Followers

Sunday, August 21, 2011

"सुगंध से भरा" (चर्चा मंच-613)

आज हिन्दी ब्लॉगिंग में चर्चा मंच
एक नायाब मोती की तरह चमकने लगा है!
हम चर्चाकार इस माला में चुन-चुनकर पिरोते हैं।
बहुत ध्यान रखते हैं कि कोई मोती छूट न जाए।
मगर सबको सन्तुष्ट तो ईश्वर भी नहीं कर सकता!
मगर हम लोग इतना विश्वास दिलाते हैं
कि आज नहीं तो कल आपकी पोस्ट की भी
यहाँ पर चर्चा जरूर की जाएगी।।
जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर
कृष्ण की लीलाओं से सजे हैं और प्यार से गाये हैं हमने,




आज का चर्चा मंच कवियों की कल्पनाओं से सजा है!

वो,रोज़ आता रहा,सपनों में,मेरे

(title unknown)

आइए आप भी देखिए-
| Author: Dilbag Virk | Source: साहित्य सुरभि
दोषी
Author: पत्रकार-अख्तर खान "अकेला" | Source: Akhtar Khan Akel
देवघर (झारखण्ड) में भी अन्ना के समर्थन में प्रदर्शन और रैली
*मोटरसाइकिल रैली* *टावर चौक पर धरना, रोड जाम * *केंडिल लाइट रैली और भ्रष्टाचार का पुतला दहन * ..

सावन झमाझम उमंग मेरा झूलना

लाल और बवाल

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं

मै और मेरी तन्हाई

लहरों से डर कर नौका पार नहीं

एकाकार

from abhivyakti

I Owe You My Love.....
Alfred Gockel's *Romance in Red* O My love ! How you've chiseled your name on the domain of my heart It bleeds ! My verses overflow with the lava of ...

सच की तासीर अलग अलग होती है कोई तोड़मरोड़ कर शोर मचाता है कोई सर झुकाकर स्वीकार करता है .......* रश्मि प्रभा* *
शायद रिश्ते बोने की आदत पड़ चुकी है
मुसाफिर मिलते रहे कारवां बनता रहा हर मोड़ पर एक नया मुसाफिर मिला जिसने एक नया रिश्ते का पौधा लगाया उसे मैंने दिल की धडकनों से सींचा दिल के साथ साथ रिश्ता...
posted by Dr (Miss) Sharad Singh at Sharad Singh
posted by अन्तर सोहिल
at Blog parivaar-ब्लॉग परिवार -
*कौन है अन्ना हजारे* भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन में आम आदमी को जोड़ने वाले 72 साल के सामाजिक कार्यकर्ता अण्णा हजारे का मूल नाम किसन बापट बाबूराव हजारे हैं। अण्णा हजारे भारत के उन चंद नेताओं में से एक है जो...
posted by जयरामविप्लव” JAYRAM VIPLAV at
जनोक्ति ब्लॉग
JANOKTI : जनोक्ति ------------------------------ - सिविल सोसाइटी से कुछ सवाल … - भारत वर्ष में नेता मतलब चोर,बेईमान और भ्रष्ट - क्या अन्ना (सिविल सोसाइटी) का लोकपाल जादू की छड़ी होगी ? ...
Author: आलोक श्रीवास्तव | Source: आपके जानिब....
मत समझना की मैंने पी रखी हैं,
सभी ब्लॉगर बंधुओं एवं बांध्वियों को ६५ वें स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक बधाइयाँ . हमारा देश यूँ ही उन्नतियों के आसमान छुए,और तरक्की की ओर अग्रसर हो .
by ओम पुरोहित'कागद'
*स्वार्थ अगर होता है** ** * *तो फिर प्यार नहीं टिकता है।*** *सजे-धजे बाजारों में*** *तो प्यार नहीं बिकता है।*** *जिसने प्यार किया हो सच्चा,*** *वो ही तो इसको...
आज के लिए इस छोटी चर्चा से ही काम चलाइए!

