Followers

Wednesday, May 28, 2014

चर्चा मंच:-1626

तुम अमर, मैं नश्वर

Brijesh Neeraj 

लोकतंत्र के प्रहरी

ZEAL 
 ZEAL 

ग्रीष्म ऋतू !

कालीपद प्रसाद

प्रियंका-राहुल को राजनीति में रहना है तो समझ लें उनके पिता व दादी के कृत्यों का प्रतिफल है नई सरकार का सत्तारोहण ---विजय राजबली माथुर

विजय राज बली माथुर 

अब कोई एहसास नहीं.....

piyu...

हिंदुस्तान की सरकार बनी है

अजय कुमार झा 

वो दिन आ जाए...

Dr (Miss) Sharad Singh

pramod joshi
जिज्ञासा
नरेंद्र मोदी का शपथ ग्रहण समारोह 
जबर्दस्त मीडिया ईवेंट साबित होना ही था। 
पर पत्रकारों की समझदारी इस बात में थी कि 
वे अंतर्विरोधों को कितनी बारीकी से पकड़ते हैं। 
हिंदी के ज्यादातर अखबारों ने भक्तिभाव से 
कवरेज की और ज्यादा प्रभाव डिजाइन से 
डालने की कोशिश की। 
मास्टहैड की तस्वीर को लेकर 
कोई रचनात्मक योजना दिखाई नहीं पड़ी। 
ज्यादातर मुहावरे राजतिलक, 
राज्याभिषेक तक सीमित हैं। 
इनसे तो एक्सप्रेस का He Signs in बेहतर है। 
अंतर्कथाएं भी नहीं हैं। 
खबरों में भी दिल्ली के एक्सप्रेस और कोलकाता के 
टेलीग्राफ में नयापन था। 
खासतोर से टेलीग्राफ में शंकर्षण ठाकुर की रपट। 
अलबत्ता पाकिस्तान के अखबारों ने 
आज इस खबर को जैसा महत्व दिया है, 
वह ध्यान खींचता है। 
आज की कुछ कतरनें...







The Telegraph



Indian Express

Pakistan

बुधवार सुबह की रचनाएँ-

Satish Saxena
 

shikha kaushik 


ब्लॉ.ललित शर्मा 



ऋता शेखर मधु 

12 comments:

  1. मित्रों।
    आजकल बहुत व्यस्त चल रहा हूँ।
    कुछ ही दिनों में हालात ठीक हो जाने पर
    फिर से ज़िन्दग़ी पटरी पर लौट आयेगी।
    रविकर जी आपका आभार।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर चर्चा सुंदर सूत्र संयोजन ।

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सूत्र संयोजन |
    मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  4. बढ़िया चर्चा व सूत्र , आदरणीय रविकर सर व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ब्लॉग ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  5. Adaraniy Ravikar Ji,
    Pranam va Sadhuwad , Adaraniy Shastri Ji ke liye ishwar se praarthana ki Gurumata jaldi aur purn swasth ho ,
    Jay Shree Krishn !

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत संकलन...

    ReplyDelete
  7. सुंदर चिट्टों से सजी चर्चा।

    ReplyDelete
  8. sabhi links bahut sundar sanjoye hain aapne .meri rachna ko yahan sthan pradan karne hetu aabhar

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्बर; चर्चामंच 2816

जिन्हें थी जिंदगी प्यारी, बदल पुरखे जिए रविकर-   रविकर     "कुछ कहना है"   (1) विदेशी आक्रमणकारी बड़े निष्ठुर बड़े बर्...