समर्थक

Sunday, May 29, 2011

रविवासरीय (29.05.2011) चर्चा

नमस्कार मित्रों!


मैं मनोज कुमार एक बार फिर से हाज़िर हूं रविवासरीय चर्चा के साथ।

आज आई.पी.एल. का फाइनल बस शुरु होने ही जा रहा है। आप सब उसका आनंद ले रहे होंगे। … और हम बैठे हैं अपना साप्ताहिक कमिटमेंट पूरा करने। टॉस हो चुका है, और मैच बस शुरु होने ही वाला है। हमारी चर्चा भी बस शुरु ही होने वाली है। जब मैच खत्म हो चुका होगा तब हम अपनी चर्चा शेड्यूल कर रहे होंगे। शास्त्री जी को हमने वचन दे रखा है कि रविवार की सुबह की चर्चा हम करेंगे। तो वचन तो निभाना ही पड़ेगा, चाहे आई.पी.एल. का फाइनल मिस हो जाए। आई.पी.एल. की धूम से बात की शुरुआत करें तो यह देखें

कार्टून: देश बड़ा या आईपीएल ?



कहा गया है, “हमारे वचन चाहे कितने भी श्रेष्‍ठ क्‍यों न हों परन्‍तु दुनिया हमें हमारे कर्मों के द्वारा पहचानती है।” तो अब हम अपना कर्म करें। पर एक

इलित्जा तो कर ही सकता हूं कि जो भी परिणाम आए उसे हमें भी बताइएगा, एक पोस्ट लिख दें तो मज़ा आ जाएगा, ताकि हम डिटेल में जान पाएं कि क्या-क्या हुआ?

आई.पी.एल. की चर्चा चली तो एक बात जो उभर कर सामने आई वो यह कि जबसे क्रिस गेल सामने आया तब से इस टूर्नामेंट का सारा समीकरण ही बिगड़ गया। जो टीम सबसे आगे थी, धीरे-धीरे खिसकते-खिसकते नीचे आती गई और आरसीबी चोटी पर पहुंचता गया। उसने सिंगल हैंडेडली इस टीम को फाइनल में पहुंचा दिया। अपनी टीम (वेस्ट इंडीज़) में उसे जगह नहीं क्या मिली लगता है उसके अंदर एक आग सी जल उठी और उसकी धधकन लिए वह आई.पी.एल. में टूट पड़ा और फानल में जिस अंदाज़ से सेमीफाइनल के रास्ते आया है लगता है कि उसमें

आग बहुत-सी बाकी है … और क्या पता वह फाइनल भी  ….:)!


आग कैसी भी पर सफलता तो मेहनत से ही मिलती है। “जिस प्रकार थोड़ी सी वायु से आग भड़क उठती है, उसी प्रकार थोड़ी सी मेहनत से किस्मत चमक उठती है।” और प्रेम की आग तो सबसे कम जलाती है, यदि उसमें वासना न हो। इसके लिए हमें एक अलग देस में जाना होगा। वहां जहाँ मनुष्य के मन में प्रेम इतना प्रबल हो कि अपने अंदर ही नित्य उपजतीं  अन्य नकारात्मक प्रवृत्तियां स्वतः ही दुर्बल  पड़ने लगें ..!!  इसलिए

चला वाही देस ... .....!!

किसी ने सच ही कहा कि “यदि मैं यह समझ लूँ कि मेरा असली गुण प्रेम करना है तो मन में द्वेष आ ही नहीं सकता।” आखिर हम इस छोटी सी ज़िन्दगी में द्वेष-ईर्ष्या क्यों पालते हैं।  हर कोई यहां सफ़र में है, और जैसे एक-दूसरे से हम प्रतीक्षालय में प्रतीक्षालय में मिले हों, बस गाड़ी के आने की घोषणा होते ही हमें इस

वेटिंग रूम से....

चला जाना होगा। 


इस छोटी सी ज़िन्दगी के भी कई रूप होते हैं। अब देखिए न “बीस वर्ष की आयु में व्यक्ति का जो चेहरा रहता है, वह प्रकृति की देन है, तीस वर्ष की आयु का चेहरा जिंदगी के उतार-चढ़ाव की देन है लेकिन पचास वर्ष की आयु का चेहरा व्यक्ति की अपनी कमाई है। ” इस उम्र के लोग कहते मिल जाएंगे

हमें बहुत पैसा मिल रहा है 

मिले भी क्यों न? आखिर अनुभव की भी तो क़ीमत होती है।

अनुभव बड़े काम की चीज़ होती है। अनुभव की पाठशाला में जो पाठ सीखे जाते हैं, वे पुस्तकों और विश्वविद्यालयों में नहीं मिलते। अब देखिए न मिट्टी से कुल्हड़ बनाना कोई आपको सिखा दे, आप सीख लेंगे। उसमें चाय पीकर उसे फेंक देंगे। पर इस कुल्हड़ का कोई उपयोग भी हो सकता है वह तो अनुभवी लोग ही बता सकते हैं। तो इसी बात पर देखिए आप भी

द स्टोरी ऑफ 'कुल्हड़ यूटिलाइजेशन'

कोई भी चीज़ तब अनुपयोगी नहीं होती जब तक वह पूर्णतया अनुपयोगी न हो जाए। उपयोग करने की इच्छा और आदत होनी चाहिए। “हमें क्षण-क्षण का उपयोग करके विद्या का और कण-कण का उपयोग करके धन का अर्जन करना चाहिये!” इसलिए ज़रूरी है 

निर्धनों को बाँटकर तालीम कहलाओ धनी, क्यों सबल को भेंट दे, उपहार की बातें करें। 

लेकिन आज ग़रीबों की कौन सुनता है। जो धनी हैं और भी धनी होना चाहते हैं। और जो ग़रीब हैं और भी ग़रीब होते जा रहे हैं। “अपनी जरुरत के लिए धन कमाना अच्‍छी बात है, किन्‍तु धन-दौलत जमा करने की भूख होना बुरी बात है।” इस भूख से भ्रष्टाचार जनमती है। और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने में सरकार भी विवश दिखती है। कभी-कभी मन में यह प्रश्न आता है कि

क्या भ्रष्टाचार का सरोकार सरकार से ही है

सरकार को क्या दोष दें, चुनते तो उन्हें हम ही है, जो हम पर शासन करते हैं। हमने जिन्हें चुना है वो राजनीति का ऐसा खेल खेल रहे हैं जिसमें आप जनता घुन की तरह पिसती जा रही है।

गुंडों के बल पर चला , राजनीति का खेल ।भले आदमी रो रहे, ऐसी पड़ी नकेल ।।

राज बदले, या पाट बदले, राजनीति का मौसम एक सा ही रहता है। मौसम तो बदलता ही रहता है। अब तो प्रचंड गर्मी की मौसम आ गया है। हम आपको चेता दे रहे हैं। आप हो जाइए  

सावधान! हाजमा बिगाड़ सकता है बदलता मौसम


वैसे कोई भी मौसम हमें कैसा लगता है वह हमारे मन पर निर्भर करता है। मन में नकारात्मक भाव हों तो “कभी कोयल की कूक भी नहीं भाती और कभी (वर्षा ऋतु में) मेंढक की टर्र टर्र भी भली प्रतीत होती है | ” जो कभी कसूरवार लगते थे वे बेकसूर लगने लगते हैं, जो अच्छी बातें बताता लगता था वो बकवास करता प्रतीत होता है।

बेकसूर प्रिंसिपल, नकारात्मक मीडिया - फालोअप पोस्ट 

से तो ऐसा ही लगता है।

क्या-क्या देखना पड़ता है, क्या-क्या सुनना पड़ता है। क्या-क्या देखना बाक़ी है, क्या-क्या सुनना बाक़ी है। जैसी है वैसी ही है दुनिया न जाने

कैसी है ये दुनियां!

जो है सो है। यहां तो आंख के अंधे को दुनिया नहीं दिखती, काम के अंधे को विवेक नहीं दिखता, मद के अंधे को अपने से श्रेष्ठ नहीं दिखता और स्वार्थी को कहीं भी दोष नहीं दिखता। इसलिए चलिए चल कर रहें तारों के पीछे।


जहां जाकर कुछ शान्ति मिले, सुकून मिले और मन को मिले विश्राम। इसीलिए

फुरसत में ... दिल ढूँढता है फिर वही ऊटी ... !