19 comments:

  1. आपकी बात सही है कि चाहने के बावजूद भी लिंक रह ही जाते हैं। ऐसे में ब्लॉगर्स का भी फ़र्ज़ है कि चर्चाकारों का सहयोग करें और अपनी टिप्पणियों में अपने लिंक ख़ुद ही लाकर शेयर करें। इसमें अहंकार की ज़रूरत नहीं है कि हम तो इत्ते बड़े ब्लॉगर हैं। चर्चाकार नहीं लेगा तो हम नहीं देंगे। लोग क्या सोचेंगे हमारे बारे में कि देखो बेचारा अपना लेख ख़ुद ही पढ़वाता फिर रहा है ?
    इस तरह की बातें ठीक नहीं हैं।
    आपके सामने हम अपना आदर्श प्रस्तुत करते ही रहते हैं और आज फिर प्रस्तुत है।
    देखिए लेटेस्ट आर्टिकल
    ब्लॉग जगत का नायक बना देती है ‘क्रिएट ए विलेन तकनीक‘ Hindi Blogging Guide (29)

    ReplyDelete
  2. आज की चर्चा अच्छी रही!
    श्रीमती विद्या जी का आभार!
    --
    सोमवार की चर्चा भाई "ग़ाफिल" जी
    और मंगलवार की चर्चा ज़नाब "मासूम" साहब लगाएँगे! क्योंकि अस्वस्थता के कारण उन्होंने शनिवार की चर्चा नहीं की थी!

    ReplyDelete
  3. आज की चर्चा और लिंक्स बहुत अच्छे रहे |
    बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  4. बहुत ही अच्छे लिंक से सजा मंच

    वक़्त मीले तो यहाँ पर भी आये
    " व्यंग - पप्पू से पंगा ( विडियो के साथ ) "
    http://eksacchai.blogspot.com/2011/08/blog-post_20.html
    इस पोस्ट का विडियो अवस्य देखे

    ReplyDelete
  5. सुन्दर लिंक संयोजन्।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी चर्चा | बहुत अच्छे लिंक्स संजोये हैं बहुत मेहनत से | विद्या जी, आभार |

    मेरी नई रचना जरुर देखें |

    मेरी कविता: उम्मीद

    ReplyDelete
  7. बहुत सार्थक चर्चा...
    सुन्दर सुगढ़ लिंक मिले...
    सादर बधाई और आभार...

    ReplyDelete
  8. आपकी कोशिश सराहनीय है ,बहुत अछे संपर्क सूत्र आप द्वारा दिए गए , कुछ नए, पुराने सभी अपने उदेश्य में सफल जिनकाभाषापरिमार्जन,विकास,एवंआत्मावलोकन निहितार्थ है , ख़ुशी होती है ,भाषा के उन्नयन को देख कर , .. जिनमें आप लोगों का योगदान प्रसंशनीय है ...
    शुक्रिया जी /

    ReplyDelete
  9. Badiya samyik links ke saath saarthak charcha prastuti ke liya aabhar!

    ReplyDelete
  10. shukriyaa meri kavita ko jagah diya :)


    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. sunder charcha

    meri kvita ka link dene ke lie aabhaar

    ReplyDelete
  12. बहुत दिन बाद चर्चा मंच तक आई हूँ, जो भी लिंक पढ़ पाई हूँ बहुत अच्छे लगे . विद्या जी को इस संग्रह के लिए आभार.

    ReplyDelete
  13. सुंदर सूत्र-समन्वय ,आभार

    ReplyDelete
  14. जनमाष्टमी की शुभकामनाएं॥

    ReplyDelete
  15. मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए हार्दिक धन्यवाद!
    सबको सहेजने का आपका प्रयास बधाई योग्य है। बहुत ही प्रभावशाली, सतरंगी और सार्थक चर्चा रही....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...