समर्थक

Wednesday, May 25, 2011

"शीर्षक आपके! रचना मेरी!!" (चर्चा मंच-524)

कतरनों से कविता
कहीं तुकान्त
कहीं अतुकान्त
स्व और स्वत्व
मैं और मेरे अन्दर का तत्व
लो जी हो गई
आज की चर्चा पूरी!
और सम्पन्न हो गई
रचना मेरी!!

28 comments:

  1. नए रंग में सुंदर चर्चा ...... आभार

    ReplyDelete
  2. आज की कतार्नोसे सजा चर्चा मंच बहुत अच्छा रहा |नए अंदाज में आपकी प्रस्तुति ने मन मोह लिया |बहुत बहुत बधाई नए अंदाज के लिए|
    मेरी रचना को कतरनों में खोजने में भी मशक्कत तो करना पडी पर अच्छा लगा |कविता को आज शामिल करने के लिए आभार |
    आशा

    ReplyDelete
  3. काफ़ी नये लिंक मिले, अच्छी चर्चा,

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी है ये कतरने....जोड़ दो तो सुंदर -सा रुमाल बन जाता है --और फेंक तो कुछ हाथ नही आता ...
    बढ़िया ....शास्त्री जी हम तो आपकी लेखनी के दीवाने है !

    ReplyDelete
  5. बहुत भाई ये रंगदार , छींटदार कतरने !

    ReplyDelete
  6. ये भी एक अलग अंदाज रहा....

    ReplyDelete
  7. शास्त्री जी आपने बेहतरीन पन्ने खोले साहित्य के, अभिवादन

    ReplyDelete
  8. suder indradhanush ki tarah rangon me ranga aapka charcha manch.

    ReplyDelete
  9. manohari sampadan ,man bhaya .
    sadhuvad .

    ReplyDelete
  10. वाह! वाह! वाह! अद्भुत चर्चा...

    ReplyDelete
  11. आपकी रचना और भट्ट जी का कार्टून, दोनों ही दिलकश रहे।

    ReplyDelete
  12. आज तो दो तीन जगह रूक कर हंसना पड़ गया ।
    क्या ग़ज़ब की रचना है ।
    शुक्रिया नीलम जी के बात न करने की चर्चा यहाँ करने के लिए !

    ReplyDelete
  13. आज तो बिलकुल अलग और बहुत ही खूबसूरत अंदाज़ से सजा है चर्चा मंच ..
    बहुत बहुत बधाई ..!!

    ReplyDelete
  14. शीर्षकों से बनी रचना बढ़िया रही ... अच्छी चर्चा के साथ एक अलग अंदाज़

    ReplyDelete
  15. रचना का ये अन्दाज़ भी पसन्द आया सुन्दर लिंक्स संयोजन्।

    ReplyDelete
  16. suder indradhanush ki tarah rangon me ranga aapka charcha manch.
    आभार

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर चर्चा............

    ReplyDelete
  18. नए रूप में सुन्दर चर्चा..आभार

    ReplyDelete
  19. charcha karne ka aapka new idea pasand aaya.mere blog kaushal se khushi ji ka aalekh lene ke liye aabhar.

    ReplyDelete
  20. अच्छी चर्चा...

    ReplyDelete
  21. charcha ka naya andaaj bahut achha laga..aabhar

    ReplyDelete
  22. चर्चा का यह अंदाज़ भी रोचक रहा।

    ReplyDelete
  23. Bahut khubsurat manch hai ye.
    yaha akar bahut achcha laga....!

    ReplyDelete
  24. Shukriya ...achha laga ki main abhi bhi kahin to bachi hue hoon katrano main..:)'
    jao mujhe nahi karni tumse koi baat..:)
    Azmal ji aapka bhi bahut bahut shukriya.

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin