समर्थक

Thursday, May 15, 2014

बहुत शोर सुनते थे पहलू में दिल का { चर्चा - 1613 }

 आज की चर्चा में आप सबका स्वागत है 
बहुत शोर सुनते थे पहलू में दिल का
जो चीरा तो कतरा-ए-खूं न निकला | 
इन पंक्तियों को तो जरूर सुना होगा आपने | आज बार-बार ये जहन में गूँज रही हैं | कारण कल को लोकसभा चुनावों का परिणाम आने वाला है | बात सिर्फ कल की नहीं मैं भविष्य के बारे में भी सोच रहा हूँ | फिलहाल मैं यह स्वीकार करने की स्थिति में नहीं हूँ कि देश के हालात बदलेंगे, चुनाव परिणाम चाहे कुछ भी हो | यह नकारात्मक सोच हो सकती है और मैं चाहूंगा साल बाद आपको यह पंक्तियाँ न दोहरानी पड़ें | बदलाव की बातें सिर्फ शोर न हों |
चलते हैं चर्चा की ओर 
सरिता भाटिया का प्रोफ़ाइल फ़ोटो
और 
Smart work in blogging
My Photo
kahani sangrah
My Photo
आभार 
--
"अद्यतन लिंक"
--

आज बुद्ध पूर्णिमा हैं ... 

भगवान बुद्ध को नमन ... 

नमन स्वरुप एक रचना ... 

Mera avyaktaपर  -- 
राम किशोर उपाध्याय
--

कौन बनेगा प्रधानमंत्री 2014 में 

india-pm
आज भी जब भविष्यवाणियों की बात होती है तो मेरे ज़हन में अखबार का वह पन्ना तैरने लग जाता है. उस समय हमारे यहाँ नवभारत, (नव)भास्कर और देशबन्धु आते थे. इतना पुराना अखबार अब ऑनलाइन तो मिलेगा नहीं लेकिन किसी अभिलेखागार को खंगालने दिया जाए तो निश्चित ही वह खबर ढूंढ निकालूँगा.
अब जब तमाम लोग कयास लगा रहे तो मैं मुस्कुराता हूँ कि समय के गर्भ में क्या है कोई नहीं जानता.
आप क्या सोचते हैं? कौन बनेगा प्रधानमंत्री?
ज़िंदगी के मेले पर बी एस पाबला
--

तुम भी बस.… 

Pratibha Katiyar
--

चुनावी महाकुम्भ का आरती विसर्जन और .. 

अंधड़ !पर पी.सी.गोदियाल "परचेत"
--

" कविता-कहानी-लेख और एकाँकी के नियम " क्या हैं ??,

 ये मैँ नहीं जानता , 

मैं तो बस " तुक " भिड़ाना जानूँ मेरे राम !! - 

( पीताम्बर दत्त शर्मा ) 

--

मतपत्रों से बोल रही वह 

अभिनव रचना पर ममता त्रिपाठी
--

"आओ अब हम झूला झूलें" 

आओ अब हम झूला झूलें।
खिड़की-दरवाजों को छू लें।।
--

कार्टून :-बाबा रामदेव के मन्‍ासूबे 

14 comments:

  1. बढ़िया लिंक्स लिए चर्चा .... आभार

    ReplyDelete
  2. बढ़िया लिंक्स मुझे स्थान देने के लिए आभार..

    ReplyDelete
  3. उपयोगी लिंकों के साथ बढ़िया चर्चा।
    --
    आपके श्रम को और नियमितता को नमन।

    ReplyDelete
  4. बढ़िया चर्चा दिलबाग । सुंदर सूत्र संयोजन के साथ ।

    ReplyDelete
  5. हार्दिक आभार शास्त्रीजी, इस बेहतरीन चर्चा संकंलन के लिये !

    ReplyDelete
  6. बढ़िया चर्चा ..
    आभार!

    ReplyDelete
  7. बढ़िया चर्चा ,मेरी पोस्ट को शामिल करने के लिए आपका हार्दिक आभार

    ReplyDelete
  8. बढ़िया लिंक्स लगाये हैं वो भी बढ़िया प्रस्तुति के साथ , मेरे पोस्ट को स्थान देने हेतु विर्क साहब व मंच को धन्यवाद !
    I.A.S.I.H - ब्लॉग ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

    ReplyDelete
  9. आपके स्नेह का शुक्रिया

    ReplyDelete
  10. बढ़िया लिंक्स.... आभार

    ReplyDelete
  11. AAPNE ITNE BADE LEKHKON KE SAATH MERI RACHNA KO LGAAKAR , MUJHE JO AADAR - MAAN DIYA HAI USKE LIYE AABHAAR !! SABHI PRVISHTIYAAN SHRESHTH HAIN JI !! AAPKE SNEH KE LIYE AABHAAR !!

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin