता स्वरूप जी, इं. सत्यम् शिवम जी तो बहुत सारे लिंक चर्चा में लेते हैं!
    --
    वन्दना जी की आज की चर्चा बहुत ही बढ़िया है!

    ReplyDelete
  16. Vandna ji bahut bahut badhai,
    bahut hi sudnar charhca rahi,
    aaj mene pehle bar bahut sare link open kiye,

    collecntion was amazing!

    aapko itni mehant karne ke liye badhai!

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया चर्चा ...रंगों के छींटे अबीर गुलाल बन निखर रहे हैं ...

    ReplyDelete
  18. वंदना जी...बहुत ही खुबसुरत रंग बिरंगी चर्चा.....

    ReplyDelete
  19. vandna ji hats off to u , itne saare blogs ko visit karna or acchi rachano ko badi abariki se chunna bahut hi bada kaam hai or aap ise badi hi sundarta se kar rahi hai
    bahut bahut badhai
    meri rachna ko shamil karne ke liye dhnayvad :)

    ReplyDelete
  20. वंदना जी ,
    मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार ..
    पिछली कई बार से चर्चा मंच खुल नहीं पाया चाह के भी चर्चाएं पढ़ नहीं पायी.. आज किस्मत अच्छी रही.. बहुत सुन्दर रंग बिखेरे हैं आपने ..बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  21. kuchh link cover kar liye hain.vistrit charcha manch lagaya hai. aapki mehnat ko salaam.

    ReplyDelete
  22. सुन्दर चर्चा ... बेहतरीन लिंक्स .. मेरी पोस्ट को चर्चा में जगह मिली आभार ...
    बहुत अच्छी चर्चा पेश की है आपने।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin