Followers

Wednesday, May 01, 2013

बुधवासरीय चर्चा --- 1231 ...... हवा में बहे एक अनकहा पैगाम ....कुछ सार्थक पहलू

       चर्चा मंच सभी परिवार के सभी पाठक को शशि पुरवार का स्नेहिल नमस्कार!
मित्रों! 
      इस बार भी कुछ नया करने का प्रयास है आपके साथ आपके ब्लॉग के प्यारे लिंकों पर एक सार्थक चर्चा के साथ! 
     आशा है आपको मेरे द्वारा लगाए हुए लिंक्स पसंद आयेंगे!
 बेटे की माँ !
मेरा फोटो
रेखा श्रीवास्तव 
पात्रता की पहचान

अरविन्द मिश्रा
अनकहा पैगाम...
My Photo
अरुण कुमार निगम 
कभी मुंतज़िर चश्में......
मृदुला प्रधान 
My Photo
झरीं नीम की पत्तियाँ


कुछ  टी.वी. चैनल  हुये,  धन  के  बड़े  गुलाम |
‘ब्रेक डाँस’ के  नाम  पर,  उगल  रहे  ‘रति-काम’ ||
वित्त   कमाने  के   लिये,  नारी   ‘आधी नग्न’ |
‘सौदा’ कर  ‘नारीत्व’ का,  ‘स्वर्ण-रजत’ में  ‘मग्न’ ||
कितना  उच्छ्रंखल   हुआ,   ‘रस - राजा  श्रृंगार’  |
’पशु-संस्कृति’ का हो रहा, बिलकुल ‘खुला’ प्रचार।।
देवदत्त प्रसून 
कहानी: सूझबूझ
शोभना  वेलफेयर 
कली
तुषार राज रस्तोगी 
"फोटोफीचर-कुमुद" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

कमल हमेशा दिन में खिलता।
कुमुद रात में हँसता मिलता।।
(2)
अनुगूंज

जहां देखती हूँ वहीं तुझे पाती हूँ 
तेरी गूँज सुनाई देती सृष्टि के कण कण में ...
(3)
देश का आधार

*मजदूर दिवस पर विशेष ......
मुझे कुछ कहना है -----पर अरुणा 
(5)
मौत सस्ती ओर महेंगा कफन ( सरकारी सच्चाई )
My Photo
मौत से महेंगा कफन है दोस्तो इस देश मे .... 
क्योंकि ये सरकार यही चाहती है की इस देश की जनता ...
उसको वोट देनेवाली जनता भय,भूख, मे तड़पती रहे...

41 comments:

  1. शशि जी आपने आज चर्चा की सुन्दर प्रस्तुति दी है...!
    बुधवासरीय चर्चा --- 1231 ...... हवा में बहे एक अनकहा पैगाम ....कुछ सार्थक पहलू वाकई में सार्थक हैं!
    अब आप चर्चा लगाने में पारंगत हो गयी हैं।।
    बधाई के साथ-साथ शुभकामनाएँ भी...!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. tahe dil se bhaar shastri ji , arun ji , sneh banaye rakhen

      Delete
  2. बहुत ही बढ़िया लिनक्स लिए चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  3. शुभ प्रभात
    शशि दी
    बेहतरीन लिंक्स दिया आज आपने..
    मेरा दोपहर की समस्या हल कर दी आपने
    आभार
    सादर

    ReplyDelete
  4. bahut acche links .....padhne ke liye wakt nikalna hoga ...

    ReplyDelete

  5. बढ़िया चर्चा सजी आज
    खुलने लगे कई राज
    लिंक्स हैं बहुआयामी
    आपने सब मन की जानीं |
    अच्छी चर्चा |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  6. सुंदर चर्चा......
    पुरवा शीतल बह चली , सूत्र बनें नक्षत्र
    शशि-किरणें सुख बाँटती, यत्र तत्र सर्वत्र ||

    ReplyDelete
    Replies
    1. dhanyavad arun ji , doha bhi bahut sundar laga . sneh hetu abhaar

      Delete
  7. मिनी एग्रीगेटर है चर्चा मंच्

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर कड़ियाँ | मेरी रचना का चयन करने के लिए हार्दिक शुक्रिया | आभार

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर चर्चा एवं प्रस्तुतिकरण हार्दिक आभार शशि पुरवार जी.

    ReplyDelete
  10. सारे लिंक्स बेहतरीन हैं.. साथ मे 'Suhano Drishti' को यहां शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद....

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर और सार्थक चर्चा ...सारे के सारे लिंक बहेतरीन पढ़कर कुछ जानकारी भी मिली .. चर्चा मंच एक ऐसा मंच है जहां जो भी आता है कभी खाली हाथ लौटता नहीं है याने जो पाठक वर्ग है उसे बेहतर लिंक्स यहाँ पर मिल ही जाते है
    शुक्रिया आदरणीय शास्त्री जी
    मेरी पोस्ट को यहाँ शामिल करने के लिए दिल से शुक्रिया
    माफी चाहता हु की मै देर से आया

    ReplyDelete
  12. सरे लिंक्स मजेदार हे ! कभी हमारे ब्लॉग पर भी दस्तक दे ! और कोई पोस्ट अची लगे तो चर्चा मंच में हमें भी जगह दे ! मेरे ब्लॉग का पता हे

    http://hiteshnetandpctips.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. सभी लिंक्स सुन्दर हैं।
    हमारी रचना शामिल करने के लिए आभार शशि जी ....

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन चर्चा !!
    सादर आभार !!

    ReplyDelete
  15. बहुत सुंदर और सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  16. bahut badhiya ..shukriya is mein mere likhe ko sammlit karne ke liye

    ReplyDelete
  17. बेहतरीन लिंक्स.........मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार

    शुक्रिया आदरणीय शास्त्री जी ,शशि जी

    ReplyDelete
  18. बहुत बेहतरीन चर्चा,सुंदर प्रस्तुतिकरण,के लिए हार्दिक बधाई शशि पुरवार जी.

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दर चर्चा एवं प्रस्तुतिकरण हार्दिक आभार शशि पुरवार जी.शास्त्री जी के कोने में भूली बिसरी यादें को देखकर खुशी हुई,सादर धन्यबाद.

    ReplyDelete
  20. शशि जी मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत आभार

    ReplyDelete
  21. बेहतरीन लिंक्स.........मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  22. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति .....
    आभार ..

    ReplyDelete
  23. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  24. एक से अच्छी एक पोस्ट इस 'चर्चा मिच' के संघटक मंच पर दिखाई देती है !

    ReplyDelete
    Replies
    1. sabhi mitro ka dhanyavad aapne bahut sneh pradan kiya apna sneh banaye rakhen .:) aap sabhi ke anmol shabdo ke liye abhaar

      Delete
  25. नमस्कार शशिजी , मयंक जी सर्व प्रथम आभार मेरी रचना को स्थान दिया ...........
    ..........सभी लिंक एक से बढ़ कर एक ...........कुछ पढ़े और टिप्पणी भी दी.........

    ReplyDelete
  26. वाह गजब के लिंक्स
    एक से बढ़कर एक रचनायें
    सभी रचनाकारों को बधाई
    चर्चा मंच के शानदार संयोजन के लिये साधुवाद

    मुझे सम्मलित करने का आभार
    ,

    ReplyDelete
  27. सेहतनामा को बिठाने के लिए चर्चा मंच का शुक्रिया .बेहद की मेहनत से तैयार पोस्ट .सेतु चयन सार्थक विविध रंगी .

    ReplyDelete
  28. bahut hi rochak linko ka chyan kiya hai aapne shashi ji ............bahut pasand aaye sabhi links

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर प्रस्तुतीकरण एक साथ बेहतरीन लिंकों को संयोजन बहुत दुर्लभ काम है मयंक जी और शशि की आप ने इस संयोजन को बेहतरीन बनाया है बहुत बहुत धन्यवाद एवं सभी मित्रों को बधाई सभी रचनाएँ और लेख एक से बढ़कर एक हैं मेरी ओर से सभी मित्रों को शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  30. बहुत सुन्दर व सटीक ,,यथार्थ चर्चा

    विशेषकर ---
    ’पशु-संस्कृति’ का हो रहा, बिलकुल ‘खुला’ प्रचार ||
    ---- वे इसलिए नंगे थे कि सिर्फ लंगोटी उपलब्ध थी, ये इसलिए नंगीं हैं कि हीरे लगी लंगोटियां खरीद अकें ..

    ReplyDelete
  31. मेरी रचना को प्रकाशित करने के लिए हार्दिक आभार.सभी पोस्ट उत्तम लगे

    ReplyDelete
  32. सभी लिंक्स बेहद खूबसूरत लगे और मेरी रचना को प्रकाशित करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...