Followers

Monday, October 31, 2011

प्यार में हिसाब नहीं जानता (सोमवारीय चर्चामंच 684)

     दोस्तों! मैं चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ फिर हाज़िर हूँ सोमवारीय चर्चामंच पर बहुरंगी चर्चा लेकर। सदी के महान् साहित्कार, व्यंग्यकार और भारतीय सामाजिक परिवेश के वास्तविक तथा सच्चे चितेरा आदरणीय श्रीलाल शुक्ल जी को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि। अब चलते हैं सीधे लिंकों पर-
_______________________
 नं. 1-
     परम् ख़ुशी का विषय है कि पूरी दुनिया में शायद पहली दफ़ा ब्लॉग पर स्थित किसी सामग्री को शोध में शामिल किया गया है और इस पुनीत कार्य को अंजाम दिया है शालिनी पाण्डेय जी ने। उन्होंने हिन्दी के चुनिन्दा यात्रा-वृत्तों को, जो ब्लॉग पर प्रकाशित हैं, अपने शोध में शामिल किया है। इससे न केवल हिन्दी ब्लॉग-लेखन को बढ़ावा मिलेगा अपितु उसकी गुणवत्ता में भी इजाफ़ा होगा। शालिनी जी यक़ीनन बधाई और धन्यवाद की पात्रा हैं। उनके इस साधु प्रयास को देखिए उनके ब्लॉग "हिन्दी भाषा और साहित्य" पर 'ब्लॉगों पर स्थित कुछ प्रमुख यात्रा-वृत्त तथा उनके लेखकों का परिचय और समीक्षण' नामक शीर्षक में
My Photo
_______________________
2-
अरुण कुमार निगम जी का कहना है 'प्यार में हिसाब नहीं जानता' तो भाई निगम जी आप जानेगे ही कैसे जब प्यार में हिसाब होता ही नहीं
My Photo
_______________________
3-
घुटी घुटी सिसकियों में,
चंद साँसें अभी बाकी हैं
My Photo
_______________________
4-
DR.JOGA SINGH KAIT JOGI
_______________________
5- 
दोहे: तन-मन-धन-जन-अन्न  -mahendra verma
My Photo
_______________________
6-
भारतीय काव्यशास्त्र–89 -आचार्य परशुराम राय
_______________________
7-
अमृता तन्मय के शून्य दिमाग़ में...
My Photo
_______________________
8-
_______________________
9-
My Photo
_______________________
10-
वाह रे, रथयात्री!! -उड़न तश्तरी ....
_______________________
11-
_______________________
12-
मध्यकालीन भारत - धार्मिक सहनशीलता का काल (आठ) 
-मनोज कुमार
मेरा फोटो
_______________________
13-
शब्दों का उजाला
_______________________
14-
आधा सच... अब तो देर हो गई अन्ना... -महेन्द्र श्रीवास्तव
_______________________
15-
मेरा फोटो
_______________________
16-
_______________________
17-
इनायत हो गयी... विशाल जी! बधाई
मेरा फोटो
_______________________
18-
साधना वैद्य जी का एक और तमाशा
मेरा फोटो
_______________________
19-
मेरा फोटो
_______________________
20-
वेरा की लड़ाई---जो न कह सके--- सुनील दीपक जी
मेरा फोटो
_______________________
21-
पचरंगी फूल खिलाओगे! डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
उच्चारण
_______________________
22-
मेरा फोटो
_______________________
23-
काँच के रिश्ते? -निवेदिता
मेरा फोटो
_______________________
24-
_______________________
और अन्त में
25-
_______________________
आज के लिए इतना शायद पर्याप्त होगा, फिर मिलने तक नमस्कार!

32 comments:

  1. अद्यतन लिंकों से सजी सुरुचिपूर्ण और पठनीय चर्चा प्रस्तुत करने के लिए आभार!

    ReplyDelete
  2. बहुआयामी चर्चा |पर्याप्त महनत से सजाया है चर्चा मंच |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |पच्रंगे फूल खिलाओ पर शायद आइना झूट बोलता है ,अच्छी लगीं |

    आशा

    ReplyDelete
  3. चर्चामंच के लिये आपने मेरी रचना का चयन किया चकित हूँ साथ ही आभारी भी हूँ ! आपका बहुत बहुत धन्यवाद गाफिल जी !

    ReplyDelete
  4. विस्तृत चर्चा , अच्छे लिंक्स !
    आभार!

    ReplyDelete
  5. गाफिल साहिब,आपकी इनायत हो गयी.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर चर्चा...
    सादर आभार...

    ReplyDelete
  7. अच्छे लिनक्स लिए बेहतरीन चर्चा ...

    ReplyDelete
  8. विविधतापूर्ण चर्चा।
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  9. चर्चा-रानी को मिले ,आभूषण पच्चीस
    कोई ना उन्नीस है , हर कोई है बीस.
    हर कोई है बीस,दिवाली-मिलन की बेला
    लाखों तारे साथ , रहे क्यों चंद्र अकेला.
    सजा मिलन का मंच,हृदय में उठी रवानी
    यूँ ही सजती रहे सर्वदा चर्चा-रानी.
    **********
    हमको भी शामिल किया , गाफिल जी आभार
    मिलन-मंच पर आओ सब मिलजुल बाँटें प्यार.

    ReplyDelete
  10. shukria galif ji aapka meri likhi krition ko yahan rakhne ke liye aur itne achhe links dene ke liye abhaar aapka

    ReplyDelete
  11. आदरणीय श्रीलाल शुक्ल जी को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि

    ReplyDelete
  12. @अरुण कुमार निगम
    चर्चा-रानी को मिले ,आभूषण पच्चीस
    कोई ना उन्नीस है , हर कोई है बीस.
    हर कोई है बीस,दिवाली-मिलन की बेला
    लाखों तारे साथ , रहे क्यों चंद्र अकेला.
    सजा मिलन का मंच,हृदय में उठी रवानी
    यूँ ही सजती रहे सर्वदा चर्चा-रानी.

    बहुत बहुत धन्यवाद ||

    ReplyDelete
  13. लगभग सभी पढ़ आये, धन्यवाद

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन चर्चा के साथ अच्‍छे लिंक्‍स ...आभार ।

    ReplyDelete
  15. अच्‍छी चर्चा।
    बे‍हतर लिंक।
    आभार।

    ReplyDelete
  16. शालिनी जी को शुक्रिया जो उन्होंने अपने शोध में ब्लाग के यात्रा वृतांत को शामिल किया है।

    सुंदर चर्चा

    ReplyDelete
  17. अच्छी चर्चा है। प्रायः सबके लिए कुछ न कुछ।

    ReplyDelete
  18. बहुत अच्छे लिंक्स, बहुत अच्छी चर्चा !

    ReplyDelete
  19. bahut sundar charcha...abhi maine kuch links dekhe ..charcha bahut achhi lagi... abhi maine charcha kaa anad le rahi hun... aadar sahit

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर चर्चा...अच्छे लिंक्स..आभार

    ReplyDelete
  21. विविधता से भरे चर्चा सूत्र।

    ReplyDelete
  22. आपकी यह रंगीन चर्चा मन को भा गई।

    ReplyDelete
  23. सारगर्भित चर्चा.

    ReplyDelete
  24. गाफिल जी, आपने चर्चा मंच बहुत ही सुन्दर ढंग से सजाया है। स्व. श्री शुक्ल को भावभीनी श्रद्धांजलि।

    ब्लॉग जगत में चर्चित यात्रा-वृत्त पर शोध प्रबन्ध के लिए शालिनी जी को बहुत-बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  25. मनोज ब्लॉग से भारतीय काव्यशास्त्र-89 को चर्चा मंच पर स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद।

    ReplyDelete
  26. सात रगों सजा सुंदर चर्चा मंच सुंदर प्रस्तुतिकरण....हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  27. सार्थक और सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  28. अति सुन्दर चर्चा शालिनी जी को बधाई

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...