समर्थक

Tuesday, March 18, 2014

"होली के रंग चर्चा के संग" (चर्चा मंच-1555)

मित्रों!
आप सबको रंगों के पावन पर्व होली की 
हार्दिक शुभकामनाएँ प्रेषित करते हुए
मंगलवार के लिए कुछ लिंक प्रस्तुत है।
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
--
"निर्मल हो परिवेश" 
चर्चा में हैं आज तो, होली के ही रंग।
इस पावन त्यौहार के, अजब-ग़ज़ब हैं ढंग..
--
अब लीजिए चित्रों का आनन्द

sunil deepak की बहुरँगी दुनिया में

Colours, Flowers, Cape Town, South Africa - images by Sunil Deepak, 2012

--
हर रंग में मैंने खुद को ढ़ाला है...

अभिव्यंजना पर Maheshwari kaneri
--
--
"प्यार करते हैं हम पत्थरों से" 

बात करते हैं हम पत्थरों से सदा,
हम बसे हैं पहाड़ों के परिवार में।
प्यार करते हैं हम पत्थरों से सदा,
ये तो शामिल हमारे हैं संसार में...
सुख का सूरज
--
मत और किसी के खेल... 

मत और किसी के खेल संग में तो मानूँ होली !! 
तू मुझको भिगो मैं तुझको रंग में तो मानूँ होली...
डॉ. हीरालाल प्रजापति
--
--
होली के रंग छंदो के संग  

छन्न पकैया  छन्न पकैया, ऋतु बसंत है आयी
फिर कोयल कूके बागों में ,झूम  रही अमराई...
sapne(सपने) पर shashi purwar
--
--
लोकतंत्र की पहचान

जनता का हथियार

सत्य
सर्वत्र प्रसारित हो
सब हर सच से परिचित हों
कर्त्तव्य परम
किन्तु पथभ्रष्ट हुआ
भटका ये स्तम्भ...

! कौशल ! पर Shalini Kaushik
--
निहारती आई हूँ सदियों से , 
जिस दर्पण में अपने आपको 
अब अपने उस दर्पण को बदलना चाहती हूँ 
बिखरी अलकों को अपनी अब सुलझाना चाहती हूँ 
अब में भी संवरना चाहती हूँ...
पुरवाई पर Aditi Poonam
--
--
--
--
--
--
हैप्पी होली ! होली !! 
आओ प्रिये तुम्हे गुलाल लगा दूँ... 
कि आज होली है .  
सात रंगों से रंग दूँ तुम्हे...  
कि आज होली है...

कालीपद प्रसाद
--
कविता *होली का त्यौहार* 

आया होली का त्यौहार,
उमड़ी रंगों की बहार.
देखो कैसी बरस रही...
प्रेम की बौछार.
सबके दिन सुख के आयें
हर दिल में हो रही
ऐसी उमीदों की बौछार....

ये भारत है मेरे दोस्त ....
--
झुमरी की याद में 

जब से पड़ोसियों के घर विदेशी पग (Pug Dog) आया है, 
तब से जब-तब झुमरी के दोनों बच्चे 
उसके इधर-उधर चक्कर काट-काट कर 
हैरान-परेशान घूमते नजर आ रहे हैं...
KAVITA RAWAT
--

गूगल ने अपने सर्च पेज में दो बदलाव किए हैं। ये बदलाव हैं तो छोटे लेकिन आप इन्हें नजरअंदाज नहीं कर पाएंगे। पहला बदलाव सर्च रिजल्ट्स को लेकर है जहां पहले सर्च रिजल्ट्स में आपको हर जानकारी के नीचे एक लंबा अंडरलाइन मिला करता था अब वह दिखाई नहीं देगा।
दूसरा बदलाव स्पॉन्सर्ड रिज्लट्स के स्थान पर अब 'एड' नाम से एक अलग येलो लेबल की शुरुआत की है। इन दो छोटे बदलाव की जानकारी गूगल सर्च के मुख्य डिजायनर जॉन विले ने गूगल प्लस के पेज पर दी। 
उन्होंने जानकारी देते हुए अपने सोशल वेब साइट पर लिखा "हमने पिछले साल के अंत में स्मार्टफोन्स और टैबलेट के लिए अपने सर्च में बदलाव किए थे और अब आज हम लोगों ने यही बदलाव अपने डेस्कटॉप के लिए भी कर दिया।" स्पॉन्सर्ड रिजल्ट्स के आने से अब सर्च रिज्लटस में दिखने वाला हलके रंग वाले 'एड' को हटा दिया गया है जो सर्च रिजल्ट्स में सबसे पहले दिखा करता था।
--

जबसे तुमने प्रेम निमंत्रण स्वीकारा है,
बही हृदय में प्रणय प्रेम की रस धारा है..
--
उलूक टाइम्स
होली हो ली सोच कर
होली के कपड़ों
को धुलवायें
धूप में सुखा कर
फिर से पुराने ट्रंक
में डाल आयें
निपट गयी होली
मान कर
आराम फरमायें...

