Followers

Wednesday, October 01, 2014

सीनियर सिटीजन दिवस यूँ एक अक्टूबर को है; चर्चा मंच 1353

 
 
सुशील कुमार जोशी

"मेरा स्टेटस,.." (शायद एक कहानी,.. )

Priti Surana
अवनीश सिंह चौहान

 
अकबर महफ़ूज़ आलम रिज़वी
 
Rewa tibrewal 
noreply@blogger.com (सतीश पंचम)
सफ़ेद घर
yashoda agrawal
Randhir Singh Suman 
"धान की बालियाँ" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
धान्य से भरपूर, 
खेतों में झुकी हैं डालियाँ।
धान के बिरुओं ने,
पहनी हैं नवेली बालियाँ।।

क्वार का आया महीना,

हो गया निर्मल गगन,
ताप सूरज का घटा,
बहने लगी शीतल पवन,
देवपूजन के लिए,
सजने लगी हैं थालियाँ...

 

10 comments:

  1. सुन्दर चर्चा,मुझे शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर चर्चा रविकर जी और 'उलूक' का आभार सूत्र 'सोच तो सोच है सोचने में क्या जाता है और क्या होता है अगर कोई सोच कर बौखलाता है' को जगह देने के लिये।

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन और उम्दा लिंकों के साथ अपनी प्रस्तुति की देख अच्छा लगा। बहुत ही सुन्दर चर्चा प्रस्तुति आदरणीय, आभार आपका।

    ReplyDelete
  4. शानदार लिंक (सेतु )परोसेचर्चा के इस अंक ने भी। बधाई।

    ReplyDelete
  5. मान जो भी मिल रहा वो नौजवाँ तेवर को है।

    अब बुजुर्गों का तो बस सम्मान कहने भर को है।

    पल रहे वृद्धाश्रम में जाने कितने वृद्ध जन ,

    सीनियर सिटीजन दिवस यूँ एक अक्टूबर को है।

    अरे भाई साहब इस शरीर का क्या मान और क्या अपमान। आत्मा को तो कोई छूता जानता नहीं है। अपने को सेल्फ को लिमिटिड मानता है अवस्था परिवर्तन शरीर का धर्म है आत्मा का नहीं आत्मा न बूढ़ा होता न सीनियर जूनियर होता है। लिमिटलैस होता है। लिमिटलैस ब्लिस लिमिटलेस कांशशसनेस होता है।
    सीनियर सिटीजन दिवस यूँ एक अक्टूबर को है; चर्चा मंच 1353
    एक अक्टूबर.................Kunwar Kusumesh
    Kunwar Kusumesh

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  7. सब को नवदुर्गा-वृत्त की शुभकामना ! आज का मिश्रित रस माय है !मेरी रचना को इस में शामिल करने हेतु प्रकाशक को धन्यवाद !!

    ReplyDelete
  8. सार्थक और सुंदर चर्चा
    बढ़िया प्रस्तुति
    सादर---

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।
    चर्चा मंच के पाठकों को
    अष्टमी-नवमी और गाऩ्धी-लालबहादुर जयन्ती की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    --
    मान्यवर,
    दिनांक 18-19 अक्टूबर को खटीमा (उत्तराखण्ड) में बाल साहित्य संस्थान द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय बाल साहित्य सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है।
    जिसमें एक सत्र बाल साहित्य लिखने वाले ब्लॉगर्स का रखा गया है।
    हिन्दी में बाल साहित्य का सृजन करने वाले इसमें प्रतिभाग करने के लिए 10 ब्लॉगर्स को आमन्त्रित करने की जिम्मेदारी मुझे सौंपी गयी है।
    कृपया मेरे ई-मेल
    roopchandrashastri@gmail.com
    पर अपने आने की स्वीकृति से अनुग्रहीत करने की कृपा करें।
    डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक"
    सम्पर्क- 07417619828, 9997996437
    कृपया सहायता करें।
    बाल साहित्य के ब्लॉगरों के नाम-पते मुझे बताने में।

    ReplyDelete
  10. खुबसूरत चर्चा

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...