चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, March 12, 2014

मिली-भगत मीडिया की, बगुला-भगत प्रसन्न : चर्चा मंच-1549

मित्रों!
मैं रविकर बुधवारीय चर्चा मंच में
आपका स्वागत करता हूँ।
-१-
दिखे आप में झोल, भगत बगुला यह अभगत
भगत सिंह जी सन्न हैं, जब चुनाव आसन्न । 
मिली-भगत मीडिया की, बगुला-भगत प्रसन्न । 

बगुला भगत प्रसन्न, आप का महिमा मंडन । 
दिखे फोर्ड षड्यंत्र, सोवियत रूस विखंडन । 

खुली ढोल की पोल,  हुआ भारत अब अवगत । 
दिखे आप में झोल, भगत बगुला यह अभगत ।
-२-
 केजरीवाल का इंटरव्यू !! 
arvind kejriwal cartoon, AAP party cartoon, aam aadmi party cartoon, Media cartoon, news channel cartoon, election 2014 cartoons, cartoons on politics, indian political cartoon
Bamulahija dot Com 
-३-
मेरे नाम की धुन... 

रश्मि शर्मा 
-४-
"बालगीत-आई होली" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
आज से एक सप्ताह तक 
आप होली से सम्बन्धित
अपनी रचनाएँ "सृजन मंच ऑनलाइन" पर
प्रकाशित करने की कृपा करें।
इस शृंखला में 
देखिए मेरी पहली पेशकश
बालगीत
आयी होलीआई होली।
रंग-बिरंगी आई होली।
 
-५-
ये मेरे अब्बा कहते थे
Ghotoo
-६-
दुलहा भी साले, 
बलहा भी साले, 
साले बरतिया वाले
PAWAN VIJAY
-७-
ये लड़ाई भ्रष्टाचार के खिलाफ नहीं 

lokendra singh 
-८-
बेटियां मोती नहीं ये तो कोहिनूर हैं !
shikha kaushik
-९-
उर्दू शायरी में माहिया निगारी
आनन्द पाठक
आपका ब्लॉग 
--
सूर्य चन्द्र सितारे 
सूर्य चन्द्र सितारे ग्रह सारे के सारे
पथिकअनजाना
--
लीजिये फिर आ गया सेहतनामा :(३ )मोटे ताज़े नौनिहालों का पूरी नींद न ले पाना उनके लिए दिल की बीमारियों के खतरे बढ़ा सकता है। जो मोटापा ग्रस्त किशोर भरपूर नींद नहीं ले पाते उनके लिए न केवल दिल के रोगों का जोखिम बढ़ सकता है,मधुमेह और आघात (ब्रेन अटेक )के ख़तरे भी बढ़ जाते हैं। एक अध्ययन के यही संकेत हैं हालाकि यह कहना अभी जल्द बाज़ी होगी कि नींद की कमीबेशी कार्डियोमेटाबॉलिक डिज़ीज़ की वजह बनती या मोटापा ही सारे फसाद की जड़ हैं जो नींद से महरूमियत की वजह बनता है। जो हो मोटापा सेहत के लिए ठीक नहीं है...
आपका ब्लॉग 
वीरेन्द्र कुमार शर्मा
-१०-
"दोहे-होली की सौगात" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

उच्चारण
-११-
थोडा---सलीकेवार हो जाते 
तो,खूबसूरत हो जाते 
आखरी दौर शुरू होता है---आइये फोटो खिचा लीजिये---आप कहां रह गये---आपने खिचा लिया---और अब तक दुल्ह्र राजा की कमर टेढी हो चुकी थी---दुल्हन का मेकअप पसीने-पसीने हो रहा है.
हम कब सोचेंगे----थोडा सलीकेवार होगें---थोडी खूबसूरती को बचाने के लिये कब खूबसूरत होंगे...
मन के - मनके
-१२-
हम तेरे आशिक़ हैं 

भरी हैरत निग़ाहों से न देखो हम तो नाविक हैं 
करो चाहे क़त्ल मेरा मगर हम तेरे आशिक़ हैं... 
हालात-ए-बयाँ पर अभिषेक कुमार अभी 
-१३-
ऐसा है इश्क़... 
अच्छा मुकाम आया है अब अपने इश्क़ में, 
आज यार हुआ है ख़ुदा अपने यार के इश्क़ में।

एक गुलिस्ताँ सा बना लिया है इर्द-गिर्द अपने, 
इस क़दर शामिल है ज़िन्दगी में महबूब अपने, 
तमाम फिज़ा जैसे डूबी हो रँग-ए-इश्क़ में, 
आज यार हुआ है ख़ुदा अपने यार के इश्क़ में... 
-१४-
"देशी फ्रिज-सुराही" 
पानी को ठण्डा रखती है,
मिट्टी से है बनी सुराही।
बिजली के बिन चलती जाती,
देशी फ्रिज होती सुखदायी...
हँसता गाता बचपन
-१५-
मेरा चाँद बस तेरा नाम... 
My Photo
नयी उड़ान + पर Upasna Siag 

-१६-
अण्‍डमान का सुन्‍दर द्वीप हेवलोक 
एक और दर्शनीय और पर्यटकीय महत्‍व का द्वीप है – हेवलोक। प्रत्‍येक पर्यटक की मंजिल होती है हेवलोक। यहाँ समुद्र तट नाम के साथ नम्‍बरों में भी विभाजित हैं। राधानगर बीच अर्थात‍ 7 नम्‍बर बीच सर्वाधिक खूबसूरत है। इसे एशिया का सातवें नम्‍बर का सर्वाधिक खूबसूरत बीच माना गया है।
पोस्‍ट को पढ़ने के लिए इस लिंक ...
अजित गुप्‍ता का कोना पर smt. Ajit Gupta

-१७-
ऐ झुरमुट एक बार  (मुक्तक) 

डॉ. हीरालाल प्रजापति

-१८-
वक्त गुज़र जायेगा
Wakt Gujar Jayega

Vineet Kumar Singh

-१९-
समय के साथ बदली 'नेता' की परिभाषा !! 

5TH Pillar Corruption Killer पर 

PITAMBER DUTT SHARMA
-२०-
दिल्ली दर्शन : 
कुतुब मीनार और 
उसके आस पास की इमारतें 

मुसाफ़िर हूँ यारों ... पर Manish Kumar

-२१-
सत्यमेव जयते 
पुण्य प्रसुन बाजपेई के विडीओ को लेकर उनकी पत्रकारिता के साथ प्रश्न उठाए जा रहे है। जी न्यूज वाले (जहां से वे छोड़ कर आजतक आए है) इसपर मुहिम चला रहे है! विडम्बना है। मीडिया से जुड़े लोगों को पूरी तरह से पता है कि किसी भी नेता का इंटरव्यू के पहले या बाद में फॉर्मल बातचीत होती जहां नेता को अच्छे से इंटरव्यू चलाने का भरोसा देते है पुण्य प्रसुन के विडीओ में इससे अधिक कुछ नहीं है...
मेरा फोटो
चौथाखंभापरARUN SATHI

-२२-
जान भी ले सकते हैं खर्राटे 
अनदेखी न कीजिए 

कबीरा खडा़ बाज़ार में पर 

Virendra Kumar Sharma
-२३-
पणिहारी और मुसाफिर  
( हरियाणवी कहानी )  
कमलेश चौधरी {हरिगंधा}
My Photo
Expressions by Lok Setia पर 

Dr.Lok Setia 
-२४-
....ख़ूबसूरत है वो दिल -- उर्मि जी  

ख़ूबसूरत है वो दिल,
जो किसीके दर्द को समझे !
ख़ूबसूरत है वो एहसास,
जो किसीके दर्द का मरहम बने !

म्हारा हरियाणा
-२५-
शायद कोई फ़ागुनी  बयार
उतार फेंके पातों के पीले पर्दे 
सूनी डालों पर हरियाए 
कुछ अपनापन 
अलसाई दुपहरी में  
बौरा उठे इनका भी मन 
इन सूनी घडि़यों में ...
मैं और मेरी कवितायेँ...
--
झेल सके तो झेल  
“उल्लूक” ने छ: सौवीं बक-बक 
दी है आज पेल 

काम की बात
करने में ही
होती हैं बस
कठिनाईयाँ
कुछ लोग
बहुत अच्छा
लिखते हैं
पढ़ते ही
बज उठती
है चारों तरफ
शहनाईयाँ...

उल्लूक टाईम्स पर सुशील कुमार जोशी 

17 comments:

  1. अच्छे सूत्र संकलन के साथ-साथ बढ़िया प्रस्तुति भी , रविकर सर व मंच को धन्यवाद
    नया प्रकाशन -: बॉलीवुड हिंदी मूवीज़ के mp3 गाने डाउनलोड करें - { Bollywood hindi movies mp3 songs download links }

    ReplyDelete
  2. I.A.S.I.H ( हिंदी ब्लॉग ) के लोगो को मान व स्थान देने हेतु , श्री शास्त्री जी व मंच को हृदयतल से धन्यवाद
    ॥ जय श्री हरि: ॥

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सूत्र संयोजन के लिए धन्यवाद सर |

    ReplyDelete
  4. सुंदर सूत्र संयोजन रविकर जी । उल्लूक को सजा धजा कर उसका सूत्र "झेल सके तो झेल
    “उल्लूक” ने छ: सौवीं बक-बक दी है आज पेल" दिखाने के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  5. बढ़िया लिंक्स। ।" आप सभी आदरणीयजनों को नमस्कार...!!! "

    ReplyDelete
  6. बहुरंगी चर्चा अलग अलग अभिव्यक्ति का समावेश
    आदरणीय ''रविकर'' सर जी आपको हार्दिक बधाई इस उत्कृष्ट कार्य के कार्य सम्पन्न हेतु।

    हार्दिक आभारी हूँ मेरी ग़ज़ल ''हम तेरे आशिक़ हैं'' को स्थान देने हेतु।
    सादर

    ReplyDelete
  7. रविकर जी, आप न केवल उत्कृष्ट लेखन ही करते हैं अपितु हर कवि-लेखक को समुचित आदर प्रोत्साहन भी देते हैं। आपकी लेखनी की तीव्र गति से चित्रगुप्त भी सकुचाते होंगे।
    लिखने वालों के लिखे का लेखाजोखा रखना और उसे परस्पर एक-दूसरे तक पहुँचाने में आप और मयंक जी सूत्रधार बनकर जो कार्य कर रहे हैं वह अत्यंत प्रशंसनीय है।

    ReplyDelete
  8. दिखे आप में झोल, भगत बगुला यह अभगत
    भगत सिंह जी सन्न हैं, जब चुनाव आसन्न ।
    मिली-भगत मीडिया की, बगुला-भगत प्रसन्न ।

    बगुला भगत प्रसन्न, आप का महिमा मंडन ।
    दिखे फोर्ड षड्यंत्र, सोवियत रूस विखंडन ।

    खुली ढोल की पोल, हुआ भारत अब अवगत ।
    दिखे आप में झोल, भगत बगुला यह अभगत ।
    ज़बरजस्त व्यंग्य 'आप 'पर

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर और विस्तृत लिंक्स...रोचक चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  10. काम की बात
    करने में ही
    होती हैं बस
    कठिनाईयाँ
    कुछ लोग
    बहुत अच्छा
    लिखते हैं
    पढ़ते ही
    बज उठती
    है चारों तरफ
    शहनाईयाँ

    बहुत सशक्त ज़नाब अब ब्लॉग की तो रद्दी भी नहीं निकलती है बड़ा सटीक व्यंग्य

    आपकी टिप्पणियाँ हमारी उत्प्रेरक धरोहर बनती हैं।

    काम की बात
    करने में ही
    होती हैं बस
    कठिनाईयाँ
    कुछ लोग
    बहुत अच्छा
    लिखते हैं
    पढ़ते ही
    बज उठती
    है चारों तरफ
    शहनाईयाँ...
    उल्लूक टाईम्स पर सुशील कुमार जोशी

    ReplyDelete
  11. बहुत कोमल रचनातमक जनरंजन कल्याण का भाव लिए हैं सभी दोहा छंद

    आपकी टिप्पणियाँ हमारी उत्प्रेरक धरोहर बनती हैं।

    -१०-
    "दोहे-होली की सौगात" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

    उच्चारण

    ReplyDelete
  12. सुन्दर झांकी हमारी परम्परा की जन संस्कृति की जो इधर नष्ट प्राय : है विनष्ट प्राय : होते प्राणियों सी

    दुलहा भी साले,
    बलहा भी साले,
    साले बरतिया वाले
    PAWAN VIJAY
    'दि वेस्टर्न विंड' (pachhua pawan)

    ReplyDelete
  13. मेरी रचना '' ऐ झुरमुट..........'' को शामिल करने हेतु आभार , मयंक जी !

    ReplyDelete
  14. dhanywaad bhayi saahib !! aapki kripa mujh par hameshaa barasti hai .main dhany hoon .

    ReplyDelete
  15. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति....
    आभार!

    ReplyDelete
  16. Shukriya yahan meri post ko sthan dene ke liye

    ReplyDelete
  17. अत्यन्त रोचक सूत्र..

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin