चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Thursday, August 04, 2011

"कोई पूर्ण नहीं होता " चर्चा मंच - 596

 आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है 

चलते है सीधे चर्चा की ओर

सबसे पहले पद्य रचनाएं 

गद्य रचनाएं 
   
 जाते -जाते देखिए कुछ तस्वीरें और कहिए ओह! माय गोड़

                             आज की चर्चा में बस इतना ही .

                                         धन्यवाद 
                                           दिलबाग विर्क

27 comments:

  1. बहुत अच्छे लिनक्स संकलित किये आपने...... इस सुंदर चर्चा में स्थान देने का आभार ...

    ReplyDelete
  2. अच्छा चर्चा मंच सजाया है तरह तरह की लिंक्स के साथ |
    बधाई |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार
    आशा

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद दिलबाग जी ! सभी लिंक आकर्षक लग रहे हैं ! मेरी माँ की रचना इस मंच पर आपने शामिल की ! आभारी हूँ !

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया चर्चा रही...
    कुछ लिंक्स छूटे हैं... संध्या में फिर निश्चिंत होकर पढूंगा...
    सादर आभार....

    ReplyDelete
  5. सीधी सच्ची चर्चा का भी अपना अलग आनन्द है!
    काश् दुनिया भी इतनी ही सीधी सरल हो पाती!
    बहुत अच्छे लिंक दिये हैं आपने!

    ReplyDelete
  6. सुंदर चर्चा...अच्छे लिंक दिये हैं आपने
    ...........धन्यवाद दिलबाग जी

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा रहा! ढेर सारे अच्छे लिंक्स मिले! धन्यवाद दिलबाग जी!

    ReplyDelete
  8. सुन्दर सूत्र संजोये हैं।

    ReplyDelete
  9. अच्छे लिंक दिये हैं आपने..........सुंदर चर्चा...

    ReplyDelete
  10. अच्छा चर्चा मंच ||

    ReplyDelete
  11. सुंदर चर्चा...अच्छे लिंक दिये हैं आपने
    धन्यवाद दिलबाग जी......
    muje aap ki aak jij bahut aachi lage keya...?
    baatu aap ka har aak link pe kilkh karane ke bad colour change ho jatha hai ese patha chltha hai ke ham yah padh chuke hai .
    bahut hi sundar aap ka link evang prstuti

    ReplyDelete
  12. चर्चा मंच का यह संस्करण भी सुंदर है|
    मेरी ग़ज़ल को स्थान देने के लिए आभारी हूँ|

    ReplyDelete
  13. हाँ , दिल्ली के अपार्टमेंट और एक साझा ब्लॉग में कुछ समानता पाई जाती है ।

    ReplyDelete
  14. बहुत ही बढि़या लिंक्‍स दिये हैं आपने चर्चा मंच में ...मेरी रचना को स्‍थान देने के लिये बहुत-बहुत आभार आपका ।

    ReplyDelete
  15. ्सुन्दर लिंक संयोजन्।

    ReplyDelete
  16. bahut badiya links ke saath badiya charcha prastuti ke liye aabhar!

    ReplyDelete
  17. दिलबाग जी, मेरी रचना को यहाँ शामिल कर मान बढाने केलिए बहुत आभार! कुछ चर्चाएँ पढ़ी बहुत अच्छे अच्छे लिंक दिए हैं.

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर चर्चा...मेरा भी लिंक शामिल करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  19. sarthak charcha v sundar links .mere aalekh ko yahan sthan dene ke liye shukriya .

    ReplyDelete
  20. dilbag jee,

    apake dvara prastut charcha pahali baar dekh rahi hoon , isaka karan mera blog se kinhi karnon se door rahana hai. bahut achchhe links diye hain . apake parishaym ko mera naman. meri post shamil karne ke liye dhanyavad.

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर चर्चा...बढि़या लिंक्‍स |
    मेरी रचना को यहाँ शामिल कर आपने मेरा उत्साह बढ़ाया ....
    हार्दिक धन्यवाद एवं आभार।
    इसी तरह सम्वाद बनाए रखें |

    ReplyDelete
  22. बहुत ही सुदर लिनक्स से आपने चर्चा मंच सजाया है /बहुत अच्छे लिनक्स से परिचय कराया आपने /मेरी पोस्ट "हरियाली तीज "को शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद /इतनी अच्छी चर्चाओं के लिए बहुत बहुत बधाई /

    ReplyDelete
  23. संचार तन्त्र की कुछ तकनीकी खराबी की वजह ब्लॉगों में नियमित नहीं पहुँच पा रहा हूँ. डाटा-कार्ड अभी कुछ ठीक चल रहा है, तो यहाँ पहुँच पाया हूँ. चर्चा मंच पर अच्छी लगी आपकी यह प्रस्तुति. कई ज्ञानवर्धक अच्छे लिंक्स मिले. आपने 'मेरे दिल की बात ' को भी जगह दी, आभारी हूँ.

    ReplyDelete
  24. itni sunder links dene ke liye dhanyawaad. meri rachna ko sthan dene ke liye mera aabhar... ek nayi rachna apne blog me upload ki hai..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin