समर्थक

Thursday, September 25, 2014

मंगल पर पहुँचा दिया, अपना मंगलयान { चर्चा -1747 }

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है
mangalyaan reches mars
पहले आरोप-प्रत्यारोप लगे, अब शाबाशी लेने में दौड़-धूप हो रही है मगर यह सच तो रहेगा कि भारत ने इतिहास रच दिया । और 
अब चलते हैं चर्चा की ओर 
 
My Photo
मेरा फोटो
मेरा फोटो
SURENDRA SHUKLA BHRAMAR5
image

10 comments:

  1. सुप्रभात
    सफलता का सहारा बांध जाए तो इससे सुन्दर बात कुछ हो ही नहीं सकती और हक़ बनाता है गर्व करने का \
    आज मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  2. उपयोगी लिंको के साथ सुन्दर और व्यवस्थित चर्चा।
    --
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।
    --
    चर्चा मंच के सभी पाठकों को नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर सूत्र संयोजन सुंदर चर्चा दिलबाग ।

    ReplyDelete
  4. शुभ प्रभात भाई दिलबाग जी
    काफी से बहुत अच्छे लिंक्स दिये आपने
    मेरे ब्लाग को भी सम्मिलित किया आपने
    आभार

    सादर

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    सभी को नवरात्र की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. बहुत ही खुबसुरत लिंक्स ...कुछ देखे से कुछ अनदेखे से
    सभी लिंक्स पर जाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ...

    Rohitas Ghorela: पासबां-ए-जिन्दगी: हिन्दी

    ReplyDelete
  7. Sunder sutr sabhi ko padhne ka aur vichaar prakat karne ka mouka mila... Meri rachna shamil karne ke liye aapka aabhaar !!!

    ReplyDelete
  8. @ Dilbag Virk ji - "भारतीय संस्कृति का मौलिक चित्रण है एकात्म मानववाद" इस आलेख को चर्चा मंच में स्थान देने के लिए आपका आभार .

    ReplyDelete
  9. सुंदर और सशक्त कडियाँ, सही चर्चा।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin