समर्थक

Monday, April 09, 2012

खिल उठी है ज़िन्दगी फिर : सोमवारीय चर्चामंच-884

दोस्तों! चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ का आदाब क़ुबूल फ़रमाएं सोमवारीय चर्चामंच पर! पेशे-ख़िदमत है आज की चर्चा का-
 लिंक नं. 1- 
_______________
2-
मेरा फोटो
_______________
3-
_______________
4-
मेरा फोटो
_______________
5-
मेरा फोटो
_______________
6-
जीवन श्रम के लिए बना है -डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' उच्चारण
_______________
7-
My Photo
_______________
8-
_______________
9-
विमान परिचारिका -रजनी मल्होत्रा
मेरा फोटो
_______________
10-
_______________
11-
_______________
12-
My Photo
_______________
13-
मेरा फोटो
_______________
14-
My Photo
_______________
15-
_______________
16-
_______________
17-
यादें 'अब भी' 
My Photo
_______________
18-
_______________
19-
_______________
20-
_______________
21-
_______________
22-
_______________
23-
________________
24-
बेसुरम्‌
________________
25-
मेरा फोटो
________________
26-
पुस्तक समीक्षा "अनकहा सच" 
मेरा फोटो
________________
27-
Innovative Minds and Entrepreneurship (नवाचार व उद्यमशीलता) - पार्ट-2 

________________
28-
दीवार 
मेरा फोटो
________________
29-
ग़ज़ल 
दीजे हर दर्द को  मत  मेरी    रिहाइश    का  पता 
खुद नहीं देते अगर अपनी   निवाज़िश  का पता
मेरा फोटो
________________
30-
शुभ आशीषें(माँ के पत्र-३) 
मेरा फोटो
________________
और अन्त में
ग़ाफ़िल की अमानत
________________
आज के लिए इतना ही, फिर मिलने तक नमस्कार!

20 comments:

  1. कई महत्वपूर्ण चिठ्ठों को को शामिल करने का श्रम-साध्य और सराहनीय प्रयास गाफिल साहब - बहुत खूब

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    http://www.manoramsuman.blogspot.com
    http://meraayeena.blogspot.com/
    http://maithilbhooshan.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. चंद्र भूषन जी आज की चर्चा कड़ी महनत से सजाई लगती है |पुस्तक समीक्षाको शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  3. सुंदर लिंक्स उपलब्ध कराने के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा साजते,
    गाफिल ज्यों उद्यान |

    रंग-विरंगे पुष्प चुन,
    रविकर भरे उड़ान ||

    ReplyDelete
  5. साइनस और मधुमेह बीमारी
    काली मिर्च की चर्चा भी आ रही
    सुर में गांधी लौटते दिखाई देते हैं
    व्यायाम करते हुवे कभी
    कुछ बेसुरम भी होते हैं
    अच्छी चर्चा करने की बधाई है
    मेहनत आपकी बहुत रंग लाई है।

    ReplyDelete
  6. विविधता भरी भावपूर्ण चर्चा के लिए मिश्र जी को धन्यवाद व आभार ....

    ReplyDelete
  7. गाफिल जी, बहुत ही सुंदर सूत्रों से सँवारा गया चर्चामंच आपके परिश्रम को बयां कर रहा है, रात को फुरसत में सारे लिंक्स पढ़ूंगा, साभार...

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन भाव पुर्ण रचनाओ से सजी चर्चा मंच,सुन्दर प्रस्तुति...आभार

    ReplyDelete
  9. जीवें के सभी रंगों और आयामों को समेटे हुए एक अनुपम संकलन प्रस्तुत करने के लिए साधुवाद..

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया गाफिल जी.....

    बेहतरीन लिंक्स से संजोयी है चर्चा....

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  11. क्या कहने
    कहां कहां से तलाशे सुंदर लिंक्स
    बहुत बढिया

    ReplyDelete
  12. गाफिल साहब - बहुत खूब .

    ReplyDelete
  13. बहुत ही अच्‍छे लिंक्‍स का चयन किया है आपने .

    ReplyDelete
  14. अच्छी प्रस्तुति के लिये बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  15. गाफिल सब का मान बढाए , ,

    सुन्दर चर्चा मंच सजाये ,

    चाहे जो आये पढ़ जाए ,

    पढ़कर मन ही मन हर्षाये .

    ReplyDelete
  16. aabhar meri rachna ko sthan dene k liye. aapka prayas prashansneey hai.

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सुन्दर सूत्र।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin