Followers

Tuesday, February 05, 2013

मंगलवारीय चर्चामंच(1146) गीत आज ही गाया है


आज की मंगलवारीय  चर्चा में आप सब का स्वागत है राजेश कुमारी की आप सब को नमस्ते , ,आप सब का दिन मंगल मय हो अब चलते हैं आपके प्यारे ब्लॉग्स पर 


                    कहानी दो दिन की जो जिंदगी कि तमाम स्वीकृतियों से भारी थी डॉ नूतन गैरोला

        डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति at अमृतरस



                 अभी- अभी उसने पहनी है उम्र सोलह की.

...               और देखो पाबंदियों के ताले भी पड़ गए 


                 Pratibha Katiyar at प्रतिभा की दुनिया .


Untitled

अपने देश मे बेगाने---फिर कहाँ जाएँ जहाँ अपने मिलें 




काव्य सृजन--होता रहे मन के भावों को पंख मिलते रहें 

मनीष सिंह निराला at * * * * जीवन पुष्प * * * *


              दम भर को .खाली हैदिल की ये ज़मीन ,


                       Meeta Pant at ख्वाब बंजारे 


सभी समाया है शून्य मेंअच्छा हैं वहां दुरभावनाए तो नही हैं      



कुछ सूक्ष्म अनुभूतियाँ

रवीन्द्र प्रभात at वटवृक्ष - 


मेरी पहली किताब :जब पहली बार हाथ में आती है तो ऐसी ही बेचैनी रहती है  : उजले चांद की बेचैनी :

Vijay Kumar Sappatti at परिकल्पना 


              गीत आज ही गाया हैअब गाते रहिये 

                     Anita at मन पाए विश्राम जहाँ 


ये आंखें......हैं या नशे दी बोतलें सुभान्अल्लाह 

रश्मि शर्मा at रूप-अरूप - 


डालियों पे फुदकने से जो मिल गयीऔर बस क्या चाहिए 

नीरज गोस्वामी at नीरज
         
                                                                                                           

mne kbhiमैंने भी उसे नही  देखा  बस एक खिचाव है जो महसूस किया है 

rajinder sharma "raina" at mere man 


हकीम परसादी खांइस कहानी को जरा ध्यान लगा कर पढ़ीये 

noreply@blogger.com (पुरुषोत्तम पाण्डेय) at जाले - 


58 .मधु सिंह : छुट्टा सांड़इनसे बच के  रहना कहीं भी मिल सकते हैं 

madhu singh at Benakab - 


Ohh India ....A big heap of garbageअजीत सिंह जी सुना रहे हैं एक सच्ची घटना जरूर सुनिये 

Ajit Singh Taimur at Akela Chana


बदनसीबी,काश यह शब्द ही ना होता भगवान के शब्दकोष में 

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया at काव्यान्जलि 


                                क्षणिका.......क्षणिक पर असर देर तक 

             Yashwant Mathur at जो मेरा मन कहे


दुष्कर्म पापियों का भगवान हो रहा हैहैरान है दिल ये क्या हो रहा है ये क्या हो रहा है 




Deep Forest Trekking- Dudhsagar fall to Caranzol Camp दूधसागर झरने से करणजोल तक भयंकर जंगलों से ट्रेकिंग मार्गएक रोमांचक संस्मरण संदीप भाई के साथ लीजिए ट्रैकिंग का मजा   

Jatdevta Sandeep at जाट देवता का सफर - 

बेदिनी में बर्फबारी , snowfall at bedini bugyalयहाँ मनु प्रकाश जी के साथ स्नोफाल का मजा लीजिए 


http://bhartimayank.blogspot.in/2013/02/104.html

"अमर भारती पहेली-104" (श्रीमती अमर भारती)

अमर भारती साप्ताहिक पहेली-104
में आप सबका स्वागत है!
निम्न चित्र को पहचानकर बताइए कि 
यह कौन सा स्थान है और कहाँ पर स्थित है?
 उत्तर देने का समय
6 फरवरी, 2013, सायं 7 बजे तक!
परिणाम 7 फरवरी, 2013,  को  
प्रातः10 बजे तक
प्रकाशित किये जायेंगे!
सबसे पहले पहेली का
सही उत्तर देनेवाले को
पहेली का विजेता
घोषित किया जायेगा!
इसके बाद सभी उत्तर देने वालों का
लेखा-जोखा प्रस्तुत जायेगा!
पहेली के विजेता को
ऑनलाइन प्रमाणपत्र भी दिया जायेगा!

 आज की चर्चा यहीं समाप्त करती हूँ  फिर चर्चामंच पर हाजिर होऊँगी  कुछ नए सूत्रों के साथ तब तक के लिए शुभ विदा बाय बाय ||

12 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा!
    सभी लिंक बहुत उपयोगी हैं!
    आभार!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर चर्चा के लिए बहुत -2 शुभकामनाएं ... |

    ReplyDelete
  3. चर्चा मंच दिन प्रति दिन नयी उंचाईयो को छू रहा है ।
    राजेश जी ने बहुत ही सुंदर चर्चा लगायी है

    मेरा एक सुझाव है कि लिंक्स के साथ एक विषय स्वयं चर्चाकार भी उठायें प्रतिदिन जिस पर सभी पाठक अपनी राय दें तो कैसा रहेगा
    विषय रोजमर्रा के जीवन का राजनीतिक , धार्मिक चर्चा आदि हो सकती है

    ReplyDelete
  4. सुंदर चर्चा...मेरी पंक्‍ति‍यों को स्‍थान देने का शुक्रि‍या...

    ReplyDelete
  5. बढिया लिंक्स
    अच्छी चर्चा

    ReplyDelete
  6. हमारी ब्लॉग पोस्ट शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद!


    सादर

    ReplyDelete
  7. मेरी रचना को चर्चा मंच पे शामिल करने के लिए
    आपको बहुत - बहुत धन्यवाद !
    बहुत- बहुत आभार !

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा के लिए आभार!

    ReplyDelete
  9. bahut sundar Charcha ... aur link ke saath taseer bhi.... meri bhi post shamil kee ...aapka saadar aabhaar Rajesh ji aur charchamanch ka ...Shubhkaamnaon sahit

    ReplyDelete
  10. आप सब का हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  11. चर्चा मंच में मेरी रचना शामिल करने के लिए आपका बहुत बहुत आभार ! राजेश जी,,,

    कुछ दिनों से चर्चा मंच की लिंक नही मिल पा रहां है,,,एक दिन पुराना लिंक दिखाई पड़ता है इसलिये आने में देर हो जाती है ,,,

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...