समर्थक

Thursday, August 25, 2011

चर्चा मंच - 617


आज की चर्चा में आप सबका हार्दिक स्वागत है

शुरुआत ब्लोगर डॉ. अमर के निधन के दुखद समाचार से , 


                 अब चलते हैं चर्चा की और

सबसे पहले गद्य रचनाएं 


अब बात करते हैं पद्य रचनाओं की


                          अंत में है एक शुरुआत                              

                                 आज की चर्चा में बस इतना ही .
                                                 धन्यवाद 
                                            दिलबाग विर्क 

24 comments:

  1. अच्छी लिंक्स और चर्चा |
    बधाई
    आशा

    ReplyDelete
  2. डा. अमर कुमार जी को अनूठी श्रद्धांजलि,
    डॉ.अमर कुमार एक बहुविध अध्ययनशील ,प्रखर मेधा के धनी ब्लॉगर थे -साथ ही जिजीविषा ऐसी की अपनी बीमारी के बाद भी बिना इसका अहसास लोगों को दिलाये वे लगातार लोगों के चिट्ठों को ध्यान से पढ़ते और सारगर्भित टिप्पणियाँ करते ...
    डा. साहब अक्सर टिप्पणी पर मॉडरेशन लगाए जाने के विरोधी थे।
    इसके खि़लाफ़ वह अक्सर ही आवाज़ बुलंद किया करते थे।
    उनकी ख़ुशी के लिए कम से कम एक दिन सभी लोग अपने ब्लॉग से मॉडरेशन हटा लें तो उनके लिए हमारी तरफ़ से यह एक सम्मान होगा।
    वह एक ज्ञानी आदमी थे।
    उनकी टिप्पणी उनके ज्ञान का प्रमाण है।
    जिसे आप देख सकते हैं इस लिंक पर http://commentsgarden.blogspot.com/2011/01/holy-family.html

    ReplyDelete
  3. अप्रत्याशित रूप से अपनी रचना को चर्चामंच पर देख कर आनंदित एवं विस्मित हूँ ! आपका आभार एवं धन्यवाद दिलबाग जी ! सभी लिंक्स बेहतरीन हैं !

    ReplyDelete
  4. डा. अमर जी
    को श्रद्धांजलि ||

    ReplyDelete
  5. भाई दिलबाग विर्क जी।
    आपने बहुत ही अच्छे लिंको के साथ संतुलित चर्चा की है।
    स्व. डॉ. अमर कुमार जी को श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  6. सुंदर चर्चा...अच्छे लिंक दिये हैं आपने
    ...........धन्यवाद दिलबाग जी
    |मेरी कविता को यहाँ स्थान देने के लिए आभार |
    स्व. डॉ. अमर कुमार जी को श्रद्धांजलि।

    ReplyDelete
  7. डा. अमर जी को श्रद्धांजलि .
    अच्छी चर्चा. आभार

    ReplyDelete
  8. सर्वप्रथम डा. अमर जी को श्रद्धांजलि |
    बहुत ही बढ़िया चर्चा | आज पूरा समय देकर सारी कवितायेँ पढ़ी | बहत से अच्छे ब्लोग्स को फोलो भी किया | धन्यवाद दिलबाग विर्क जी |
    साथ ही मेरी रचना उम्मीद को शामिल करने के लिए धन्यवाद |

    कृपया मेरी नई रचना देखें |
    सुनो ऐ सरकार !!
    और इस नए ब्लॉग पे भी आयें और फोलो करें |
    काव्य का संसार

    ReplyDelete
  9. डा. अमर कुमार जी को विनम्र श्रद्धांजली...
    बहुत सुन्दर चर्चा...
    सादर बधाई/आभार...

    ReplyDelete
  10. Bahut accha collection, kai achi-achi kavitayein padne ko mili.

    स्व. डॉ. अमर कुमार जी को श्रद्धांजलि

    Meri bhi kuchh panktiyon ko shamil karne ke liye abhar.

    ReplyDelete
  11. कभी कभी हमें उम्मींद भी नहीं होती और ऐसा हो जाता है कि हम भी यहाँ है| आभार (सूचना मिली मगर देर से कोई बात नहीं )

    ReplyDelete
  12. aapne soochit kiya tha ki meri naveena rachana, "ekakaar" ko apke manch par sthan diya ja raha hai, kintu mujhae apni purani rachna, os ki boond" hi yahan nazar ayi...
    kripya nayi rachna ko bhi shamil karein... hardik khushi hogi...

    ReplyDelete
  13. शॉर्ट व स्वीट चर्चा।

    ReplyDelete
  14. मुझे गुरुजनों के मध्य स्थान देने के लिये...
    चर्चा मंच का धन्यवाद......
    सभी लिंक जोरदार है
    आभार..

    ReplyDelete
  15. धन्‍यवाद दि‍लबाग जी...चर्चा मंच पर अपनी चर्चा देखकर दि‍ल बाग बाग हो गया है....आपने हमें सराहा, चर्चा का वि‍षय बनाया, लोगों तक हमारा लिंक पहुचाया, शुक्रि‍या...

    ReplyDelete
  16. ... aapkaa bahut bahut aabhaar dilbag ji !!

    ReplyDelete
  17. ... dr. amar ji ko shraddhanjali !!

    ReplyDelete
  18. itna accha manch dene ke liye aapka bohot bohot dhanyawad :)

    ReplyDelete
  19. चर्चामंच पर लाने के लिये शुक्रिया दिलबाग़ जी. बढिया चर्चा है.
    अमर कुमार जी को विनम्र श्रद्धान्जलि.

    ReplyDelete
  20. दिलबाग विर्क जी, ब्लोगर डॉ अमर जी को श्रद्धांजली ! मुझे भी बृहस्पतिवार की चर्चा में शामिल करने के लिए शुक्रिया! सुंदर चर्चा.

    ReplyDelete
  21. acche links...bahut bahut dhanybad is chahcha mei meri post ko shamil karne ke liye....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin