Followers

Monday, October 25, 2010

ये बीमा तो बहुत जरूरी है ……चर्चा मंच-318

एक बार फिर सोमवार आ गया और हम भी आ गए अपनी बातों का पिटारा लेकर ..........अरे हाँ हाँ लिंक्स का ही ..........वो ही कह रही हूँ समझ लिया करिए ना ...........आज काफी नए लिंक्स लिए है जाइएगा जरूर शायद आपके दिल की कोई आवाज़ वहाँ छुपी हो ............



एक बूंद जो बिछड़े सागर से...!
सागर से  जो बिछुड़ी तो कहाँ जायेगी
कहीं राहों में ही फ़ना हो जायेगी

सब वक्त वक्त की बात है
ना तब अपना था ना अब

एक आस था ,विश्वास था
अब ठूंठ रह गया हसरतों का

कब तक बनूँ अमर बेल
कभी तुम भी तो बनो
और उस दर्द को गुनो

 वसीयत पढ़ ले इक बार
फिर ज़िन्दगी में कोई वसीयत नहीं करेगा
शायद इन्सान इन्सान बन जाएगा

ज़िन्दगी भी है , तू भी है और मैं भी
और कुछ तेरे मेरे ख्यालों के फूल
कभी झाँक कर देख तो सही
पृथ्वी के गर्भ में इक बार

आईना दिखा जाएँगी
तुझे तुझसे मिला जायेंगी

 यही तो विडंबना है
स्त्री क्यूँ स्त्री है 

शरीफ दिखने का पाखण्ड

 कब तक करोगे
कब तक खुद को छलोगे


मेरे बिना तुम प्रभु / राइनर मारिया रिल्के

 अधूरे थे और अधूरे रहोगे
जब तक ना एकाकार होगा


रिकॉर्ड मूल्य पर नीलाम हुआ ब्लू डायमंड

अपनी अपनी कीमत होती है
सब नसीबों की बात होती है

वीरान हैं आँगन
दिल के दरीचों का
कभी आना इस दरीचे में
कोई अपना बैठा है 
आस का दीप जलाये

दो नाव की सवारी है
सब पर पड़ी भारी है

चाहतों को पंखों की जरूरत नहीं
एक बार उड़ान भरने तो दो



छूटता सा जाता है

कोई अपना सा
कोई बेगाना सा
दिल के टुकड़ों का
कोई गाना सा 


बदगुमान कहे.

जो चाहे कह लो


कब ? और कहाँ? 
दिल तो आज भी  
तुम्हारी चौखट पर 
बेसुध पड़ा है 
सब तेरी मोहब्बत के सिले  हैं

वजूद ..

मैं कौन और क्या मेरा वजूद
सब तेरी हसरतों के सरमाये हैं 


कच्चा घर....

दिल का नगर
कब पक्का बना है
एक ज़रा सी ठेस लगी
और टूट जाता है 


शोकगीत...

कब तक गायेंगे
ये ना किसी को
समझ आयेंगे


युद्ध-पताका

उठा कर तो देख


भाषा और अखबार-लघु हास्य व्यंग्य (bhasha aur akhabar-hindi short comic satire article)

अब कहाँ जाऊँ
मैं किधर जाऊँ
बेबस हूँ लाचार हूँ
हाथों की कठपुतली हूँ


"नाम उसका इन लबों से कह फ़ना क्यूँ हो गया.."
जो दिल का मेहमाँ बन गया
कहो ,वो कब फ़ना हो गया


एक गज़ल
ग़ज़ल हूँ
पढ़िए
और
गुनिये
क्यूँकि
ग़ज़ल हूँ मैं

“… ..मंजिल पूरी!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)


मंजिलें और भी हैं
ये तो सिर्फ पड़ाव हैं
दिल के बहलाव हैं



"करवा चौथ" जीवन बीमा योजना
करवा लो प्यारे
बिना बीमा क्या जीना

चलिए दोस्तों अब दीजिये इजाज़त..........अगले सोमवार फिर मिलती हूँ..........तब तक अपनी प्रतिक्रियाओं से अवगत कराते रहिये और हौसले बढ़ाते रहिये .............



32 comments:

  1. पोस्ट के शीर्षकों के साथ आपके कमेंट
    बहुत बढ़िया रहे आज की चर्चा में!

    ReplyDelete
  2. सुंदर। आरंभ से टिप्पणी बॉक्स तक की इस यात्रा में कई जगह ठहरना पड़ा।

    ReplyDelete
  3. आपके विचारों से ओत प्रोत चर्चा बहुत अच्छी लगी |लिंक्स पर तो दोपहर में ही जाना हो पाएगा आपने उन पर जो लिखा है अधिक देर कम्पूटर पर बैठने का मन हो रहा है |बहुत सी लिंक्स देती अच्छी चर्चा के लिए बधाई |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  4. शास्त्री जी हर पोस्ट काबिले तारीफ़ है। दोपहर को पढ़ पायेंगे सभी अभी पढ़ने का लोभ संवरण नही कर पा रहे हैं मगर आप जानते हैं सुबह-सुबह ब्लॉग बाज़ी का मतलब घर में घमासान...:)

    ReplyDelete
  5. बढ़िया चर्चा ...इनमे से कई लिंक्स देख नहीं पायी थी ...
    आभार ..!

    ReplyDelete
  6. मुझे आपर ख़ुशी हो रही है ...मैं चर्चा -मंच के सभी गुनीजनो का अभिवादान करता हूँ ...यहाँ पर मेरी दुबारा एंट्री वंदना जी ने कराई है.....शुक्रिया

    ReplyDelete
  7. आप सभी का बहुत बहुत आभार,मेरी गरीब सी रचना को चर्चा में शामिल करने के लिये।विशेष तौर पर वंदना जी को दिली शुक्रिया।इसी बहाने अन्य बहुत अच्छी रच्नाओं को पढ़्ने का अवसर मिला।

    ReplyDelete
  8. बढ़िया चर्चा --आभार !

    ReplyDelete
  9. bahut hi acchi charcha rahi aapki vandana ji...
    aabhaar..

    ReplyDelete
  10. बहोत ही अच्छी चर्चा रही.........आभार

    ReplyDelete
  11. वंदना जी का आभार जो उन्होंने मेरी रचना को अपनी चर्चा मे शामिल किया. इस प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  12. ''शोकगीत''
    कब तक गायेंगे
    ये ना किसी को
    समझ आयेंगे
    क्या नहीं समझ आया वंदना जी....ज़रा साफ-साफ कहिए...

    ReplyDelete
  13. हुत सी लिंक्स देती अच्छी चर्चा के लिए बधाई |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  14. 6.5/10

    सुव्यवस्थित सुन्दर चिटठा चर्चा
    देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि अच्छे लिंक्स एकत्र करने के लिए काफी मेहनत की गयी है. शीर्षक के साथ आपकी टिप्पणी भी चर्चा को आकर्षक बना रही है.

    ReplyDelete
  15. @निखिल जी,
    सच जैसा कुछ भी सुनने पर

    बेचैन हो जाता है भीतर का आदमी....


    जानता हूँ,

    कि मेरी उपलब्धियों पर खुश दिखने वाला....

    मेरे मुड़ते ही रच देगा नई साजिश...

    मैं सब जानता हूँ कि,

    आईने के उस तरफ़ का शख्स,

    मेरा कभी नही हो सकता....

    आपकी रचना के ये भाव बहुत ही गहरे हैं और इनकी गहराई तक उतरना हर किसी के बस की बात नही है ………………अपने अन्तर को जानते हुये भी अन्जान बन जाता है इंसान्…………बस इसीलिये वो कमेंट दिया था।

    ReplyDelete
  16. पृथ्वी के गर्भ से अनमोल रतन खोज लाई है आप. सुवयवस्थित चर्चा के लिए बधाई.

    ReplyDelete
  17. मेरी पोस्ट को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए तहे दिल से धन्यवाद वंदना जी यहाँ अपनी पोस्ट देख के अच्छा लगा सभी को आभार

    ReplyDelete
  18. वंदना जी.. आपने पोस्ट में हरेक लिंक के नीचे जो छोटे छोटे शीर्षक बोल दिए है ..आपके खुद के निर्मित बहुत भा गए .. इससे आपकी रचनाशीलता दिखती है.. बहुत खूब... और मेरा परिचय -" डॉ नूतन गैरोला की चार कवितायेँ " इसमें शामिल की गयीं .. बहुत ख़ुशी हुवी.. धन्यवाद.. शाम को मैं सभी लिंक्स पे जाऊंगी.. शुभदिवस

    ReplyDelete
  19. विविधता लिए हुए ये पोस्टें अच्छी हैं.

    कुँवर कुसुमेश

    ReplyDelete
  20. nawaazish,karam shukriya meharbaanee meri gazal ko is laayak samjhaa gayaa.

    ReplyDelete
  21. sundar charcha!
    your comments on the post included are so apt,vandana ji!
    regards,

    ReplyDelete
  22. हम ब्लोगेर्स का काम आसान केर्देते हैं आप. ज्ञान की चाह मैं अधिक भटकना नहीं पड़ता.

    ReplyDelete
  23. bahut sarthak charcha...saath hi diye huye comments har rachna ko padhne ke liye badhy karte hain ...sab padhungi ...par teen din baad :):)

    ReplyDelete
  24. बढ़िया जुगलबंदी शीर्षकों के साथ..बधाई.

    ReplyDelete
  25. बहुत ही मनभावन प्रस्तुति, वनदना जी को बधाई।

    ReplyDelete
  26. एक से बढ़कर एक लाजवाब लिंक दिए हैं आपने...सबको पढ़ा !!! और आपके प्रस्तुति का अंदाज भी खूब मन को भाया.
    इस सुन्दर प्रस्तुति और परिश्रम के लिए बहुत बहुत आभार आपका !!!

    ReplyDelete
  27. 'कच्चा घर' प्रकाशित करने के लिए सह्रदय धन्यवाद .... सभी रचनाएँ बहुत उम्दा हैं ... अच्छा आदान प्रदान रहा विचारों का .......

    ReplyDelete
  28. CHARCHA-MANCH HI MUJH JAISE LOGON KO PROTSAHIT KARNE KA MADHYM RAH GAYA HAI ...SHASTRI JI CHARAN VANDAN..

    ReplyDelete
  29. वंदना जी,
    इतने सारे बढ़िया लिंक्स देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  30. बढ़िया चर्चा ....
    बढ़िया लिंक्स देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"सब कुछ अभी ही लिख देगा क्या" (चर्चा अंक-2819)

मित्रों! शनिवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...