Followers

Monday, November 07, 2011

महक उठीं क्यारियाँ चमन में (सोमवारीय चर्चामंच-691)

मेरा फोटो

     दोस्तों! मैं चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ फिर हाज़िर हूँ सोमवासरीय चर्चामंच पर बहुरंगी चर्चा लेकर। आज आप सब आनन्द लें सीधे लिंकों का-

 नं. 1-
My Photo
इस्मत ज़ैदी जी पेश कर रही हैं एक तरही ग़ज़ल आँख मिचोली धूप
_______________________
2-
एक खास ओ आम व्यक्ति को भावपूर्ण विनम्र श्रद्धांजलि दे रही हैं पल्लवी सक्सेना जी...मेरी तरफ़ से भी भावभीनी श्रद्धांजलि
_______________________
3-
मेरा फोटो
झरोखा से एक पोस्ट '.........' भी
_______________________
4-
My Photo
_______________________
5-
महक उठीं क्यारियाँ चमन में -डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
उच्चारण
_______________________
6-
व्यर्थ आंसू ...दिल की बातें
_______________________
7-
My Photo
जरूरी तो नहीं...अरुण कुमार निगम जी
_______________________
8-
My Photo
बातें हैं...-अमृता तन्मय!
_______________________
9-
मित्र! मधुर सपने
My Photo
_______________________
10-
_______________________
11-
My Photo
_______________________
12-
दुनिया रंग रंगीली...सब जानते हैं हम
_______________________
13-
मेरा फोटो
_______________________
14-
My Photo
_______________________
15-
मेरा फोटो
_______________________
_______________________
17-
मेरा फोटो
_______________________
18-
मेरा फोटो
_______________________
19-

नज़र-ए-माहताब -प्रियंकाभिलाषी
_______________________
20-
_______________________
21-
_______________________
22-
_______________________
23-
My Photo
प्रियंका जी का दिल
_______________________
24-
एक प्यास मेरी भी...अपनो का साथ
_______________________
25-
मेरा फोटो
_______________________
26-
मेरा फोटो
_______________________
27-
My Photo
_______________________
28-
_______________________
29-
My Photo
_______________________
और अन्त में
31-
मेरा फोटो
________________________
आज के लिए इतना शायद पर्याप्त होगा, फिर मिलने तक नमस्कार!

33 comments:

  1. एक सार्थक और बेह्तरीन चर्चा ।
    चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी बहुत बहुत आभार ।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर और सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  3. बढ़िया लिंक्स के साथ बढ़िया चर्चा

    ReplyDelete
  4. Nice Links .

    Eid Mubarak ..

    ब्लॉगर्स मीट वीकली (16)
    ईद मुबारक

    http://hbfint.blogspot.com/2011/11/16-eid-mubarak.html

    ReplyDelete
  5. bahut badhia charcha ....
    bahut sarthak links mile ...abhar.

    ReplyDelete
  6. बड़े सुन्दर और पठनीय सूत्र।

    ReplyDelete
  7. पठनीय लिंक्स,
    मेरी ग़ज़ल को स्थान देने का शुक्रिया!

    ReplyDelete
  8. चर्चामंच की एक और सुन्दर चर्चा
    ठाले-बैठे को स्थान देने के लिए आभार

    ReplyDelete
  9. मज़ा आ गया आपके लिंक चयन को देख कर।

    ReplyDelete
  10. आपके बताए लिंकस पर जाने का प्रयास रहेगा। आभार।

    ReplyDelete
  11. बढ़िया चर्चा... सार्थक लिंक्स...
    सादर आभार....

    ReplyDelete
  12. bahut hi sundar roop rang ke saath badhiya links ke liye bahut bahut shukriya
    meri rachna ko ap ne gunijan ke madhy sthan diya us ke liye aabhaaree hoon

    ReplyDelete
  13. ढेर सारे अच्छे लिंक्स !
    आभार!

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन लिनक्स के साथ सुन्दर चर्चा.

    ReplyDelete
  15. sundar charchaa. har baar ki tarah iss baar bhi aapki mehhanat saaf nazar aa rahi hai. main isee mehanat ko naman karata hoon. dhanywad.

    ReplyDelete
  16. bahut sarthak links... ismei meri post ko shamil karne ke liye bahut bahut dhanybaad....aabhar

    ReplyDelete
  17. सुंदर लिंक्स, अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  18. एक सार्थक और बेह्तरीन चर्चा
    आभार!

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर लिंक्स संजोये है …………सुन्दर चर्चा।

    ReplyDelete
  20. बहुत अच्छे लिंक्स

    ReplyDelete
  21. बहुत अच्छे लिंक्स,सुन्दर प्रस्तुतीकरण !

    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है कृपया अपने महत्त्वपूर्ण विचारों से अवगत कराएँ ।
    http://poetry-kavita.blogspot.com/2011/11/blog-post_06.html

    ReplyDelete
  22. बढ़िया चर्चा...
    सार्थक लिंक्स...
    आभार......

    ReplyDelete
  23. हर बार की तरह इस बार भी चर्चा-मंच के समस्त लिंक्स एक से बढ़ कर एक है, सब लाजवाब लिंक्स...
    धन्यवाद गाफिल जी मुझको भी स्थान देने के लिए

    ReplyDelete
  24. आदरणीय मिश्रजी सादरवंदन बहुत ही खुबसूरत प्रयास साहित्य सन्दर्भों में विवेकपूर्ण व प्रभावशाली ....शुभ कामनाओं के साथ ......

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर लिंक्स के साथ सार्थक चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  26. बढिया चर्चा।
    बेहतर लिंकस्।

    ReplyDelete
  27. मेरी रचना को शामिल करने के लिए आपका आभार!

    ReplyDelete
  28. सार्थक और सौदेश्य प्रस्तुति सुन्दर संयोजन बेहतरीन लिंक्स लिए अच्छी चर्चा .बधाई gaafil saah

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...