Followers

Wednesday, February 03, 2021

"ज़िन्दगी भर का कष्ट दे गया वर्ष 2021" (चर्चा अंक-3966)

 मित्रों!

बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।

--
आँख सूनी जोवे बाट 

 राजस्थानी लोक भाषा में एक नवगीत।

--

"दो फरवरी" (छोटेपुत्र की वैवाहिक वर्षगाँठ) 
बदल जाएगा मौसम
आयेगा मधुमास
अब होगा
चमत्कार
फिर से फैलेगा
धवल प्रकाश
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक', उच्चारण 
--

गोधुली की बैला छंटगी

साँझ खड़ी है द्वार सखी

मन री बाँता मन में टूटी 

बीत्या सब उद्गार सखी।।

अनीता सैनी, गूँगी गुड़िया  
--
--
--
--
--
किताबों की दुनिया 
नीरज गोस्वामी, नीरज  
--
--
हार जीत में अंतर क्या है 

है जीवन बहुत छोटा सा 

कब समाप्त हो जाए

 जान नहीं पाती|

सच क्या और झूठ क्या

अंतर नहीं कर पाती

बस यहीं आकर मात खा जाती 

--
--
My Stamp :  CRPF Jawans photo on Postage Stamps now,  initiative by Postmaster General Krishna Kumar 
वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव की पहल पर डाक विभाग ने माई स्टैम्प के तहत सीआरपीएफ जवानों की तस्वीर डाक टिकट रूप में प्रकाशित करने की पहल की है। प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सौ से ज्यादा सीआरपीएफ जवानों के बुलंद चेहरे अब इन डाक टिकटों पर शोभायमान हो चुके हैं। विश्वेश्वरगंज स्थित वाराणसी प्रधान डाकघर में इन जवानों की तस्वीर माई स्टैम्प डाक टिकटों पर प्रकाशित की गई है 
--
आज का उद्धरण 
विकास नैनवाल 'अंजान', एक बुक जर्नल 
--
ठहरे हुए पल 
ख़्वाब के
सहारे,
कई
शताब्दियों से ठहरा हुआ
हूँ, उसी एक बिंदु पे,
जिस सीप के
सीने पर
दो बूंद
अश्रु
गिरे थे तुम्हारे। 
शांतनु सान्याल, अग्निशिखा :  
--
--
दोहा-वार्ता 
विमल कुमार शुक्ल 'विमल', मेरी दुनिया 
--
--
शिक्षा, धार्मिकता और मानव-विकास 

मनुष्य ने पिछली कुछ सदियों में ज्ञान के विभिन्न क्षेत्रों में अभूतपूर्व विस्तार किया है । ज्ञान के इस विस्तार ने बहुत सी पारंपरिक मान्यताओं को बदला है जिन्हें मनुष्य हजारों वर्षों तक ज्ञान समझता रहा ।

महेन्‍द्र वर्मा, शाश्वत शिल्प  
--
--
--
नमन सशत्र बलों के धैर्य को (कविता) 

तिरंगे को लज्जित करने वाले,

तुझमें कोई भी संस्कार नहीं।

तुम अपने जो कुछ भी कह लो,

पर भारत से तुझको प्यार नहीं।

Marmagya marmagya.net 
--
--
आज के लिए बस इतना ही...।
--

11 comments:

  1. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति। यहां मेरे ब्लॉग को स्थान देने के लिए एक बार फिर से आपका बहुत धन्यवाद एवं आभार।🌻🙏

    ReplyDelete
  2. एक से बढ़कर एक रचनाओं की सूचना देते लिंक्स, बधाई !

    ReplyDelete
  3. आदरणीय शास्त्री जी,
    बहुत श्रमपूर्वक आपने आज इस चर्चा का जो बेहतरीन संयोजन किया है उसके लिए साधुवाद 🙏
    मेरी पोस्ट को शामिल करने हेतु हार्दिक आभार 🙏
    सादर,
    डॉ. वर्षा सिंह

    ReplyDelete
  4. अति सुन्दर चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर और सराहनीय चर्चा अंक सर ,कुमारेन्द्र जी के भाई के बारे में जान कर बेहद दुःख हुआ ,ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करे । इस वर्ष कई लोगों ने अपनों को खोया है।परमात्मा आने वाले दिनों को खुशियों से भरे दे यही प्रार्थना है। सभी रचनाकारों को हार्दिक शुभकामनाएं एवं सादर नमन

    ReplyDelete
  7. सभी रचनाएँ अपने आप में लाजवाब हैं, सुन्दर प्रस्तुति व संकलन, मुझे स्थान देने हेतु असंख्य आभार आदरणीय शास्त्री जी, नमन सह।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दर रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं,मेरी रचना को स्थान देने के लिए सहृदय आभार आदरणीय 🙏🙏 सादर

    ReplyDelete
  9. मेरी रचना को यथोचित स्थान देने के लिये मयंक सर को प्रणाम एवं मंच से जुड़े सभी व्यवस्थापकों का हृदय से आभार...

    ReplyDelete
  10. शानदार परिश्रम साध्य खोज ।
    सुंदर लिंकों का चुनाव।
    सभी रचनाकारों को बधाई, शानदार सृजन के लिए।
    इस गुलदस्ते में मेरी रचना को स्थान देने के लिए हृदय तल से आभार।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।