समर्थक

Wednesday, October 29, 2014

आइये मनाते हैं बासी दीपावली : चर्चा मंच 1781

1
पंकज सुबीर 
2
smt. Ajit Gupta 
3
चरित्र  (पुरुषोत्तम पाण्डेय) 
4
5
shikha kaushik 
6
7
Asha Joglekar
8
Admin Deep
9
विशाल चर्चित 
11
13



आप आकर मिले नहीं होते
प्यार के सिलसिले नहीं होते

बात होती न ग़र मुहब्बत की
कोई शिकवे-गिले नहीं होते.. 
14
Anita 
15

16
कार्ट्रून:-अब बच कर कहां जाएगा कालाधन

Kajal Kumar 

14 comments:

  1. सुप्रभात
    उम्दा लिंक्सआज की |

    ReplyDelete
  2. आदरणीय सर...सुंदर चर्चा।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।
    छटपूजा की सभी पाठकों को हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    आभार रविकर जी आपका।

    ReplyDelete
  4. बढ़िया ग़ज़ल कही है भाई साहब :

    बात होती न ग़र मुहब्बत की
    कोई शिकवे-गिले नहीं होते

    ReplyDelete
  5. सेतु सारे मन को भाएं ,जब जब रविकर आएं

    ReplyDelete
  6. सेतु सारे मन को भाएं ,जब जब रविकर आएं

    हम भी अच्छे भले होते ,

    गर तुमसे यूं मिले होते।

    ReplyDelete
  7. अति सुन्दर दर्शन लिए आई है ये रचना यहां सब कुछ तेज़ी से बदल रहा है।

    दिमाग का भार याद रख
    और दिल का हलका फूल मत भूल
    सुशील कुमार जोशी उलूक टाइम्स

    ReplyDelete
  8. सुंदर बुधवारीय चर्चा । 'उलूक' का आभार सूत्र 'दिमाग का भार याद रख और दिल का हलका फूल मत भूल' को स्थान देने के लिये ।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  10. सुंदर बुधवारीय चर्चा

    ReplyDelete
  11. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  12. Sunder links.....sunder charcha manch ki prastuti..... Aabhar !!!

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin