Followers

Thursday, May 12, 2011

पंगा ना ले……………चर्चा मंच(512)

दोस्तों 
आज की चर्चा में 
आप सभी का स्वागत है 
देखो दोस्तों!
कभी कभी ये मन है न 
पंगे लेने के मूड में होता है
और आज इसने आप सबसे 
पंगा ले ही लिया है 
तो डंडा लेकर हो जाइये तैयार
क्यूंकि सबके title पर ही आज
कमेन्ट किया है और वो भी
गुदगुदाता हुआ .......उसका आपकी 
पोस्ट से कोई मतलब नहीं है
मगर आपके चेहरे पर 
पतली सी लकीर मुस्कान की
जरूर बिखर  जाएगी
और वो ही हमारी 
आज की मजूरी होगी 
हमारी नयी चर्चाकारा दर्शन कौर जी का स्वागत है

तुम्हें सलाम 

 मैं तो बदल ही गया हूँ 

 और कैसे बदलेगा ?

 मिलाइए जी 

 दिखा दो जी ........सारा झूठ - सच 

अभी पूछकर बताते हैं जी 
 चलो याद तो आई
हमें भी सुनवा दीजिये 

क्या कहती है जी  
चलो सुन लेते हैं जी .....महुवे की गंध को  
जाने कब तक बेचारी  बनी रहेगी 

इस मुगालते में मत रहिये


अच्छा अरमानों की भी डोली होती है 

 हर कर्म शुद्ध 

वो तो पड़ेगा ही 
असर दिखेगा ही 

 लो आज पता चला ?

ये हुई न बात  

संभल कर ..........कहीं गिर मत जाना  

 बस इसी की कसर रह गयी थी 

कैसी जी ? 

क्यों ?
महफिलें सजाइए .....तन्हाई भाग जाएगी 

 अरे ये कब से सुनने लगा?
इतनी दूर से बेचारा कैसे सुनेगा?

अच्छा है ........ज्यादा मिलने से परेशानियाँ बढती ही हैं  

 ये क्या बला है जी 

 क्या हुआ है .........आज भी चमक रहा है आस्मां में 

 ये कब किसी का हुआ है?

 क्यूँ भाई .........बेचारे को इतनी तकलीफ क्यूँ देते हो ?

 क्या होगा जोड़कर
भाई पढो तो काम भी आये  

 न बाबा .......डर लगता है ऐसी चीजों से 

 वो तो हमेशा से होता आया है 

 शुक्र है समझ तो आई ये बात 

 तो उन्हें भी बुला लिया होता साथ में 
  
 लो जी ऐसा प्यार भी होता है 

इतने बेशर्म थोड़े हैं हम 

जो होता है अचानक ही होता है 



बेटियां 
 जान होती हैं 
मान होती हैं
हमारी पहचान होती हैं 

 इसमें क्या शक है ?


अब और क्या..........इतना काफी नहीं है क्या ? 

 मेरे ख्याल से आज के लिए
इतना काफी होगा ..........आखिर 
झेला है तो अब अपनी नज़रें इनायत
कमेन्ट पर भी फरमा ही दीजिये   
और अब हम मिलेंगे सोमवार को
तब तक के लिए इजाजत दीजिये  

44 comments:

  1. sanyam ke sath saheja gaya, sajaya gaya
    gul-dan, suvasit kar gaya manas- patal ko .sadhuvad ji.

    ReplyDelete
  2. चर्चा का यह अन्दाज भी तो निराला है

    ReplyDelete
  3. बहुत बेहतरीन चर्चा...

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन लिंक्स और उनसे जुडी आपकी तुकबंदियां ...चर्चा को ख़ास बना देती हैं !

    ReplyDelete
  5. आज के चर्चा ... पंगा न ले
    अब तो ले लिया जी

    ReplyDelete
  6. mujhse bhi panga ? hahaha panga leker kiya shaandaar charchaa

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन लिनक्स ....उम्दा चर्चा वंदनाजी ...आभार

    ReplyDelete
  8. वाह वंदनाजी, बहुत सुन्दर चर्चा रही !

    ReplyDelete
  9. सुश्री वंदनाजी,
    चर्चामंच में मेरी रचनाओं को
    शामिल करने के लिए धन्यवाद
    जो भी देखता हूँ या भोगता हूँ
    शब्दों में पिरो देता हूँ ,
    आपकी टिप्पणियाँ बड़ी सुन्दर
    और सटीक होती है,
    बहुत बहुत बधाई और आभार
    घोटू

    ReplyDelete
  10. चर्चा का यह अन्दाज भी बहुत बेहतरीन

    ReplyDelete
  11. सुश्री वंदनाजी,
    चर्चामंच में मेरी रचना को
    शामिल करने के लिए धन्यवाद

    बहुत बेहतरीन चर्चा...

    ReplyDelete
  12. nirala andaz sundar prastuti.darshan kaur ji ka hamari taraf se bhi bahut bahut swagat hai.

    ReplyDelete
  13. संयत शब्दों में की गई, विस्तृत चर्चा!
    --
    श्रीमती दर्शन कौर धनोए जी का
    स्वागत है चर्चा मंच पर!

    ReplyDelete
  14. किसकी मजाल है जो आपसे पंगा ले.:)
    बेहतरीन लिंक के लिए आभार

    दर्शन कौर जी का स्वागत है.

    ReplyDelete
  15. आज लिंक्स का चयन पढ़ने के लिए आपके पंगे का सहारा लिया . चल कुछ किताबें जोड़ें - पर याद आया रद्दीवाला आने वाला है आज .

    ReplyDelete
  16. वंदना जी,
    चर्चा मंच में मेरी रचना शामिल करने के
    लिए बहुत बहुत धन्यवाद !
    बहुत बढ़िया लिंक्स के साथ सार्थक चर्चा
    बहुत सुंदर .........

    ReplyDelete
  17. meri rachna ko charcha manch par sthan pradan karne ke liye sadar abhaar . charcha comments ke saath sartha roop mein ubhri hai

    ReplyDelete
  18. चर्चा करने का अन्दाज़ मनभावन..

    ReplyDelete
  19. kitni mushkil se sajayee hogi aapne ye charcha-manch....lekin aaj to dil ko jeet liya.badhayee deti hoon.

    ReplyDelete
  20. विस्तृत चर्चा ...सारे लिंक्स देख लिए ... अच्छा संकलन है ... आभार

    ReplyDelete
  21. बहुत सार्थक चर्चा वन्दना जी ! मेरी रचना गृहणी को आपने इसमें स्थान दिया ! आपका बहुत बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  22. मजेदार और सार्थक चर्चा.

    ReplyDelete
  23. चर्चा का यह अन्दाज चर्चामंच में.....धन्यवाद

    ReplyDelete
  24. बेहतरीन चर्चा...मजेदार
    वंदनाजी ...आभार

    ReplyDelete
  25. vandana ki charcha me pahli baar shamil ho kar khushi mahsoos ho rahi hai...:)
    bahut bahut thanx!!

    ReplyDelete
  26. " bahut bahut shukriya vandanaji ... charcha manch per vakai me dilchasp post ki charcha ho rahi hai aur jis bakhubi se aap charcha karti hai uska andaj nirala aur manbhavak hai "

    dhanyawad

    ReplyDelete
  27. सारे ही पंगे प्रभावशाली हैं....
    अलग अंदाज़ में खूबसूरत लिक्स
    सादर आभार...

    ReplyDelete
  28. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  29. vandna ji meri rachna ko sthan dene k liye bahut bahut shukriya.....
    aur charcha to aapki hamesha lazwab hi hoti hai...

    ReplyDelete
  30. अच्छी चर्चा है,

    ReplyDelete
  31. वन्दना जी किसी होंठो पर दो पल मुस्कराहट आ जये तो लगता है इस से बड़ा आज कोई दूसरा काम नही हो सकता आप ने यह बहुत बड़ा काम किया है आप हम हंस ही कहाँ सकते हैं और कोई हमे हमारी हंसी तो क्या मुस्कराहट ही लौटा दे तो क्या यह बड़ा काम नही है
    वास्तव में यह बड़ा काम किया है साधुवाद
    आप कभी चर्चा मंच पर हास्य व व्यंग के विषय ही रखये आनन्द प्रप्त होगा
    आप का मेरी रचनाओं को निरंतर स्नेह मिल रहा है हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ कृपया स्वीकार करें
    वेद व्यथित

    ReplyDelete
  32. bahut badhia charcha ....!!
    behtareen links ...!!
    mujhe jagah dene ke liye aabhar apka -Vandana ji ...!!

    ReplyDelete
  33. जायके दार पंगा |
    आभार |

    ReplyDelete
  34. बहुत से सुन्दर लिंक्स।

    ReplyDelete
  35. बहुत सुन्दर अंदाज़ में रोचक चर्चा..आभार

    ReplyDelete
  36. मेरी रचना "माँ" को चर्चा में शामिल करने के लिए धन्यवाद।
    वन्दना जी आपने तो कमाल कर दिया, चर्चा के इस नये रुप से सबको निहाल कर दिया।
    कृपया मेरे ब्लॉग में भी आयें और अपनी बहुमुल्य टिप्पणियां दें।
    www.pradip13m.blogspot.com

    ReplyDelete
  37. KHOOBSOORAT RACHNAAON KAA SANKALAN.
    BADHAAEE AUR SHUBH KAMNA .

    ReplyDelete
  38. तन्हा तन्हा हम रह जायेंगे...
    क्यों ?
    महफिलें सजाइए .....तन्हाई भाग जाएगी
    ____________________

    शीर्षकों का बहुत दुरुस्त और तंदुरुस्त प्रस्तुतीकरण, मज़ा आ गया सभी पढ़कर. सही कहा महफ़िल सजाइये, तो आज इंसानों की महफ़िल नहीं चर्चा मंच के चर्चाओं की महफ़िल जमेगी और तन्हाई दूर भगाई जायेगी.
    मुझे यहाँ स्थान देने केलिए तहेदिल से आभार वंदना जी.

    ReplyDelete
  39. क्या बात है.. चर्चा मंच लगातार आकर्षक और प्रभावी बनता जा रहा है। बधाई

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

चर्चा - 2817

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है  चलते हैं चर्चा की ओर सबका हाड़ कँपाया है मौत का मंतर न फेंक सरसी छन्द आधारित गीत   ...