साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Tuesday, September 02, 2014

खटीमा (उत्तराखण्ड) का पावर हाउस बह गया ; चर्चा मंच-1724

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

Kumar Gaurav Ajeetendu 
noreply@blogger.com (पुरुषोत्तम पाण्डेय)
noreply@blogger.com (विष्णु बैरागी)

नीरज गोस्वामी 

कूड़े के ढेर पर विद्यार्थीसिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी 
 
shashi purwar
SANDEEP PANWAR
 
 

11 comments:

  1. सुन्दर समायोजन सभी सेतुओं का आपने किया है।

    ReplyDelete
  2. उपयोगी लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा प्रस्तुति।
    --
    मेरे यहाँ बिजली का बहुत बड़ा संकट पैदा हो गया है।
    बिजलीघर ध्वस्त हो जाने के कारण
    अभी लाइट सुवह शाम 1-1 घंटा ही आ रही है।
    --
    कुछ दिनों में शायद सामान्य स्थिति हो जाये।
    --
    रविकर जी आपका आभार।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर चर्चा सुंदर सूत्रों का संयोजन रविकर जी ।

    ReplyDelete
  4. बहुआयामी समायोजन, मेरे लेख को भी स्थान देने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  5. सुंदर समायोजन, कई पहलुओं को छूता हुआ !

    ReplyDelete
  6. बढ़िया सुंदर प्रस्तुति व सूत्र , आ. रविकर सर , शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  7. bahut sunder aur mujhe lene ke liye dhanywad bhi ........

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर कई रंग की विधाओं में ढेर सारी जानकारी

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्छी कड़ियों का समायोजन किया है आपने। इस चर्चा में मुझे शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन लिंक्स ... कई नई जानकारी मिली गजल और गीतिका के बारे में जानकारी प्राप्त करना सुखद लगा ... जो लेखन को सँवारने में मदद करेगा ..इनके मध्य मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार ..सादर

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...