Followers

Saturday, August 27, 2011

"कहीं ख़ुशी कहीं ग़म" (चर्चा मंच-619)

Picture-1145
यह सप्ताह भी अजीब सा गुज़रा रमजान के मुबारक दिनों कि ख़ुशी के बीच डॉ अमर जे का निधन और डॉ श्रीपाल जी के निधन कि खबर. आज मेरे जन्म दिन पे जब मुबारकबाद लोग देने लगे तो दिल ने कहा यही है ज़िंदगी कहीं ख़ुशी कहीं ग़म.
उस सभी का बहुत बहुत शुक्रिया जिन्होंने ने मेरे जन्मदिन पे मुझे याद किया. इंसानी सेहत ,जिस्म की बीमारियाँ और इलाज भाग
imageमै हूँ ईमानदार' ये नेता ने जब कहा
उसकी जरा-सी बात ने हमको हँसा दिया
नई ग़ज़ल / मेरे हरेक दर्द ने उनको मज़ा दिया.......?
image
"अलख जगाएँ जन-जन में" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक") नाती-पोतों के शासन की परम्परा नहीं छायेगी। जनता पर जनता के शासन की अब बारी आयेगी।। मेरे जन्मदिन पे मुझे याद करने का शुक्रिया "एस एम मासूम साहब के जन्मदिवस पर विशेष" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

imageमेरे मासूम देश के ज़ालिम हुक्मरानों !  इन्सान  की  खाल  ओढ़े हुए   हैवानों ! तुम्हें ज़रा भी लज्जा  नहीं आती अपने आप से....हराम का  सीमेन्ट,सरिया,लोहा, लंगड़  खा खा कर क्या तुम इतने



imageआज भी जब इंसान को इंसान की तरफ तलवार, गोला बारूद , और भी ना जाने क्या -क्या  लिए देखता हूँ तो आँखें चुंधिया जाती हैं . कोई धर्म को लेकर लड़ रहा है तो कोई जाति को लेकर
imageडॉक्टर अमर कुमार जी को पोस्टों के ज़रिए ब्लॉगजगत की ओर से अर्पित किए गए सभी श्रद्धासुमन इस लिंक पर पढ़े जा सकते हैं...मौन अमर...अगर कोई पोस्ट लिंक पर आने से छूट गई है तो तत्काल जानकारी दें, उसे अविलंब जोड़ दिया जाएगा...
डा.अमर कुमार जी को विनम्र श्रद्धांजलि
imageकुछ रीतों, कुछ अनरीतों में कुछ दिन बीत गये मीतों में, पर मेरे उतने ही दिन थे जितने बीत गये गीतों में।

साहित्य वाचस्पति डॉ .श्रीपाल सिंह क्षेम : विनम्र श्रद्धांजलि

http://jagranjunction.com/avatar/user-390-96.png
भारतीय भाषा परिषद में अंग्रेज़ी के प्रति बढ़ते मोह पर अशोक सेकसरिया की टिप्पणी
imageकामकाजी महिलाओं का अस्तित्व "हकीकत या भ्रम"
इस विषय पर बहुत कुछ कहा जा सकता है। मगर उस सब के सही होने का प्रमाण सभी का अपना-अपना नज़रिया होगा कोई किसी को गलत नहीं ठहरा सकता।
imageइतनी गहरी कामना,और चले जा रहे हैं,जाने किस ओर,दिशा तक का पता नहीं,रथ में जुते घोड़े की तरह,जो दायें बायें कुछ नहीं देख सकता,और हम देखना नहीं चाहते,या देख कर अनदेखा कर देते हैं
imageजब इन्सान टूटता हैतब शब्द भी खामोशहो जाते हैंएक कन्दरा में दुबक जाते हैंजहाँ सिर्फ स्याहअंधेरों के औरकुछ नहीं होतासब शून्य में जाने लगता हैज़िन्दगी से मनउपराम होने लगता
imageआज के समाचार पत्रों का एक मुख्य समाचार-''सोनिया सातवीं शक्तिशाली महिला''/सबसे शक्तिशाली महिलाओं में  सोनिया''
imageसंत अन्ना, महात्मा अन्ना, अन्ना इज इंडिया और मदर इंडिया की जगह अन्ना इंडिया...पिछले कुछ महीनों से हर छोटा-बड़ा अन्ना को अजूबे की तरह देख रहा है। जो पक्ष में है,

natural-cure-home-remedies-natural-remedies-holistic-remedies-banana-orangeमातृत्व का सुख अपने आप में अनोखा और महत्वपूर्ण है, क्योंकि एक ज़िंदगी एक नई ज़िंदगी को जन्म देती है। पहली बार माँ बनने जा रही स्त्री के मन में अपने होने वाले बच्चे की सेहत और कुशलता को लेकर कई तरह की चिंता होती है

imageमित्रों , आज़ादी की पूर्व संध्या पर पोस्ट की गयी मेरी कविता – ‘ये देश मेरा नहीं है ‘ आहत ह्रदय का आर्तनाद थी | अपनी जन्मभूमि को नकार देना कृतघ्नता की पराकाष्ठा है , पर मैं भी विवश थी
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए
हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए

हिंदी समुदाय यानी...
शीर्षक में 'यानी' के बाद आप कुछ भी जोड़ सकते/सकती हैं - गुलाम मानसिकता के शिकार लोगों का समूह, पस्त होने के बाद तटस्थ हो जाने वालों का समूह, ऐसा समुदाय
Gift with a bow शुभकामनायेंStar

14 comments:

  1. कौन से चिट्ठे देखे पढ़े जायें, इसकी जानकारी के लिए धन्यवाद और देर ही सही, जन्मदिन की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर चर्चा ||
    बधाई ||

    जन्मदिन की शुभकामनाएँ ||

    ReplyDelete
  3. सुंदर चर्चा. आप की चर्चा मैं हमेशा कुछ नया अवश्य पाता हूँ.

    ReplyDelete
  4. मेरी पोस्ट को स्थान दिया इसके लिए हार्दिक आभार और एक सार्थक, विस्तृत व अभिनव चर्चा के लिए लाख लाख धन्यवाद !

    मासूम जी को बधाई एक बार फिर ..........

    जय हिन्द

    ReplyDelete
  5. मेरी पोस्ट को स्थान दिया इसके लिए हार्दिक आभार और एक सार्थक, विस्तृत व अभिनव चर्चा के लिए लाख लाख धन्यवाद !

    मासूम जी को बधाई एक बार फिर ..........

    जय हिन्द

    ReplyDelete
  6. एक लिंक नया मिला उसके लिये आपका आभार।

    ReplyDelete
  7. जीवन एक नदिया है/ सुख दुख दो किनारे हैं.. जन्मदिन की बधाई:) रोज़े-शरीफ़ मुबारक हो॥

    ReplyDelete
  8. Garv hota hi yaha akar..

    jankari ke liye dhanybad.

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर चर्चा ||
    बधाई ||

    जन्मदिन की शुभकामनाएँ ||

    ReplyDelete
  10. सुन्दर सूत्र शृंखला।

    ReplyDelete
  11. " sarthak charcha "



    http://eksacchai.blogspot.com/2011/08/blog-post_27.html इस पोस्ट का हैरत अंगेज विडियो जरूर देखे .. पोस्ट तो आपको हँसाएगी जरूर ..मगर ये विडियो आपको सदैव याद रहेगा

    ReplyDelete
  12. चर्चा के लिए हार्दिक आभार...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...