समर्थक

Thursday, April 12, 2012

चर्चा - 847

आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 
चलिए चर्चा की ओर
उच्चारण
पूनम जी प्रस्तुत कर रही हैं जावेद अख्तर जी की ग़ज़ल 

मानवाधिकार हनन की बढती घटनाएं और हमारा तन्त्र ------ लोकसंघर्ष का संघर्ष 
My Photo
पढ़िए कैलाश शर्मा जी के हाइकु 
My Photo
यह शिकवा नहीं अरुण जी की सिफारिश है 
निरामिष
स्वास्थ्य चर्चा - रत को सोते समय ध्यान रखिएगा इन कुछ उपयोगी बातों का 
चित्र:Bridal pink - morwell rose garden.jpg
काँटों से बचो पर फूल को न छोडो - ऐसा ही कुछ है वटवृक्ष पर 

क्या कर रहे हो ???

मुझे पता है तुम क्या सोचते हो मेरे बारे में 
My Photo
स्वाती जी कह रही हैं ---- सुनो श्याम 
main aur mera dost_thumb[1]
किस्सा तुतुलाह्ट का 
 
चलो एक दल बनें ------ टीम स्प्रिट 

शहर के जंगल में जानवर 

होंठ रसीले 

रंगरेजन

याद कीजिए प्रवीन बाबी को 

ब्लॉग विचार पर हैं गाँधी जी और गांधीवाद 

अलबेला जी की गाँधी जी से असहमति 

ये है माया बाई का मुजरा 

किस तरह जीयें यहाँ हैं , यार काँच के.

मिलिए दीनदयाल जी से 

पहचानिए इस नन्हे ब्लोगर को 

अंत में 
प्यार की खुशबू फैले आओ दुआ करें 
आज के लिए बस इतना ही
धन्यवाद
दिलबाग विर्क 
***************************

23 comments:

  1. धन्यवाद मित्रवर विर्क जी!
    कल रात को देहरीदून से लोट आया हूँ।
    अब नियमित हो गया हूँ।
    --
    चर्चा बहुत अच्छी लग रही है।

    ReplyDelete
  2. जय हो चर्चाकार की चर्चा दिये बनाये
    शिक्षक जैसे कक्षा का होमवर्क दे जाये
    होम वर्क मिल जाये दिनभर काम करेंगे
    पढ़ पढ़ उत्तम लिंक्स टिप्पणी एक धरेंगें
    मेहनत आप की देख दिल बाग बाग हो जाये
    उल्लूक आप से रोज रोज कैसे टकरा जाये
    प्रेम आप का देख देख उल्लू का दिल भर आये।

    आभार !!

    ReplyDelete
  3. बढ़िया चर्चा |

    बधाई भाई जी ||

    ReplyDelete
  4. बड़े ही सुन्दर सूत्र पिरोये हैं।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर लिंक्स.मुझे स्थान दिया,आभार.

    ReplyDelete
  6. दिलबाग जी ने बहुत ख़ूबसूरती से लिंक्स का चयन किया है। जिसमें साहित्य के साथ ब्लॉग जगत के ताज़ा घटनाक्रम की भी अक्कासी हो रही है।

    ReplyDelete
  7. दिलबाग जी चर्चामंच पर मेरा ब्लॉग शामिल करने के लिए बहुत-बहुत (धन्यवाद - शुक्रिया- आभार)


    अरुन शर्मा

    ReplyDelete
  8. bahut rupahli charcha.achchi sootron se susajjit.

    ReplyDelete
  9. मेरी कविता को शामिल करने के लिये दिल से शुक्रिया दोस्त . लिंक्स सभी अच्छे है .. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  10. सुन्दर लिंक्स...बहुत रोचक चर्चा...मेरी रचना को स्थान देने के लिये आभार....

    ReplyDelete
  11. आदरणीय दिलबाग विर्क जी,

    आपने चर्चामंच पर माया बाई का मुजरा करवा कर बड़ा अच्छा काम किया है। आपका किन शब्दों में शुक्रिया करूँ। हमें दो पैसे मिल गये। और आजकल मायाबाई भी फालतू ही बैठी थी। वैसे आजकल जबसे अखिलेश बाबू दारोगा बने हैं, उन्होंने लखनऊ के सारे कोठों पर माया के मुजरे पर पाबंदी लगा दी है। और भी कहीं मौका हो मुजरा करवाना हो तो सेवा का अवसर देना। आपके लिए तो मायाबाई तो खाली बख्शीश में भी नाच लेगी।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर लिंक्स.मुझे स्थान दिया,आभार.

    ReplyDelete
  13. सुन्दर चर्चा मंच सजाया है।

    ReplyDelete
  14. सुन्दर चर्चा मंच सजाया है।

    ReplyDelete
  15. ऐसी चर्चा हर चिट्ठाकार के लिए ऊर्जादायी होती है।

    ReplyDelete
  16. आदरणीय दिलबाग विर्क जी सुन्दर मनभावन चर्चा ..सुन्दर लिंक्स , हर तरह के रंगों को संजोती हुयी -बधाई - मेरी भी एक रचना होंठ रसीले -रस रंग भ्रमर का से आप ने चुना सुन मन खुश हुआ
    जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  17. अनुपम लिंक संयोजन,..दिलबाग जी \,..बधाई

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  18. dilbag ji -charchamanch se hi dr.o.p.varma ji ki post ka link mila .MAYAVATI JI par aapattijanak post prastut ki gayi hai .charcha manch par aisi post ka link ek sateek tippani ke sath yadi aap karte to o.p. ji ko pata chalta ki is manch se aisi post ko sammanit nahi balki aalochna hetu prastut kiya gaya hai .any link behtar hai .aabhar

    ReplyDelete
  19. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स का चयन किया है आपने जिनके साथ मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  20. sundar prastuti.dilbag ji charcha manch par jis post ko sthan den uske bare me apne vichar bhi avashay vyakt karen ye main aapse pahle bhi kah chuki hoon aur aapke sath anya charcha karon se bhi yahi nivedan karti hoon kyonki o.p.varma ji jaise kutsit lekhan karne vale bloggar bhi ise apnee tareef main grahan karte hain .kripya ye charcha manch ke niyamon me shamil karayen..''manzil pas aayegi

    ReplyDelete
  21. ज़र्रा नवाज़ी के लिए शुक्रिया .

    ReplyDelete
  22. हार्दिक आभार सर जी

    ReplyDelete
  23. charcha manch me meri laghu kathye dekhne ko mili ,thanks

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin