Followers

Thursday, May 22, 2014

अच्छे दिन { चर्चा - 1620 }

आज की चर्चा में आप सबका स्वागत है 
चुनाव परिणाम आ चुके हैं , नरेंद्र मोदी जी का भारत का प्रधानमन्त्री बनना तय हो चुका है , बस अब देखना सिर्फ इतना है कि अच्छे दिन कब आते हैं, वैसे दिल्ली की राजनीति में हलचल शुरू हो गई है लेकिन मुझे लगता है हमें अभी कुछ भी कहने की बजाए वेट एंड वाच की नीति को अपनाना चाहिए |
चलते हैं चर्चा की ओर 

शुरुआत ग़ज़ल से 
My Photo
Amrita Tanmay
My Photo
My Photo
My Photo
आभार 
--
"अद्यतन लिंक"
--

आधी रात का आधा शहर 

रात के साये में 
फुटपाथों पर पसरा
आधी रात का 
आधा शहर !...
अन्तर्गगनपर धीरेन्द्र अस्थाना
--

शब्द बाण 

Sudhinamaपर sadhana vaid
--

सरहद से परे 

सु..मन(Suman Kapoor)
--

सपने भी बेबस नहीं होते ...... 

झरोख़ापर निवेदिता श्रीवास्तव 
--

भारत : कल और आज 

--

केवल समय गवाया हमने, 

पत्थर को इनसान समझकर, मन मंदिर में बसाया हमने...  
याद करके अब तक उन को, केवल समय गवाया हमने...
मन का मंथन।पर Kuldeep Thakur
--

केजरीवाल की जेल 

14 comments:

  1. बहुत अच्छे लिंक्स हैं ...चैतन्य को शामिल करने का आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत श्रम से सजायी गयी चर्चा।
    आदरणीय दिलबाग विर्क जी आपका आभार।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा ...मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत बहुत आभार | सादर

    ReplyDelete
  4. आदरणीय नमस्ते...
    सुंदर चर्चा में मुझे भी स्थान मिला
    आभार।

    ReplyDelete
  5. आपका हार्दिक आभार इस अति सुन्दर चर्चा के लिए..

    ReplyDelete
  6. बढ़िया चर्चा-
    शुभकामनायें आदरणीय

    ReplyDelete
  7. बढ़िया प्रस्तुति व लिंक्स , विर्क साहब व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ब्लॉग ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  8. बहुत ही आकर्षक सूत्र ! मेरी रचना को स्थान दिया ह्रदय से आभार !

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुन्दर सूत्र का समायोजन ,धन्यवाद सर

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  11. सुंदर सूत्रों से सजी चर्चा।

    ReplyDelete
  12. बहुत अच्छे लिंक्स हैं ..बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. sabhi links achche lage.......aur ek dhanybad,mujhe saath lene ke liye.......

    ReplyDelete
  14. सुंदर प्रस्तुति दिलबाग । आभार ।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"रंग जिंदगी के" (चर्चा अंक-2818)

मित्रों! शुक्रवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...