चाहे जो हो, जैसा भी हो, हमें आशा है कि

अच्छे दिन फिर से आयेंगे


ये थी आज की हमारी

एक छोटी सी लव स्टोरी। आशा है अच्छी लगी होगी।

हमने अपना कर्म कर लिया। आब आपकी आप जानें …!


अगले हफ़्ते फिर मिलेंगे। कुछ नए विचार और नई पोस्टों के साथ। तब तक के लिए हैप्पी ब्लॉगिंग।

24 comments:

  1. सार्थक चर्चा!
    इतने लिंक तो आसानी से देखे जा सकते हैं!
    आभार!

    ReplyDelete
  2. आलेखनुमा अच्छी चर्चा !

    ReplyDelete
  3. sarthak sakalan sunder hai ,prayas ki aavsyakta hai . aabhar

    ReplyDelete
  4. नए अंदाज़ में चर्चा अच्छी लगी.मुझे स्थान दिया,कृतज्ञ हूँ.

    ReplyDelete
  5. लिंक्स जोड़ने का सुंदर प्रयास |मुझे स्थान दिया ह्रदय से आभार आपका ...!!

    ReplyDelete
  6. बढ़िया अंदाज़ चर्चा का. बहुत अच्छा है ये फॉर्मेट. बधाई.

    ReplyDelete
  7. anokha pryaas.
    ati sundar.
    aabhaar manoj ji.

    ReplyDelete
  8. वाह्……………बहुत सुन्दर चर्चा-ए-अन्दाज़ है………शानदार लिंक संयोजन्।

    ReplyDelete
  9. sarthak charcha -gyanvardhak links .aabhar

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छी चर्चा ...हर विषय को जोडने का अद्भुत उदाहरण ...

    ReplyDelete
  11. सुन्दर लिंक सयोजन से सजी शानदार चर्चा के लिए आभार

    ReplyDelete
  12. बहुत बढ़िया चर्चा मनोज जी ! आपको बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  13. बढ़िया चर्चा लगाईं है .

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर चर्चा....सुव्यवस्थित।

    ReplyDelete
  15. Alag tarah ki charcha hai aaj Manoj ji ... bahut lajawaab ...

    ReplyDelete
  16. badiyaa charcha.achche link prastut karane ke liye badhaai aapko.



    please visit my blog and feel free to comment.thanks.

    ReplyDelete
  17. गागर में सागर

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर और सार्थक चर्चा रहा! बेहतरीन प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  19. बहुत-बहुत आभार आप सबों का। एक प्रयोग किया था। शायद पसंद आया हो आपको।

    एक ही तरह की चर्चा, लिंक के संयोजन से अलग हट कर कुछ सुंदर लिंक के साथ मन की बात शेयर करने का मन बन गया।

    पर लगता नहीं आपको कि संवाद एकतरफ़ा ही रहा?!

    ReplyDelete
  20. bhut bhut dhanyawaad main jab bhi charchamanch pe aati hu kuch na kuch naya padne ko milta hai... jiske liye sirf dhanyawaad kahna sayad kam hi ho... phir bhi kahti h... bhut abhar...

    ReplyDelete
  21. आदरणीय मनोज जी-बहुत ही सार्थक चर्चा प्रस्तुति -अनोखे विचार लगाकर और अन्य कई ज्ञानदायक लिंक लगाकर आप ने इस चर्चा में जान डाल दी -निम्न बहुत ही यथार्थ अनुभव आप का -कर्मंयेवाधिकारास्ते माँ फलेषु कदाचन सा -बधाई हो -

    “हमारे वचन चाहे कितने भी श्रेष्‍ठ क्‍यों न हों परन्‍तु दुनिया हमें हमारे कर्मों के द्वारा पहचानती है।”
    आशा है आप अपने सुझाव , समर्थन , स्नेह देते रहेंगे
    साभार -
    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५

    ReplyDelete
  22. बढ़िया चर्चा...

    ReplyDelete
  23. बात अच्छी कही तो
    हमें तुम भा गये

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin