समर्थक

Saturday, February 09, 2013

समय बिताने के लिये पढिये कुछ उपयोगी लिंक्स

चर्चा देखकर आज चर्चा आयी याद
चर्चा ने ही चर्चा करवायी आज
हम तो भूल गये थे इस बार
शनिवार की चर्चा पर है अपना अधिकार
तो शुरु करें चर्चा लेकर नयी पुरानी पोस्ट
समय बिताने के लिये पढिये कुछ उपयोगी लिंक्स



एक दिन पुस्तक मेले के नाम …………2013

आप भी कीजिये 


उत्सव के परिणाम अपने नज़रिए से दें

अब आया ऊँट पहाड के नीचे


यह जिजीविषा जो कभी सितार है कभी बाँसुरी

जीने को कुछ तो चाहिये


अपाहिज (लघुकथा)

ऐसा भी होता है


जन्‍मदि‍न की बहुत-बहुत बधाई ......



डर से इज्जत कैसे होगी

पता नहीं

"बदल रहा है ढंग" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

इसमें क्या है शक 

पुस्तकें और पाठक

चिरंजीवी रिश्ता


कुछ नमकीन मीठीयों वाला

कौन है वो ?


वह सृष्टि है ..

तभी सबकी अपनी दृष्टि है


अफ़साने बुनती रूहानी आवाज़

रूह में उतर गयी


रिश्वत लिए वगैर...

काम नहीं होता 


1. ओ री मलाला, जगाई नारी शक्ति, स्वस्थ रहो

जो बनी मिसाल 


रामायण 22 - बारात का अवध में आगमन , उत्सव

धूम मचे धूम 


स्त्री

सिर्फ़ सम्बोधन तक 


वक्‍़त की धूप में ... !!!

बहुत कुछ सूख जाता है


मन रोता सत्य देखने को आज

क्या दिखा ?


कोई नाम ना लो 
-
बधाई हो  
-

भारत माँ को नमन
हमारा भी नमन 
 
 
मौनी अमावस्या: महोदय योग में होगा स्ना्न-दान
जानिये ये भी 


बहुत ही मस्त हैं :)


"हैप्पी प्रपोज्ड-डे" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

खूब मनाओ रोज नये नये डे


जीवित शाहकार

आज कहाँ मिलते हैं 


ग्रोथ-रेट बस पाँच की, मिले कमीशन बीस-

ये हुयी ना बात


ज्ञान का, और अन्धविश्वासों का सूत्रपात

सदियों से हो रहा है


दहेज़ :इकलौती पुत्री की आग की सेज

ये आग कब बुझेगी ?

मत तन्हा तन्हा घबराना ...!!!!

कोई साथी कहीं मिल जाना 


पेटर्नस........

कौन कौन से?


रोने के लिए आत्मा को निचोड़ना पड़ता है...

तब दो बूँद लहू टपकता है


औरतों के हिस्से का सूरज

कभी निकलता ही नहीं 

 

 

 

आज के लिये काफ़ी हैं ना लिंक्स 

तो पढिये और काम पर चलिये

अगले हफ़्ते फिर मिलेंगे 

तब तक के लिये आज्ञा 




19 comments:

  1. बहुत ही बढ़िया लिनक्स चुन लायीं हैं..... आभार

    ReplyDelete
  2. संक्षिप्त टिप्पणियों के साथ सुन्दर चर्चा!
    आभार!

    ReplyDelete
  3. कई लिनक्स और भावपूर्ण चर्चा |

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुती,आज की चर्चा कुछ खास लगी,सुंदर लिंकों का अच्छा समायोजन किये हैं।

    ReplyDelete
  5. अनन्तजी की यात्रा आनन्दमय हो..शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  6. संक्षिप्त टिप्पणियों के साथ सुंदर लिंक्स संयोजन,,,,
    मेरी रचना को मंच में स्थान देने के लिए वन्दना जी आभार,,,

    नये चर्चाकार के रूप में श्री अरुण शर्मा अनन्त जी का स्वागत है ,,,,बधाई

    ReplyDelete
  7. अच्छे लिंक,अरुण शर्मा जी का स्वागत !!

    ReplyDelete
  8. आभार आदरेया-
    खूबसूरत चर्चा -

    ReplyDelete
  9. गुरूजी से आग्रह-

    फुरसत ऐसे ना मिले, हरदिन कोना एक |
    करते मिलकर फिक्स हम, करें काम यह नेक |

    करें काम यह नेक, चुने हर दिन दो रचना |
    करें मंच पर पोस्ट, नहीं गुरुवर को बचना |

    सुबह सुबह दें जोड़, यही रविकर की हसरत |
    चर्चा को दें मोड़, नहीं मिलनी है फ़ुरसत ||

    ReplyDelete
  10. सुन्दर चर्चा,आकर्षक लिंक्स,मेरी रचना को स्थान देने के लिए शुक्रिया,बधाई

    ReplyDelete
  11. बहुत-बहुत बधाई ! सुंदर चित्र ! बढ़िया रिपोर्ट!
    शुभकामनाएँ !:)
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  12. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    ReplyDelete
  13. अच्छी चर्चा, बढिया लिंक्स
    नए चर्चाकार अरुण जी स्वागत

    मयंक का कोना सुझाव अच्छा है। शास्त्री जी इसे स्वीकार करें

    ReplyDelete
  14. बहुत बढ़िया लिंक्स -सह-चर्चा प्रस्तुति ..
    आभार।।

    ReplyDelete
  15. अच्छी सार्थक सूत्रों से सजी चर्चा नए चर्चाकार अरुण कुमार का हार्दिक स्वागत है

    ReplyDelete
  16. मयंक का कोना सुझाव बढ़िया है

    ReplyDelete
  17. नए चर्चाकार का हार्दिक स्वागत है, सुझाव अच्छा है ,बढिया लिंक्स

    ReplyDelete
  18. शानदार पोस्ट्स और हां ,आभार भी , मेरे जी से मेल करने के लिए ।

    ReplyDelete
  19. सारे लिंक्‍स बहुत खूबसूरत हैं। मेरी रचना को शामि‍ल करने के लि‍ए शुक्रि‍या...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin