चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Monday, October 07, 2013

नवरात्र गुज़ारिश : चर्चामंच 1391

.... शुभम दोस्तों ....
जय माता दी 
मैं 
सरिता भाटिया 
चर्चामंच 1391 पर 
लाई हूँ 

नवरात्रि देवी भाग 2.

शारदेय नवरात्रे 

यहाँ अब कातिलों को आजमाने कौन आता है 

सीमा स्मृति 

जय माता दी 

राजा भृतहरि,रानी झरोखा चुनारगढ़

हालत अच्छे हैं और विचार सच्चे 

इतवारी डायरी 

मान लीजिए नया है 

बढ़े धरा की शान 


अपनी भारत माता 

सुनाई शंख देता है यहाँ शुभ काम से पहले 

श्राद्ध 

उपरवाला संतुलित जीवन देता है 

जिसका शायद कोई उत्तर नहीं 

प्यार में यारो दिल बहलाना ठीक नहीं 

 एक सुंदर भेंट सुनते हुए  
मुझे दीजिए इज़ाज़त 



बड़ों को नमस्कार 
छोटों को प्यार 
शुभविदा 
--
"मयंक का कोना"
--
कुछ तो दे......

सादर ब्लॉगस्ते! पर raviish 'ravi' 

--
औलाद की माँ-बाप से न प्रीत चली है .

 करनी पड़ें जब खिदमतें माँ-बाप की अपने , 
झगड़ों की रेल घर में देखो खूब चली है . ...
! कौशल ! पर  Shalini Kaushik

--
बड़ा सवाल कब जागेगा भारत स्वाभिमान ..?

आज़ादी का दम भरने वाले भारतीयों के लिए १९४७ से पहले वाले आकाओं (अंगेजों) का पैगाम ......!!!! आज़ादी का दम भरने वाले भारतीयों के लिए १९४७ से पहले वाले आकाओं (अंगेजों) का पैगाम ......!!!! स्काटलैंड के ग्लासगो शहर में 23 जुलाई से होने वाले वर्ष 2014 के कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ द्वितीय नौ अक्टूबर को लंदन के बकिंघम पैलेस में बेटन रिले को लांच करेंगी. इसके बाद इसका पहला पड़ाव भारत ही रखा गया है. भारत के बाद बेटन को 16 अक्टूबर को ढाका पहुंचना है. हमारे यहाँ उस दिन दशहरा है .........क्या करें समझ से बाहर है ?
मुझे कुछ कहना है ....पर अरुणा 
--
आशा पाण्डेय ओझा की 
‘एक कोशिश रौशनी की ओर’
    एक रचनाकार का ह्रदय बहुत संवेदनशील होता है. जीवन की अनुभूतियाँ उसके मन पर अंकित होती रहती हैं और रचना करते समय यही अनुभूतियाँ उभरकर आकार लेती हैं. आशा पाण्डेय ओझा की पुस्तक ‘एक कोशिश रोशनी की ओर’ ऐसी ही अनुभूतियों का संकलन है.     
Voice of Silent Majority पर Brijesh Neeraj 

--
मुंबई आज़ाद मैदान दंगे की असली सच्चाई 
( वीडियो के साथ )

सरकार ये वीडियो पर प्रतिबंध लगाए उस के पहले देख लीजिये ये वीडियो मुंबई के आज़ाद मैदान के दंगो की तस्वीरे ओर वीडियो किसी भी मीडिया ने नहीं दिखाई थी क्यू की उसमे भारत सरकार जिसे शांति दूत या शांति का संदेश देनेवाली जनता कहेती है उसके द्वारा किए गए कुछ काले काम और गंदे अलफाज भी थे ये जनता को राष्ट्रप्रेम नहीं है मगर जिस देश का खाती है उसी देश को खत्म करने पर तुली हुई है , क्या इस देश मे पाकिस्तान के झंडे लहेराना गुनाह नहीं है ...
AAWAZ पर SACCHAI 
--
माँ के साथ ये सोतैली का शब्द किसने जोड़ा...
My Photo
नयी उड़ान +पर Upasna Siag 

--
समय और ईश्वर के आगे खुद को मुक्त कर दो

मेरी भावनायें...पर रश्मि प्रभा

--
क्या आप भारत-योगी जी से सहमत हैं ?

