चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Saturday, October 22, 2011

"तुम्हारी लीला तुम ही जानो-साहब आए और गये " (चर्चा मंच-675)

मित्रों!
प्रस्तुत है शनिवार की चर्चा!

क्या नाम दूँ........


अपनी इस पोस्ट को क्या नाम दूँ समझ में नहीं आ रहा है। सभी के जीवन में एक शब्द होता है उम्मीद, वो उम्मीद जो अकसर हम चाहे अनचाहे दूसरों से लगा बैठते हैं। कई बार यूँ भी होता है कि हम जानबूझ कर किसी से कोई उम्मीद लगाते है और उस उम्मीद के पूरा होने की आशा भी करते हैं। जैसे अगर मैं एक उदाहरण के तौर पर कहूँ कि पढ़ाई को लेकर माता-पिता की उम्मीद बच्चों से होती है। सभी यही चाहते हैं कि उनका बच्चा अपनी कक्षा में अव्वल दर्जे पर आये। पूरी कक्षा में उनके ही बच्चे के सबसे अच्छे अंक हो वगैरा-वगैरा। आखिर कौन नहीं चाहता कि उनका बच्चा तरक़्क़ी करे फिर भले ही उसका क्षेत्र कोई भी क्यूँ न हो, कोई भी क्षेत्र से यहाँ मेरा तात्पर्य है, जीवन में आगे बढ़ने का कोई भी सही रास्ता, ना कि कोई गलत तरीके से किसी गलत रास्ते को अपना लेना। इस प्रकार सभी के जीवन में अलग-अलग मुक़ाम पर अलग-अलग उम्मीदें जुड़ती चली जाती है।....
अमरप्रेम का दीपक

कैनवास

कितने चेहरे आये मेरी जिंदगी के कैनवास में

पर तेरे वज़ूद के सिवा किसी और में
भर ही नहीं पाई अपनी मोहब्बत के रंग ..... मैं
औरत नहीं कठपुतली
अनगिन हाथों में डोरी
रंगमंच पर घूमती फिरकी
सब चाहते उसमें अपना किरदार...
और अन्त में यह कार्टून!

27 comments:

  1. खूबसूरत चर्चा के बीच मेरी रचना को जगह देने के लिए शुक्रिया,शास्त्री जी.

    ReplyDelete
  2. अच्छी चर्चा सजायी है .......... शुभप्रभात !

    ReplyDelete
  3. aaj ki khoobsurat charcha me bahut achche link mile.meri ghazal ko shamil karne ke liye haardik aabhar.

    ReplyDelete
  4. बहुत उम्दा चर्चा ,
    शुक्रिया .

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत चर्चा ||

    ReplyDelete
  6. मेरे कार्टून को शामिल करने के लिए
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर :) ,

    ReplyDelete
  8. खूबसूरत चर्चा के बीच मेरी रचना को जगह देने के लिए धन्यवाद|

    ReplyDelete
  9. sundar rachnaein.sabhi lekhkon ko diwali ki subhkamnaein...

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर लिंक्स संकलन...मेरी रचना को स्थान देने के लिये आभार..

    ReplyDelete
  11. अच्छा चयन, मेरी पोस्ट को स्थान देने के लिए आभार !!

    ReplyDelete
  12. Kuch alag sa laga Charcha Manch main aana..... ise padhna.... bahaut hi badhiya rachnayain.....
    Cartoons ke kya kahane
    choti si meri rachna...yahan jagah pa gayi.... bahaut abhaut dhanyavad
    Aage bhi yun hi badhiya rachnayain padhne ko milengi.. aasha karti hun
    Sadhuvad

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन्………अच्छी चर्चा।

    ReplyDelete
  14. कार्टून का ज़वाब नहीं ...सुन्दर लिंक्स

    ReplyDelete
  15. बहुत उम्दा चर्चा ,
    शुक्रिया .

    ReplyDelete
  16. चर्चा मंच कि प्रस्तुति बहुत हि अच्छी रही|
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  17. वटवृक्ष पर प्रकाशित मेरी रचना को यहाँ लिंक करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद सर!

    सादर

    ReplyDelete
  18. चर्चा में लिख तो हैं, कुछ और परिचय देते तो पाठकों को सुविधा होती।

    ReplyDelete
  19. बेहतरीन लिंक्स का बेहतर संकलन... मजेदार... कोशिश करुंगा सबों को एक एक कर पढ़ने की... एक बाऱ फिर बेहतरीन लिंक्स की चर्चा सजाने के लिए बधाई...

    ReplyDelete
  20. बहुत अच्‍छी चर्चा .. लिंकों के लिए आभार !!

    ReplyDelete
  21. अच्‍छी चर्चा।
    आभार.....

    ReplyDelete
  22. विस्तृत चर्चा ...
    चर्चा में शामिल किये जाने का आभार!

    ReplyDelete
  23. सुन्दर सार्थक चर्चा.बहुत आभार आपका.

    ReplyDelete
  24. achchha laga, khud ko yahan pe pakar!!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin