Followers

Wednesday, October 15, 2014

परिकल्पना ब्लॉगोत्सव भूटान में 15 से 18 जनवरी 2015 तक ; चर्चा मंच 1767



 
Kirti Vardhan

प्रतिभा सक्सेना 

तब.… बता ओ
Dr.NISHA MAHARANA 
"गीत-खिलते हुए कमल पसरे हैं"रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

रंग-रंगीली इस दुनिया में, झंझावात बहुत गहरे हैं।
कीचड़ वाले तालाबों में, खिलते हुए कमल पसरे हैं।।

पल-दो पल का होता यौवन,
नहीं पता कितना है जीवन,
जीवन की आपाधापी में, झंझावात बहुत उभरे हैं।
कीचड़ वाले तालाबों में, खिलते हुए कमल पसरे हैं।।

10 comments:

  1. अद्यतन लिंकों के साथ बहुत सुन्दर चर्चा।
    आपका आभार रविकर जी।

    ReplyDelete
  2. सुन्दर रचनाएं
    आभार भाई रविकर जी

    सादर

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत शुक्रिया मेरी रचना को स्थान देने के लिए ... सुन्दर लिंक्स से सजी चर्चा !

    ReplyDelete
  4. ्बहुत सुन्दर लिंक संयोजन ……आभार

    ReplyDelete
  5. ati sundar charcha thanks nd aabhar ...

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...
    आभार!

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर रँगबिरँगी चर्चा बुधवार की । 'उलूक' के सूत्र 'कोई नहीं कोई गम नहीं तू भी यहीं और मैं भी यहीं' को स्थान मिला आभारी हूँ ।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर रचनाएँ.....
    आभार...

    ReplyDelete
  9. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...