भारत योगी जी ने अपनी एक पोस्ट में ये विचार प्रस्तुत किये हैं .क्या आप सहमत हैं ? यदि हाँ तो क्यों ?यदि ना तो क्यों ? ● इन्हें आजादी चाहिए कम कपड़े पहनने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए बॉय फ्रेंड के साथ घुमने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए अनजान लोगो से बाते करने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए से** करने दो बिना शादी के. ● इन्हें आजादी चाहिए रात को बारह बजे तक लडको के साथ डिस्को में रहने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए माँ बाप को बिना बताये लडको के साथ घुमने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए लोज में जाकर बिस्तर गर्म करने दो, माँ बाप को धोखा देकर मुंह काला करने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए बियर शराब सिगरेट पीने दो....
भारतीय नारी पर shikha kaushik 
--
चीन का दुर्लभ डाक टिकट

प्रचार पर HARSHVARDHAN

--
पालतू जानवर गाय आज/ कल

Abhilasha पर Neelima sharma 

--
एक घड़ी आधी घड़ी ,आधी से पुनि आध , 
तुलसी संगत साध की ,काटे कोटि अपराध। 
जगदगुरु श्री कृपालुजी महाराज

आपका ब्लॉगपरVirendra Kumar Sharma

--
"साईकिल की शान निराली"
बालकृति 
"हँसता गाता बचपन" से
 
बालकविता
दो चक्कों की प्यारी-प्यारी।
आओ इसकी करें सवारी।।

साईकिल की शान निराली।
इसकी चाल बहुत मतवाली।।
हँसता गाता बचपन
--
कार्टून :- मोदी का चुनाव चि‍न्‍ह कमल नहीं
काजल कुमार के कार्टून

24 comments:

  1. चढ़ा दीं हसरतें सूली किसी पैगाम से पहले ,

    नमन है उन शिहिदों को सदा ईमान (इनाम )से पहले।


    बेहतरीन अशआर ,शहीद ईनाम नहीं चाहते इसीलिए ईमान से भी प्यारे लगते हैं। राष्ट्र प्रेमही उनका ईमान (इनाम )होता है।

    बढ़िया प्रस्तुति चर्चा मंच (७ अक्टूबर ),मुबारक सेतु चयन के लिए संयोजन के लिए।

    ReplyDelete
  2. यार ये हर बात के लिए गाज पश्चिमी सभ्यता पे क्यों गिरती है। कितना देखा है पश्चिम को कोसने वालों ने पश्चिम? चयन सबका व्यक्तिगत होता है पूरब हो या पश्चिम। रूस की युवतियां साड़ियाँ पहन रहीं हैं तो यह उनका अपना चयन है। कृष्ण भक्तों में आज एक बड़ी संख्या अमरीकियों की है।

    "बदलाव लाना आवश्यक हैं वरना पश्चिमी सभ्यता हमे
    ले डूबेगी. !!
    और एक बात याद रखो के जब जब सूरज पश्चिम में गया हैं तब तब डूबा ही हैं?"

    और ये सूरज भी कभी डूबता नहीं है पश्चिम में ,न उगता है पूरब से। महज़ भ्रान्ति है डूबती उठती तो पृथ्वी है। पौर्वत्य (Oriental science and philosophy )को वही समझेगा जो जानेगा -गीता ज्ञान।

    Any one can have a material consciousness ( irrespective of the part of the globe he belongs to) ,impure consciousness polluted with matter .Consciousness may be pervertedly reflected by the covering of material circumstances ,just as light reflected through colored glass may appear to be a certain color .

    --
    क्या आप भारत-योगी जी से सहमत हैं ?

    भारत योगी जी ने अपनी एक पोस्ट में ये विचार प्रस्तुत किये हैं .क्या आप सहमत हैं ? यदि हाँ तो क्यों ?यदि ना तो क्यों ? ● इन्हें आजादी चाहिए कम कपड़े पहनने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए बॉय फ्रेंड के साथ घुमने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए अनजान लोगो से बाते करने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए से** करने दो बिना शादी के. ● इन्हें आजादी चाहिए रात को बारह बजे तक लडको के साथ डिस्को में रहने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए माँ बाप को बिना बताये लडको के साथ घुमने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए लोज में जाकर बिस्तर गर्म करने दो, माँ बाप को धोखा देकर मुंह काला करने दो. ● इन्हें आजादी चाहिए बियर शराब सिगरेट पीने दो....
    भारतीय नारी पर shikha kaushik

    ReplyDelete
  3. बढ़िया दृष्टि सार्थक कलम .

