Followers

Thursday, October 17, 2013

त्योहारों का मौसम ( चर्चा - 1401 )

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है

बकरीद की शुभकामनाएँ
साथ ही त्योहारों का यह मौसम 
आपके जीवन को खुशियाँ दे यही कामना है ।
चलते हैं चर्चा की ओर
आपका ब्लॉग
मेरे बारे में
काव्य संसार
police cartoon, common man cartoon, corruption cartoon
"मयंक का कोना"
--
एक ब्लॉग की लिंक दे दे बाबा 
तेरे बच्चे जुग-जुग जियें......
डुंग डुंग डुंग डुंग डुंग डुंग....

साहिबान,मेहरबान,कदरदान
हिम्मत रखकर इस खेल को देखिएगा...
जान को हथेली पर रखियेगा 
ये रोज रोज का तमाशा ख़तम करने का वास्ते आगे आईयेगा 
बड़ा-छोटा,पतला-मोटा,नया-पुराना सब के वास्ते है 
बेटा जमूरे ,हम किसके वास्ते है?...
मेरे मन की पर Archana

--
सिसकियों के उस पार!
एक बहुत पुरानी रचना... 
उसी पुरानी डायरी से: : 
मंजुल मोती की माया से चमक उठा संसार... 
हम चमके सहेज कर अपने अश्रुकण दो चार...
अनुशील पर अनुपमा पाठक

--
शब्दों का स्वेटर...
मन उलझा ऊन के गोले सा कोई सिरा मिले तो सुलझाऊं. 
दे जो राहत रूह की ठंडक को, शब्दों का इक स्वेटर बुन जा...
स्पंदन SPANDAN पर shikha varshney

--
शहीदों का बलिदान पुकारता
शहीदों का बलिदान पुकारता
क्यों रो रही है भारत माता ।
उठो वीर जवान बेटो,
भारत माता का क्लेश मेटो ।...
आपका ब्लॉग पर रमेशकुमार सिंह चौहान

--
सूर्य नमस्कार इन सब लक्ष्यों की पूर्ति करता है
Static और Dynamic योगासनों में क्या फर्क है ? दो तरह के योगासन हैं एक वह जिनमें गति -परिवर्तन नहीं हैं जो स्थैतिक हैं दूसरे वह जो गतिज हैं यानी स्टैटिक और डायनैमिक। दोनों का अपना विशेष महत्व और लक्ष्य रहता है...
आपका ब्लॉग पर Virendra Kumar Sharma

18 comments:

  1. भाई दिलबाग विर्क जी।
    आपका आभार।
    --
    वाकई में त्यौहारों का मौसम चल रहा है।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा!
    आभार...!

    ReplyDelete
  3. सुन्दर, रोचक व पठनीय सूत्र, आभार।

    ReplyDelete
  4. सुंदर सूत्रों से सजी आज की चर्चा
    दिल बाग बाग करती दिलबाग की चर्चा !

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया लिनक्स .....चैतन्य को शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  6. तहेदिल से धन्यवाद आपका हमारे हायकू (हाइगा )को शामिल करने के लिए ....

    ReplyDelete
  7. उम्दा जानकारी देती हुई पोस्ट.
    शुक्रिया.

    ReplyDelete
  8. बढिया लिंक्स से सजी सुन्दर चर्चा

    ReplyDelete
  9. रोचक सूत्रों से सजाया आज का चर्चा मंच
    दिल खुशी से झूमता देख आज के प्रसंग |
    आशा

    ReplyDelete
  10. पठनीय सूत्र...व्यवस्थित मंच...आभार!

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर सूत्र ! सार्थक चर्चा ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिये बहुत बहुत शुक्रिया दिलबाग जी !

    ReplyDelete
  13. रोचक सूत्रों से सजा मंच .

    ReplyDelete
  14. आदरणीय दिलबाग जी, हमेशा की तरह सधी हुई चर्चा.मुझे भी स्थान देने हेतु आभार...........

    ReplyDelete
  15. सुन्दर चर्चा मंच सजाया ,उसमें हमको भी बिठलाया।

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब उधेड़ बुन मन की स्वेटर की मार्फ़त।

    शब्दों का स्वेटर...
    मन उलझा ऊन के गोले सा कोई सिरा मिले तो सुलझाऊं.
    दे जो राहत रूह की ठंडक को, शब्दों का इक स्वेटर बुन जा...

    ReplyDelete
  17. तो क्या वो एक पुरुष के अहंकार की संतुष्टि होती है
    या सचमुच एक 'व्यक्ति' की नैतिकता का लिटमस टेस्ट होता है ?
    क्यों 'शरीर की शुद्धता', हमेशा मन की पवित्रता पर भारी पड़ जाती है ?
    और क्यों इस 'शुद्धता' की छुरी के नीचे सिर्फ नारी ही आती है ?

    अनसुलझा सवाल आदिनांक झमुरे का कमाल।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...