Followers

Search This Blog

Wednesday, August 17, 2022

"मेरा वतन" (चर्चा अंक-4524)

सादर अभिवादन 

आज की प्रस्तुति में आप सभी का हार्दिक स्वागत है 

(शीर्षक और भूमिका आदरणीय शास्त्री सर जी की रचना से)

यह धरा देवताओं की जननी रही,
धर्मनिरपेक्ष दुनिया में है ये मही,
अपने भारत को करता हूँ शत्-शत् नमन।
मुझको प्राणों से प्यारा है मेरा वतन।।

-------------------------
मातृभूमि के चरणों में सत-सत नमन करते हुए 
चलते हैं आज की कुछ खास रचनाओं की ओर....
----------------------

 देशभक्तिगीत "मेरा वतन" 

(डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')


जिसके उत्तर में अविचल हिमालय खड़ा,
और दक्षिण में फैला है सागर बड़ा.
नीर से सींचती गंगा-यमुना चमन।
मुझको प्राणों से प्यारा है मेरा वतन।।
-------

747. आज़ादी का अमृत महोत्सव

जीकर देखो कि कितनी मिली आज़ादी   
किससे कब-कब मिली आज़ादी   
लेनी नहीं है भीख में आज़ादी   
हक़ है, जबरन छीननी है आज़ादी।   
आज़ादी का यह अमृत महोत्सव   
सबके लिए है तो तुम्हारे लिए भी है। 

----------------------

आसमां पर शान से लहराए तिरंगा (गज़ल)

आसमां पर शान से फिर आज लहराए तिरंगा।
इस जहां में मान गौरव आज ले आए तिरंगा। 

मेरा यह प्यारा तिरंगा सारे जग की शान है,
देश का सम्मान बनकर है सदा छाये तिरंगा।

तीन रंगो से है बना यह देश की पहचान है,
तीनों रंग का मान क्या है आज बतलाए तिरंगा।

----------------------------

सबसे प्यारा देश हमारा


राम और कृष्ण की भूमि भारत। नानक, महावीर स्वामी  और गौतम बुद्ध की भूमि भारत। तपोभूमि भारत। अर्पण और तर्पण की भूमि भारत। वंदन और अभिनंदन की भूमि भारत। कंकर-कंकर में शंकर वाला भारत। नर में ही नारायण देखने वाला भारत। नारी तू नारयणी के भाव रखने वाला भारत। धर्म और अध्यात्म का केन्द्र भारत। पत्थरों को, जल को, वृक्षों का पूजन करने वाला भारत। योग की जन्मस्थली भारत। ऋषियों और मुनियों का देश भारत। प्राचीनतम संस्कृति वाला भारत।  शून्य और दशमलव प्रणाली का प्रदाता भारत। विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों  के मानने वालों का देश भारत। विविध भाषाओं का घर भारत। 
-----------------------------------

ठूँठपन

हर-ठहरकर बरसती बरसात कजरी के मीठे स्वर-सी प्रतीत हो रही थी। मानो एक-एक बूँद झूम रही हो। जो प्रेम में था उसके लिए बरसात प्रेमल थी और जिसका हृदय पीड़ा में था उसके लिए समय की मार! अपनों के लिए अपनों को दुत्कारती फिर उन्हें अपनाने की चाह में भटकती धनकोर अनायास ही कह बैठती है -

”गृहस्थी में उलझी औरते प्रेम में पड़ी औरतों-सी होती हैं। गृहस्थी की फ़िक्र बहुत सताती है उन्हें।” स्वयं के अधीर मन को सांत्वना देती बरसात में भीगी ओढ़नी निचोड़कर उससे अपना मुँह पोंछती है।

--------------------

स्वार्थ के राग



अमन शांति के स्वर गूंजे तब

मनुज राग से निकले

दुनिया कैसी बदली-बदली

गरल हमेशा उगले।।

-----------------

बँट रही है आज देहरी



आज उजड़े काननों में

चीखते सब ठूँठ देखे

पुष्प मुरझाए हुए थे

शूल गढ़ते भाग्य लेखे

आँधियों के प्रश्न पर फिर

यह धरा क्यों मौन ठहरी।।

-----------------------

कर्त्तव्यों का जिसे भान रहे किसी भी राष्ट्र को विकास के पथ पर आगे ले जाने के लिए केवल सरकार ज़िम्मेदार नहीं होती, उसके नागरिकों का योगदान भी उसमें बहुत प्रमुख भूमिका निभाता है। एक बार यदि बहुमत से कोई सरकार चुन ली जाती है तो उसकी नीतियों को ज़मीनी स्तर पर उतारने के लिए जनता की भागीदारी की अत्यंत आवश्यकता है। संविधान में भारतीय नागरिक के मूल कर्तव्यों की चर्चा की  गयी है।---------------------किताब


मैंने जब रश्मिरथी पढ़ी थी तो मुझे महाभारत के इस पात्र के साथ एक आत्मीयता महसूस हुई और हमेशा उनको और अधिक जानने की इच्छा हुई । ओम शिवराज जी को कोटिशः धन्यवाद ....जिनकी वजह से मैं इस किताब का हिंदी अनुवाद पढ़ पा रही हूँ और वो भी बेहतरीन अनुवाद। 

    किताब के शुरुआत में इसकी पृष्ठभूमि है कि किस तरह से इसकी रुपरेखा अस्तित्व में आयी।
-------------

बेटा, जो देर से पैदा हुआ : असमिया लोक-कथाएक युगल था, जिनके यहाँ वृद्धावस्था में एक पुत्र का जन्म हुआ। पर वृद्ध को समझ नहीं आ रहा था कि वह अपने बेटे का नाम क्या रखे! तब वह नाम का चयन करने के लिए एक ज्योतिषी के पास गया। यह जानकर कि पुत्र का जन्म वृद्धावस्था में हुआ है, ज्योतिषी ने उसका नाम नोमोल रख दिया। वृद्ध आदमी ने उसे एक शॉल व चाँदी का सिक्का उपहार में दिया। कहीं वह नाम न भूल जाए, इस आशंका से वृद्ध वापस जाते हुए बार-बार ‘नोमोल-नोमोल’ बोलता जा रहा था। रास्ते में ‘नोमोल’ बदलकर ‘नेमेल’ हो गया।----------------------------आज मनाए या कल: हिंदू त्योहारों में इतना कंफ्यूजन क्यों?



30-40 साल पहले जब आने जाने के उतने साधन नहीं थे तब बहने एक एक महीना पहले राखी भेज देती थी। फ़िर भी कई भाईयों को राखी के पांच-दस दिन बाद मिलती थी और भाई बिना कोई मुहूर्त देखे खुशी खुशी राखी बांध लेते थे। तब किसी प्रकार का कोई अपशगुन नहीं होता था क्योंकि तब भाई-बहन के प्यार के बीच मुहूर्त नहीं आता था। हम बचपन में पूरा दिन राखी, दिवाली और होली मनाते थे। कोई किसी से मुहूर्त नहीं पूछता था। फ़िर भी परिवारों में अभी से ज्यादा सामंजस्य, भाईचारा और प्रेम की भावना थी! 
--------------------आज का सफर यही तक,अब आज्ञा दे आपका दिन मंगलमय हो कामिनी सिन्हा 

10 comments:

  1. बहुत सुन्दर और सार्थक चर्चा प्रस्तुति।
    आपका आभार कामिनी सिन्हा जी।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. उम्दा चर्चा। मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, कामिनी दी।

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन लिंक......मुझे स्थान देने के लिये शुक्रिया आपका

    ReplyDelete
  5. सुप्रभात! देश प्रेम के रंग में रंगी सुंदर चर्चा, बहुत बहुत आभार 'डायरी के पन्नों से' को भी शामिल करने हेतु कामिनी जी !

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं मेरी रचना को चयनित करने के लिए सहृदय आभार सखी सादर

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी चर्चा प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया और सार्थक चर्चा प्रस्तुति। सभी रचनाकारों को बधाई।मुझे भी स्थान देने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार। संपूर्ण चर्चा प्रस्तुति के लिए आदरणीय कामिनी जी का हार्दिक धन्यवाद। सादर।

    ReplyDelete
  9. बहुत ही सुंदर सराहनीय संकलन।
    'ठूँठपन' को स्थान देने हेतु हार्दिक आभार।
    सादर

    ReplyDelete
  10. सामायिक शीर्षस्थ पंक्तियां।
    देश भक्ति रचनाएं और विविधता से भरा शानदार संकलन।
    सभी लिंक बहुत सुंदर आकर्षक पठनीय।
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई।
    मेरी रचना को चर्चा में स्थान देने के लिए हृदय से आभार।
    सादर सस्नेह।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।