    बढ़े धरा की शान
    रविकर

    बढे धरा की शान, बने रविकर सद्कर्मी-
    सद्कर्मी रचता रहे, हितकारी साहित्य |
    प्राणि-जगत को दे जगा, करे श्रेष्ठतम कृत्य |

    ReplyDelete
  4. दो चक्कों की प्यारी-प्यारी।
    आओ इसकी करें सवारी।।

    बहुत बढ़िया बाल कविता रोचक ज्ञान वर्धक।

    बिना तेल की भैया गाड़ी ,

    पर्यावरण को है ये प्यारी ,

    सबसे न्यारी यही सवारी ,

    सेहत को रखती है अगाड़ी।

    साईकिल की शान निराली।
    इसकी चाल बहुत मतवाली।।
    हँसता गाता बचपन

    ReplyDelete
  5. बढ़िया प्रस्तुति -

    मैं हिमगिरि हूँ सच्चा प्रहरी,
    रक्षा करने वाला हूँ।


    शीश-मुकुट हिमवान अचल हूँ,
    सीमा का रखवाला हूँ।।


    शिव जी का कैलास कहावूं ,

    मौसम का रखवारा हूँ ,मानसून का प्यारा हूँ।

    अपनी भारत माता
    डॉ रूप चन्द्र शास्त्री जी

    ReplyDelete
  6. सुंदर सूत्र सुंदर संयोजन
    उल्लूक का आभार
    सरिता जी ने आज
    उसकी बड़ बड़
    "मान लीजिये नया है दुबारा नहीं चिपकाया है"
    को भी दिखाया है !

    ReplyDelete
  7. सोमवार की सुन्दर गुजारिश है चर्चा के रूप में।
    आभार सरिता भाटिया जी।

    ReplyDelete
  8. शुभ प्रभात
    बढ़िया लिंक्स |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  9. हिमायती इनके ही सब कहलाते

    सेकुलर ,
    भारत की हर संपदा पर पहला हक़ इनका ही बतलाते सेकुलर ,

    --
    मुंबई आज़ाद मैदान दंगे की असली सच्चाई
    ( वीडियो के साथ )

    सरकार ये वीडियो पर प्रतिबंध लगाए उस के पहले देख लीजिये ये वीडियो मुंबई के आज़ाद मैदान के दंगो की तस्वीरे ओर वीडियो किसी भी मीडिया ने नहीं दिखाई थी क्यू की उसमे भारत सरकार जिसे शांति दूत या शांति का संदेश देनेवाली जनता कहेती है उसके द्वारा किए गए कुछ काले काम और गंदे अलफाज भी थे ये जनता को राष्ट्रप्रेम नहीं है मगर जिस देश का खाती है उसी देश को खत्म करने पर तुली हुई है , क्या इस देश मे पाकिस्तान के झंडे लहेराना गुनाह नहीं है ...
    AAWAZ पर SACCHAI

    ReplyDelete
  10. बहुत बहुत धन्यवाद और आभार
    नवरात्रि‍ की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर लिंक्स! मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  12. Virendra Kumar Sharma जी क्‍या धाराप्रभाह लि‍खते हैं इनकी प्रति‍क्रि‍यााअे से कहीं छोटी तो लोगों की पोस्‍ट होती हैं. इन्‍हें पढ़ कर अच्‍छा लगता है.

    ReplyDelete
  13. सुन्दर चर्चा मंच-
    आभार आदरेया-

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन .... "चर्चा मंच एक ऐसा मंच है जहां सच्चाई की ही चर्चा होती है ओर ऐसे बेहतरीन लिंक पढ़ने मिलते है जो ज्ञानवर्धक होते है
    शुक्रिया मयंक साहब

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति ..

    नवरात्र की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  16. सुंदर सूत्र सुंदर संयोजन,आपका हार्दिक आभार!

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर चर्चा .मेरी पोस्ट को यहाँ शामिल करने के लिए हार्दिक आभार शास्त्री जी

    ReplyDelete
  18. सुन्दर संयत चर्चा हेतु प्रिय सरिता जी एवं आदरणीय शास्त्री जी को हार्दिक बधाई ,नवरात्रों की सभी को शुभ कामनाएं

    ReplyDelete
  19. आकर्षक लिंक्स का चयन, बधाई.......

    ReplyDelete
  20. बहुत ही सुन्दर लिंक्स! , आभार

    ReplyDelete
  21. सरिता जी,
    चर्चा मंच पर आ कर अच्छा लगा। और भी अच्छा अपनी पोस्ट का लिंक देख कर लगा। धन्यवाद आपका, जो सतत ब्लागिंग करने वाले धुरंधर महानुभावों के बीच मुझे स्थान दिया।
    सादर
    अनमोल

    ReplyDelete
  22. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  23. आकर्षक लिंक्स का चयन, बधाई.......

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin