Followers

Monday, March 07, 2011

इसे क्या नाम दूँ?………चर्चा मंच …………448

दोस्तों

आइये आज की सबसे बड़ी खबर की तरफ
आपको ले चलती हूँ ..........५ मार्च २०११ को
हमारी ब्लोगर दोस्त श्रीमती संगीता स्वरूप जी की
किताब "उजला आसमाँ"  का विमोचन 
हिन्दयुग्म के वार्षिकोत्सव में हुआ 
संगीता जी को चर्चामंच के 
सभी सदस्यों की तरफ से 
हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं 



चलिए दोस्तों अब चलते हैं 
आज की चर्चा की ओर 





जैसे आगमन हो बसंत का 


तो आ जायेंगे 


 जय हो ..........जय हो


बधाइयाँ 


 राज़ खोलता है बहुत


ओये-होए .........होली के रंग 


न जाने कितने अफसाने बने 


स्वागत है 


कुछ दिल से दिल की बात हो 


 कुछ न कहेगा


समझ सकते हो तो समझो 


कौन मानता है ?


कोई अपना सा लगता है 


और मैं आज भी 
उसी मोड़ पर 
 इंतज़ार में हूँ 



 सफ़र जारी रहता है


हार्दिक शुभकामनाएं 
नया दौर है 


 सही कह रहे हैं 


श्याम सलोना रे 


महिला दिवस 

दर्द की ताबीर 

 

ख़ामोशी
ध्यान से सुनो
ख़ामोशी की भी
आवाज़ होती है 

जीना खुद ही सीखना होगा 
 कोई और न छोर 
उसी को नमन है 
राज़ को राज़ रहने दिया होता 
तो जीवन संवर गया होता
जरूर देखेंगे जी 
मन का आप खोय 
राख भी  जलाती  है 
ताकि खुद को जान सकूं 
 स्वागत है
और कोई नाम न दो 
बाकी तो सब सपना   




चलिए दोस्तों 
आज के लिए इतना ही 
कल चर्चामंच पर 
महिला दिवस पर 
कुछ तो विशेष 
अवश्य होगा  

42 comments:

  1. बहुआयामी चर्चा के लिए हार्दिक बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  2. संगीता जी को चर्चामंच के
    सभी सदस्यों की तरफ से
    हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं
    --
    बहुत बढ़िया चर्चा!
    आपने तो आज बहुत उपयोगी लिंक दे दिये पढ़ने के लिए!

    ReplyDelete
  3. संगीता जी को हार्दिक बधाई ...
    अच्छे लिनक्स लिए को बेहतरीन चर्चा के लिए आभार ...वंदनाजी

    ReplyDelete
  4. संगीता जी को ढेर सारी शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  5. सबसे पहले तो संगीता जी को पुस्तक विमोचन के लिए ढेर सारी मुबारकबाद.

    आजकी चर्चा भी काफी उपयोगी लग रही. कुछ लिंक्स पे तो विचरण हो गया शेष अभी जारी हैं.

    उत्तम चर्चा के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  6. संगीता जी को बहुत बधाई!
    अच्छी चर्चा !

    ReplyDelete
  7. संगीता जी को पुस्तक विमोचन पर हार्दिक बधाई !
    बहुत से अच्छे लिंक्स से सजी इस चर्चा के लिए आभार ...मेरी कविता "तुमने कहा था" भी शामिल हुई आपकी चर्चा में, शुक्रगुजार हूँ !
    शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  8. बहुत उत्तम चर्चा.

    ReplyDelete
  9. संगीता स्वरूप जी को बहुत-बहुत बधाइयाँ!!!

    पढने के लिए बढ़िया लिंक्स मिले...

    ReplyDelete
  10. संगीता जी को बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.आपने मेरी पोस्ट 'ऐसी वाणी बोलिए'
    को चर्चामंच में शामिल किया इसके लिए आभार आपका.आपने उपयोगी लिंक दिए हैं चर्चामंच के माध्यम से .शुक्रिया .

    ReplyDelete
  11. आद. वंदना जी,
    संगीता जी को उनकी काव्य कृति "उजला आसमाँ" के विमोचन के लिए ढेरों बधाईयाँ !
    सुन्दर लिक्स से आज का चर्चा मंच सजाने के लिए आपका धन्यवाद एवं आभार !

    ReplyDelete
  12. वंदनाजी हार्दिक बधाई
    अच्छे लिंक दिये पढ़ने के लिए, बेहतरीन चर्चा के लिए आभार ...
    संगीता जी को पुस्तक विमोचन के लिए ढेर सारी मुबारकबाद.

    ReplyDelete
  13. सुश्री संगीता स्वरुपजी को हार्दिक बधाईयां...

    ReplyDelete
  14. संगीता जी को हार्दिक बधाइ एवं शुभकामनाएं ....
    बहुत बढ़िया चर्चा ...

    ReplyDelete
  15. वंदना ,

    बहुत बहुत शुक्रिया ...आज की चर्चा देख अच्छा सरप्राईज़ मिला ....यह तो सोचा ही नहीं थ :):) आभार

    अच्छे लिंक्स से सजी अच्छी चर्चा ....

    ReplyDelete
  16. "उजला आसमाँ" के विमोचन पर संगीता जी को
    हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनाएं ...

    बेहतरीन चर्चा के लिए हार्दिक आभार ....

    ReplyDelete
  17. संगीता जी को हार्दिक बधाई...सुन्दर लिंक्स से सजी बहुत ख़ूबसूरत चर्चा..मेरी रचना को चर्चा में सामिल करने के लिये धन्यवाद..आभार

    ReplyDelete
  18. संगीताजी!.. पुस्तक विमोचन के प्रसंग का मजा हमने बहुत लूटा!...आपकी भेट सर आन्खों पर...एक एक कविता,एक एक अनमोल मोती की तरह प्रतीत होती है!...प्रत्यक्ष्र मे मिलने का लुफ्त भी खूब हमने उठाया!...फिर एक बार मेरी तर्फ से हार्दिक बधाई!...

    वंदनाजी!..आपसे मिलकर बहुत खुशी हुई!...और भी बहुत से अपनों से मिलने का सुनहरा अवसर प्राप्त हुआ!...सभी को हार्दिक बधाई!...आयोजक हिन्दयुग्म के श्री.शैलेश भारतवासी को लख लख बधाइयां!

    ReplyDelete
  19. संगीता जी को हार्दिक बधाई ...
    and thanks for selecting my post for charchaa manch .

    ReplyDelete
  20. sangeeta ji ko bahut bahut 100 times..badhai
    aur apako is charcha ke 100 times abhaar :)

    ReplyDelete
  21. सर्वप्रथम संगीता जी आपके पुस्तक विमोचन हेतु हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ...बस दिल से यही दुआ है कि ऐसे ही आप अपनी काव्य रसों से साहित्य बगिया को सींचती रहे....आभार
    वंदना जी को बधाई आज के चर्चा मंच को यादगार बनाने हेतु...बहुत ही सुंदर लिंक्स मिले....खुबसुरत चर्चा....धन्यवाद।

    ReplyDelete
  22. संगीता स्‍वरूप जी को बधाई।
    अच्‍छी चर्चा।
    शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  23. वंदना जी आज की चर्चा सतरंगी नहीं बहुरंगी है । इसमें दर्द है , मौन है , दुख है रूमाल है ,नारी के मन का झरोखा है , एक साल का ब्लॉगिंग का सफर है और भी बहुत कुछ है। हां होली के रंग भी अभी से बरसने शुरू हो गए हैं ।
    और संगीता जी को बहुत बहुत बधाई आपको भी बधाई । बेटियों पर मेरी पोस्ट को इतने सारे रंगों का एक रंग बनाने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  24. sangeeta didi ko hardik badhai .
    uttam charcha ke liye bhi badhai ...

    ReplyDelete
  25. संगीता जी को बहुत बहुत बधाई ....

    वन्दना दी...आपका बहुत बहुत शुक्रिया ..संगीता जी की पुस्तक के विमोचन के बारे में हम सब को बताने के लिए....और इतने अच्छे अच्छे लिनक्स देने के लिए.

    और सब से बड़ी थैंक्स ..इसलिए...की आपने मेरी...रचना."बाबा का जन्मदिन" चुनी...ये रचना मेरे लिए बहुत खास थी.....और आपने इसे अपने चुनाव से चर्चा मंच में स्थान देके इसे और भी ख़ास बना दिया...मेरे बाबा के उपाहर को आपने खूबसूरत बना दिया
    बहुत बहुत धनयवाद

    ReplyDelete
  26. संगीता दी को पुस्तक के लिए हार्दिक बधाई ।

    आज की चर्चा मेँ बहुत ही सुन्दर रंग भरे हैँ । बहुत ही शानदार चर्चा है । मेरी रचना को भी स्थान देने के लिए बहुत बहुत आभार ।

    ReplyDelete
  27. charcha manch par peri agazal dikhane ke lie shukriya

    yhan tak charcha manch ki is post ki bat hai , yah sda ki tarah behtar hai
    ant men aadrniy sangeeta ji ko pustak ke vimochn par hardik bdhaai

    ReplyDelete
  28. संगीता जी को बधाइयाँ ... और आपकी चर्चा सरल और सुन्दर ..

    ReplyDelete
  29. सबसे पहले संगीता जी को बधाइयाँ....
    और वंदना जी का आभार... जिन्होंने मेरी रचना को यहाँ सबके सामने प्रस्तुत किया...
    सरकार की जी हुजूरी इतनी है के यहाँ आने का वक़्त तक नहीं मिलता.....
    खैर इस नाचीज़ को याद रखते हैं आप सभी.... इस लिए बहुत बहुत शुक्रिया.....
    अपना प्यार और स्नेह सदैव बनाये रखें......

    ReplyDelete
  30. मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए धन्यवाद,अच्छी चर्चा।

    ReplyDelete
  31. धन्यवाद, एक सशक्त और संछिप्त प्रस्तुति के लिए. जब मैं अपने निर्धारित समय में आपकी प्रस्तुति को पूरा पढ़ पता हूँ तो वह प्रस्तुति मेरे लिए संछिप्त प्रस्तुति हो जाती है.

    ReplyDelete
  32. संगीता जी को पुस्तक विमोचन पर हार्दिक बधाई...
    आज की चर्चा मेँ बहुत ही सुन्दर रंग भरे है...आभार

    ReplyDelete
  33. sangeetajee ko hardik badhyee.
    links fir hamesha ki tarah khoobsurti liye hue.

    ReplyDelete
  34. sangeeta ji ko badhayi.
    sunder charcha. bahut se link mile.
    aabhar.

    ReplyDelete
  35. संगीता जी एवं आपको शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  36. संगीता जी, चर्चा मंच के लिए आपने नज़्म पसंद की ये मेरी खुश किश्मती है, नमन सह.
    आपकी किताब विमोचन के उपलक्ष में आतंरिक ह्रदय से शुभकामनाएँ. आपका मार्गदर्शन बना रहे इसी उम्मीद के साथ, नमन सह .

    ReplyDelete
  37. संगीता जी को उनके पुस्तक के विमोचन केलिए बहुत बधाई|
    वंदना जी आपका बहुत आभार चर्चा मंच पर मुझे शामिल कर मेरा मान बढाने केलिए!

    ReplyDelete
  38. चर्चा मंच की स्तंभ, बेहतरीन कवयित्री और कुशल गृहिणी के काव्यसंग्रह के विमोचन के बारे में पढकर काफ़ी खुशी हुई।
    आज के मंच पर बेहतरीन लिंक्स के संयुजन के लिए आपका आभार वंदना जी।

    ReplyDelete
  39. पुस्तक के विमोचन व सुन्दर पोस्ट चयन के लिये बधाई...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"लाचार हुआ सारा समाज" (चर्चा अंक-2820)

मित्रों! रविवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...