उलूक टाइम्स पर सुशील कुमार जोशी
--
होली गीत - { रंगों का महत्व } 

|| इस रंगबिरंगी दुनिया में , 
रंगों का कुछ तो अनुमान करें , 
ये रंग हैं हमसे क्या कहते , 
आओ यारों कुछ ध्यान करें || 
|| पीला रंग हमें ये है सिखाता , 
कि चमको सूर्य की किरणों सा , 
फैलादो अपने प्रकाश को  
कि प्रेम लगे मधुबन सा || 
|| हरा रंग हमें ये है बताता , 
कि हरियाली यूँ ही बनी रहे , 
कि जैसे प्रकति की छठा छाई है , 
उस एकता की लगन लगी रहे || 
|| लाल रंग की बात जो करदें , 
तो मुस्कानें सी होती है , 
कि कहतीं हो हमसे कि 
गुलाब की पंखुड़ियों की तरह
 खिलखिलाहट यूँ ही बनी रहे || 
|| इन तीन रंग में बसे जो दुनिया , 
तो यारों क्या हो गम हमको , 
बंधा भी ईश्वर इन्ही रंगों में , 
कहता हमसे यूं ही रहो ||  
|| प्रेम अहिंसा मुस्कान से 
 इस दुनिया का अनुमान करें , 
ये रंग है हमसे सच कहते , 
तो आओ यारो कुछ ध्यान करें || 
|| इस रंगबिरंगी दुनिया में ,  
रंगों का कुछ तो अनुमान करें , 
ये रंग हैं हमसे क्या कहते , 
आओ यारों कुछ ध्यान करें || 
--
"एक बरस के बाद फिर, बरसेगी रसधार" 

ब्लॉगमंच

16 comments:

  1. सुप्रभात
    होली ही ली पर आने वाले कल में फिर होगा इंतज़ार |
    उम्दा लिंक्स |
    आशा

    ReplyDelete
  2. एक और सुंदर होली चर्चा । उलूक की "होली हो ली तशरीफ ले जायें" को जगह दी आभार ।

    ReplyDelete
  3. सुंदर चर्चा
    मुझे शामिल करने के लिए आभार !!

    ReplyDelete
  4. होली के खूबसूरत इन्द्रधनुषी रंग बिखेरती सुंदर चर्चा ....मेरी रचना को इस इन्द्रधनुष
    का एक रंग बनाने के लिए आभार......धन्यवाद....

    ReplyDelete
  5. सुंदर सूत्र व बेहतरीन प्रस्तुति , मेरी पोस्ट को सम्मान देने हेतु आदरणीय शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद
    होली पर्व की शुभकामनाओं सहित , ॥ जय श्री हरि: ॥

    ReplyDelete
  6. ATI SUNDAR SANKALAN , CHITR OR LEKHAN JI SADHANYWAAD @@

    ReplyDelete
  7. उत्तम चर्चा
    व्यवस्थित और सुगठित चर्चा
    शानदार लिंक्स संयोजन

    ReplyDelete
  8. विस्तृत उत्तम चर्चा ...

    ReplyDelete
  9. लाजबाब रोचक लिंक्स ...!
    सपरिवार रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाए ....
    RECENT पोस्ट - रंग रंगीली होली आई.

    ReplyDelete
  10. मेरी रचना ''मत और किसी के खेल संग में तो मानूँ होली !! '' को शामिल करने हेतु आभार मयंक जी !

    ReplyDelete
  11. bahut sundar v rang-birange links se saja charcha-manch .meree blog-post ko yahan sthan pradan karne hetu hardik aabhar

    ReplyDelete
  12. very nice .thanks to give honour to my post to give place here .

    ReplyDelete
  13. प्रिय और आदरणीय शास्त्री जी आभार प्रोत्साहन हेतु और रचना को चर्चा मंच तक ले जाने हेतु अपने देश में ये भाई चारा बना रहे और रंगों का ये उत्सव ऐसे ही रंग भरे जीवन में सब के
    आप सपरिवार और मित्रों को भी होली कि ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  14. सुंदर चर्चा
    मुझे शामिल करने के लिए आभार !!

    ReplyDelete
  15. होली के रंगबिरंगे सूत्र।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin