Followers

Search This Blog

Monday, May 05, 2014

"मुजरिम हैं पेट के" (चर्चा मंच-1603)

मित्रों।
सोमवार के लिए मेरी पसंद के लिंक देखिए।
--

ग़ज़ल ज्ञान .. 

ग़ज़ल की कोइ किस्म नहीं होती है दोस्तो| 
ग़ज़ल का जिस्म उसकी रूह ही होती है दोस्तो | 
हो जिस्म से ग़ज़ल विविध रूप रंग की , 
पर रूह लय गति ताल ही होती है दोस्तों ... 

डा श्याम गुप्त ... 

--

मेरी किस्मत मे तू ही है शायद ---- 

मेरी किस्मत मे तू ही है शायद , 
दिन निकलने का इंतज़ार करता हूँ ! 
पहले अपडेट एक बार करता था , 
अब दिन मे तीस बार करता हूँ...  
अंतर्मंथन पर डॉ टी एस दराल 
--
--
--
--
--
--

हाइकू ! 

कुलदीपक 
आज भी जरूरी हैं 
कन्या मार दो।
hindigen पर रेखा श्रीवास्तव 
--
--

कांग्रेस कराती है दंगे

राहुल गांधी ने कहा है कि यदि मोदी सरकार आई तो 
२२ हज़ार लोगों की मौत हो जायेगी ...
--
--
--
--

ऐ जिंदगी ! 

ऐ जिंदगी ! जरा तु बता तेरी रज़ा क्या है ? 
कभी तु हँसाता है कभी तु रुलाता है..
कालीपद प्रसाद 
--

श्रेष्ठ साहित्य का हो शुमार 

अक्षरों का समूह बनकर
साहित्य रह गया है खोकर
साहित्य की विधा समझ पर
प्रश्न चिन्ह है आज उस पर...
--

दीवार 

अभिव्यंजना पर Maheshwari kaneri
--
--
--

स्वप्न जगत 

Akanksha पर Asha Saxena
--
--
--

"सुख का सूरज- 

मेरी बात" 

जिन देवी की कृपा हुई हैउनका करता हूँ वन्दन।
सरस्वती माता का करताकोटि-कोटि हूँ अभिनन्दन।।
        बचपन में हिन्दी की किताब में कविताएँ पढ़ता था तभी से यह धारणा बन गई थी कि जो रचनाएँ छन्दबद्ध तथा गेय होती हैंवही कविता की श्रेणी में आती हैं। आज तक मैं इसी धारणा को लेकर जी रहा हूँ। बचपन में मन में इच्छा होती थी कि मैं भी ऐसी ही कविताएँ लिखूँ....

19 comments:

  1. शुभ प्रभात भाई जी
    आभार..
    अच्छी हलचल मचा दी आपने
    सादर

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर सोमवारीय चर्चा । 'उलूक' का आभार सूत्र 'बहुत पक्की वाली है और पक्का आ रही है' को भी शामिल करने के लिये ।

    ReplyDelete
  3. आपकि बहुत अच्छी सोच है, और बहुत हि अच्छी जानकारी।
    जरुर पधारे HCT- पर नई प्रस्तुती- Download blog template

    ReplyDelete
  4. बढ़िया लिंक्स बढ़िया प्रस्तुति के साथ , आ. शास्त्री जी व मंच को धन्यवाद !
    Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  5. आदरणीय शास्त्री जी आपकी रचना बेहद सुन्दर होती है .इन खुबसूरत संकलन में मुझे भी स्थान दिया ,आपको ढेरों आभार

    ReplyDelete
  6. हमेशा की तरह बेहतरीन चर्चा ...

    ReplyDelete
  7. उम्दा चर्चा समसामयिक लिंक्स |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सर |

    ReplyDelete
  8. very nice .meri post ko sthan dene hetu hardik dhanyawad.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर ब्लोग झांकिया !

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर चर्चा आभार

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर चर्चा... मुझे स्थान देने के लिए आभार..

    ReplyDelete
  12. सुन्दर लिंक्स समायोजन .... बेहतर जानकारी भी मिली .. इनके मध्य मेरी रचना को यहाँ स्थान देने के लिए आभारी हूँ ..सादर नमन :)

    ReplyDelete
  13. हमेशा की तरह बहुत सुंदर चर्चा। मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत-बहुत आभार॥

    ReplyDelete
  14. रचना को ज्यादे लोगों तक पहुँचाने के लिए आभार!!!

    ReplyDelete
  15. अच्छे सूत्रों से सजी चर्चा।

    ReplyDelete
  16. आचे सूत्र संजोये हैं ..

    ReplyDelete
  17. सुन्दर सुन्दर चर्चाएँ.....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।