चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Saturday, February 04, 2012

"काश मैं बदल सकता वक़्त" (चर्चा मंच-779)

मित्रों!
शनिवार की चर्चा के लिए
मेरी पसन्द के लिंक देखिए!
मेरा परिचय यहाँ भी है!
आज मेरा जन्मदिन है!
दिल के मतदान की तिथि १४ फरवरी नजदीक है ,
हफ्तों पहले लडके और लड़कियां यूद्ध स्तर पर तैयारी पे लगे हैं,
कोई इन्टरनेट से प्रचार कर रहा है,.....
अगर हो सके तो प्यार के फूल खिलाना
जिससे महक सके घर आंगन
अगर ऐसा संभव न हो तो कम - से -
कम बचना नफरत की दीवार उठाने से ...
आखिर ये दिन आ गया , बहुत दिनों के बाद ।
टूट गया क्रम हर का , चखा जीत का स्वाद ।।..
कभी भी कोई भी आत्मसम्मान वाला देश और उसके देशवासी अपने देश को लूटने , अपनी बहन बेटी के बलात्कार करने वाले और हर तरह के व्यभीचारी आक्रमणकर्ताओं के द्वारा लिखा इतिहास स्वीकार नही कर सकते......तो फिर हम लोगो को क्या हो गया है जो हम महाराणा प्रताप को कायर और अकबर को महान बोलते है?....अकबर को महान बोलने वाले लोग यहाँ पर देखे...की कैसे हम लोगो से सच को छुपा कर आज तक गुलाम बना कर रखा गया है...
क्या अकबर महान था ?
अनुराग अनंत के ब्लॉग पर उनकी रचना पढ़ कर
जो मन में भाव उठे ..
उनको आपके साथ बाँट रही हैं ..
मुस्कुराती तस्वीर
लोमड़ी और सारस की काव्य-कथा पढ़िए
बच्चों का कोना में!
- गहरे दोस्त लोमड़ी सारस, रहते थे एक नदी किनारे.
कहा लोमड़ी ने सारस से, खाने पर घर आओ हमारे.
सूट, बूट और टाई पहन कर,
सारस घर से निकला सजकर..,..
ज़ेर-ए-लब भी हम शिकायत कर ना सके
दर्द-ए-दिल कागज़ पर हम रचते रहें*
*वे खुश होकर पढ़ते, तारीफ़ करते रहे ...
दिग्विजय सिंह ने 'लाटूर के भूकंप' और
'जापान की सुनामी' के लिए भी 'RSS' को जिम्मेदार ठहराया।
जय हो ! झक्की दिग्गी!
गाड़ी छुक-छुक चल रही, तेइस घंटे लेट ।
चौदह को निश्चित करे, वेलेन्टाइन डेट
कलमदान
- *सूरज न मुख करियो मेरी ओर* * बसंती हो जाऊँगी...*
* रंग बसंत ,राग बसंत ,रुत बसंत *
* बसंत ही में ढल जाऊँगी *
* फिर ओढ़ बसंती चुनरी *
* मन ही मन इठलाऊँगी...
वो एक बेचैन सी सुबह थी,
आस पास लोगों की भीड़...
कई सारे अपने से चेहरे,
जैसे सभी से एक न एक बार मिल चुका हूँ कहीं,
बस अपने आप को ....
अबके आना तो चराग़ों की हंसी ले आना
जब मेरा मन उदास होता है
तो उदासी चाहती है कि, शब्द उसे गले लगा लें...!
कोई मौन दयालु हो जाए और,
वाणी को वहीँ से श्रोत मिले ऐसा श्रोत-
जिसमें शब्द तो हों पर...
जीवन का वरदान!
.कृष्ण लीला .........भाग 36
इक दिन मोहन मन -मोहिनी रूप बनाये
यमुना किनारे खेलने गए
किरीट कुंडल पहने उपरना ओढ़े
लकड़ियाँ हाथ में लिए
पीताम्बर डाले सखा के
कंधे पर हाथ धरे खड़े थे...
मुम्बई दो छोरों का शहर है

इनका शुभ नाम है - चन्द्र मौलेश्वर प्रसाद,
इनकी Industry है Non - Profit
और ये
Occupation से हो चुके हैं - सेवा निवृत्त ।
नूतन मनहरण.... किरण से
त्रिभुवन को जगा दो
निहारूं तुम्हारे आँखों पर आये
अपार करुणा को नमन है
निखिल चितचारिणी धरित्री को
जो नित्य नृत्य करे --
पहाड़ उसे बुला रहे
अश्रुपूरित नयनों से
वह देखती अनवरत
दूर उस पहाड़ी को
जो ख्वावगाह रही उसकी
आज है वीरान
कोहरे की चादर में लिपटी
किसी उदास विरहनी सी ...
*कलियों फूलों पर मंडराया।।***
*यह गुंजन करता उपवन में।***
*गीत सुनाता है गुंजन में।।***
*कितना काला इसका तन है।***
*किन्तु बडा ही उजला मन है.......
चेहरा -
राधा जिसकी तारीफ करते लोग थकते नही,
चाहे वो उसके रिश्तेदार हो,
आस- पडोस के लोग हों या उसके मित्र ।
सभी कहते जिस घर जायगी,
वो बहुत ही भाग्यवान होगा । मगर ...
विश्वास-अविश्वास-विश्वास
सर्द रात फटे हुए कपड़ों में सर घुटनों में छुपाए
सिसकियाँ ले कर आंसू बहा रही थी
सर्दी में काँप रही थी
उस पर मेरी दृष्टि पडी
रोने का कारण जानने की...
काश मैं बदल सकता वक़्त
गुज़रते हुए देखें हैं, साल कई;
गुज़रते हुए देखें हैं, लोग कई.
पर दर्द असहनीय और गहरा देखा;
जब बेटे को पिता के कंधों पर जाता देखा.
काल से पूछता हूँ,....
जागो सखी, जागो बसंत आ गया .........
अवनी के कण-कण में.
अपरमित उल्लास है छाया
जागो, जागो .... जागो सखी,
जागो बसंत आ गया .....
बसंत कब घबराता है
हाथों में फूलों को लेकर
जब तुम मुस्काती हो
तब सावन मुस्काता है ।
नयनों में काजल भरकर
जब पलकें गिराती हो
तब भादों शरमता है .....
विडम्बना
एक तरफ बनाकर देवी,
पूजते हैं हम नारी को,
भक्ति भाव दर्शाते हैं,
बरबस सर नवाते हैं,
माँ शारदे के रूप में
कभी ज्ञान की देवी बताते हैं..
_________________


बेसुरम का यह भी एक सुर- ये बलात्कारी डॉक्टर!!
बेसुरम्‌
________________


अन्त में देखिए
ये कार्टून!

21 comments:

  1. बेहतरीन चर्चा , नया सुन्दर और आकर्षक अंदाज ,

    मेरी रचना "दिल के मतदान का घमासान " को शामिल करने के लिए आभार .

    सादर

    कमल

    ReplyDelete
  2. जन्म दिन की जी गुरु-
    शत शत बधाई |
    साल के सद्कर्म की वह रोशनाई --
    आज बैलूनों में टँगी शोभा बढाए
    व्यर्थ कहते हैं उमर इसने घटाई --

    जलपोत जीवन का कहाँ स्थिर रहा कब -
    चल रहा, चलता रहा कल्याण करता
    लहर उसकी क्या बिगाड़ें --कुछ भी नहीं तो--
    आज तक
    झंडे सफलता के गड़े- गड़ते रहेंगे--
    हाँ गुरूजी
    आप यूँ चलते रहेंगे --
    मार्गदर्शन शिष्य का करते रहेंगे --

    शत शत बधाई ||

    ReplyDelete
  3. जन्मदिन की अनेक शुभकामनायें !
    पोस्ट के लिंक्स सजाने का अंदाज बहुत ही
    बेहतरीन लगा ! बहुत बहुत आभार मेरी रचना शामिल करने के लिये !

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति
    आभार!
    जन्मदिन की शुभकामनायें:)

    ReplyDelete
  5. शृंगार के साथ चर्चा, अभिनव प्रस्तुति!!

    जन्मदिन की अनंत शुभकामनायें!!

    'निरामिष' के आलेख को चर्चा की कमान पर चढ़ाने का शुक्रिया!!

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन और सार्थक चर्चा ।
    आपका बहुत बहुत आभार ।
    जन्मदिन की शुभकामनायें:)

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन चर्चा , कई सारे लिनक्स मिले, आभार
    जन्मदिन की शुभकामनायें स्वीकारें

    ReplyDelete
  8. Nice .

    कैंसर का इलाज आसान है
    कैंसर का शुमार आज भी लाइलाज बीमारियों में होता है तो इसके पीछे सिर्फ़ पैसे की हवस है।
    see :
    http://hbfint.blogspot.in/2012/02/cure-for-cancer.html

    ReplyDelete
  9. बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  10. सश्रम सजाई गई बेहतरीन चर्चा । मेरी रचना "विडंबना" को स्थान देने के लिए आभार ।
    साथ ही जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ शास्त्री जी ।

    ReplyDelete
  11. सुंदर प्रस्तुति..
    जन्म दिन की बहुत२ बधाई ...

    NEW POST..फुहार..कितने हसीन है आप...

    ReplyDelete
  12. अच्छे चर्चमन्च के लिये बधाई....

    शास्त्रीजी का जन्म दिन है .....बधाई...
    ’स जातो येन जातेन याति वंश समुन्नितं’

    ReplyDelete
  13. उम्र कम होने की हो क्यों फ़िक्र यारा,
    एक दिन का और अनुभव जुड गया।
    कौन लम्बी उम्र पाकर जी गया,
    चार दिन सत्कर्म के ही उम्र यारा ॥

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर लिंक्स...रोचक चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  15. मेरे कार्टून को भी सम्मिलित करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  16. बहुत बढ़िया लिंक्स के साथ सुन्दर सार्थक चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  17. जन्मदिन की बधाई.

    मेरी रचना को भी सम्मिलित करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  18. जन्म दिन की बधाई......!!
    Thanks for all the creative blogs....
    really Nice.:)

    ReplyDelete
  19. मेरे लिंक को अपना 'मनपसंद ' ,कहने के लिए धन्यवाद ,आशा करती हूँ की औरों को भी पसंद आया होगा ..
    सभी लिनक्स जो आपने चर्चा में संजोये हैं ,सुन्दर हैं..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  20. उम्दा एवम काम की लिंक्स से लबालब चर्चा
    आभार लीजिये

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin