चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, October 26, 2011

"शुभकामनाएँ- दीपावली के अवसर पर" (चर्चा मंच-679)

एक शरीर है, बाती उसकी आत्मा , तेल ,धड़कता हुआ दिल ।
जिस दिन तेल खत्म होजाए यानी दिल धड़कना बंद कर दे..
उस दिन बाती रुपी आत्मा कहीं विलीन हो जायेगी |...
फानूस बन के जिसकी, हिफाजत हवा करे
वह शम्मा क्या बुझे, जिसे रोशन खुदा करे...
आपको जन्मदिन के साथ दीपावली की भी हार्दिक शुभकामनाएँ!
आप सब को दीपावली और भाई-दूज के पावन-पर्व पर
बहुत सारा स्नेह ,प्यार और शुभकामनाएँ....
ह्रदय से आपको दीपावली की शुभकामनायें! आपका जीवन खुशियों से भर जाये मोहब्बत के दीप ह्रदय में जल जायें मन खुशी से झूम जाये चेहरे की मुस्कान "निरंतर" बनी रहे
लो फिर से आ गए दिवाली
मेरे मन के आत्मदीप पर उस प्रदीप पर
काम क्रोध के पर्तिशोध के वे बेढंगे कए पतेंगे
शठ रिपु जैसे थे मंडराए मुझ पर छाए
पर मैंने तो उनको सब...
मोटे -- मोटे रैट हों, जिस -------बंगले के पास।
गण-पति जी का समझिए, उसमें आज निवास॥ - डॉ० डंडा लखनवी
*ब्ल़ॉगिंग की गंगा बहाते चलो...

रौशनी भरा गाँव देखेगा , करुणा भरी नजरों से * **
अँधेरे में मूह छुपाता रह जायेगा
ये सोचे बिना कि कितना कारगर है वह अन्धकार के विरुद्ध
निष्ठा से लड़ रहा है दीप ..........जल रहा है दीप!
ले रही हैं इम्तहान बहती हुई हवाएं
आज भले ही हिंदी साहित्य ब्लॉग पर अपनी शैशवास्था में हो
पर आने वाला समय निश्चित रूप से उसी का है।
चहुँ ओर तिमिर का घन कैसे दीप जलाऊं मैं
कुछ छंट जाये होवें कम थोड़े जुगनू ले आऊं मैं
ममता की आँखें पथराई कैसे दीप जलाऊं मैं...
दीपावली-कथा प्रत्‍येकस्मिन् वर्षे दीपावल्‍य: पर्वम् आगच्‍छति एव ।
वयं सम्‍यकतया मोदयाम: अपि एतत् पर्वम् ।
*आप सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं*
दीपावली को दीपों का पर्व कहा जाता है और इस दिन ऐश्वर्य की देवी माँ लक्ष्मी एवं विवेक के देवता व विध्नहर्ता भगवान गणेश की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है...
२० दिन पूर्व इस माह की ६ तारीख को टीवी पर ख़बरों में सुन रहा था कि रावण मर गया है ! वैसे तो मरते-मरते भी कम्वख्त दिल्ली के रामलीला मैदान में एक ११ साल की ...
तुम होते तो………
जरुर दीपावली होती....
नहीं हो ..... दिवाली फिर भी है ना तेरे रहने से ना तेरे जाने से
दिवाली पर कोई फर्क पड़ा........
दीपावली का पर्व हमारे हिंदू भाईयों का एक ऐसा पर्व है
जिसे कि देश के हरेक क्षेत्र में मनाया जाता है।
शुभकामना,
दीपावली के अवसर पर
आज मैं आपके सामने दीपावली की एक दन्त कथा प्रस्तुत कर रहा हूँ |जो लक्ष्मी पूजन के समय सुनाई जाती है|किसी गाँव मैं एक गरीब लकड़हारा अपने सात पुत्रों के साथ....
दीपों का उत्सव आया है, दीपों का उत्सव आया है .
तम का अभिमान घटाने को ;
दुष्टों का दंभ मिटाने को ; आशा कलिया चटकाने को ; ...
हिंदी हाइकु पर प्रकाशित हाइकु
कल गोवर्धन पूजा है
और परसों
भइयादूज है!
पर्वों की इस शृंखला में
आप सबको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

25 comments:

  1. बहुत सुंदर चर्चा ..
    दीपोत्‍सव की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  2. दीपावली की आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  3. समस्त सुधि पाठक जनों को दीपावली की ढेरों शुभकामनायें!

    चर्चामंच पर मेरी रचना को स्थान प्रदान करने का साधुवाद!

    "सच में" www.sachmein.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. सर! ज्योति पर्व की बहुत -२ बधाईयाँ , सुन्दर संकलन ,रचनाओं को सम्मान ....मंगलमय हो दीपावली ../

    ReplyDelete
  5. दिवाली के इस मंगल अवसर पर,
    आप के सभी मनोकामना पुरे हो,
    खुशियाँ आप के कदम चूमे,
    इसी कामना के साथ आप को,
    दिवाली की ढेरो बधाइयाँ|

    ReplyDelete
  6. चरचमांच के सभी पाठको एवं सदस्यों को दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ!


    सादर

    ReplyDelete
  7. दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  8. वाकई आज तो ज्योति पर्व की रौशनी से जगमगाया चर्चा मंच. सार्थक प्रस्तुतिकरण के लिए आपको बधाई. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  9. दीपोत्‍सव की शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  10. सबके मन का अन्धतम मिटे, सबका जीवन सफल हो।

    ReplyDelete
  11. सुंदर चर्चा ..दीपोत्‍सव की शुभकामनाएं.....

    ReplyDelete
  12. आप सभी को परिजनों तथा मित्रों सहित दीपावली पर मंगलकामनायें! ईश्वर की कृपा आप पर बनी रहे।
    ********************

    साल की सबसे अंधेरी रात में*
    दीप इक जलता हुआ बस हाथ में
    लेकर चलें करने धरा ज्योतिर्मयी

    बन्द कर खाते बुरी बातों के हम
    भूल कर के घाव उन घातों के हम
    समझें सभी तकरार को बीती हुई

    कड़वाहटों को छोड़ कर पीछे कहीं
    अपना-पराया भूल कर झगडे सभी
    प्रेम की गढ लें इमारत इक नई
    ********************

    ReplyDelete
  13. दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएं ...

    ReplyDelete
  14. दे सबको संदेश यह , दीपों का त्यौहार
    रौशन सारा विश्व हो , मिट जाए अँधियार ।


    चर्चामंच के सभी पाठको एवं सदस्यों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ
    आभार

    ReplyDelete
  15. चर्चा मंच में शामिल सभी ब्लोगर्स को सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  16. जलाओ दिए पर रहे ध्यान इतना , अन्धेरा धरा पर कहीं रह न जाये
    ना रहे कोई भूखा, न रहे कोई नंगा, आज इस संकल्प को हम दोहरायें
    मेरी पोस्ट को ऐसे महत्व पूर्ण मंच पर स्थान देने के लिए आपका बहुत धन्यवाद ! चर्चा मंच के सभी सदस्यों को सपरिवार दीपपर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  17. शुभ दीपावली |
    आशा

    ReplyDelete
  18. दिवाली की हार्दिक बधाइयाँ और शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  19. दीपावली की आपको हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  20. दीपावली की आपको हार्दिक शुभकामनायें !चर्चामंच पर मेरी रचना को स्थान प्रदान करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद...

    ReplyDelete
  21. यह सचमुच एक अच्छा विचार है।
    अच्छी पोस्ट
    सभी को शुभकामनाएं ,
    हमारी पोस्ट को यहां जगह दी गई,
    शुक्रिया !!!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin