चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, September 17, 2014

दिखा रहे सद्मार्ग, कुटिल कवि रविकर भाई- ; चर्चा मंच 1739


सच्चाई दम-भर लड़ी, लेकिन *चाँई जीत |
रही हार हरदम बड़ी, क्यों ना हो भयभीत ?

क्यों ना हो भयभीत, बोलबाला दुनिया में |
अब अपनाय अनीत, ध्वजा हाथो में थामे |

दिखा रहे सद्मार्ग, कुटिल कवि रविकर भाई |
जियो मित्र बिंदास, छोड़ कर के सच्चाई ||
*ठग, कपटी, छली
Anita 

noreply@blogger.com (पुरुषोत्तम पाण्डेय)

Kunwar Kusumesh 


 
yashoda agrawal
Saleem akhter Siddiqui 

noreply@blogger.com (विष्णु बैरागी)

सुशील कुमार जोशी 



aprna tripathi 


 
Saleem akhter Siddiqui 

संजय भास्‍कर 

त्रिवेणी 


राजीव कुमार झा 

 
Virendra Kumar Sharma
Bamulahija dot Com 

11 comments:

  1. शुभ प्रभात रविकर भैय्या
    सच में आपकी पसंद को दाद देती हूँ
    अच्छी रचनाएं पढ़वा रहे हैं आप आज
    सादर

    ReplyDelete
  2. उम्दा लिंक्स |दोहे बहुत बढ़िया |

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर सूत्रों के साथ पेश की है रविकर जी ने आज की चर्चा ।'उलूक' के सूत्र 'बात एक नहीं है अलग है वो इधर से उधर जाता है और ये उधर से इधर आता है' को जगह देने के लिये आभार।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा।
    मुझे शामिल किया,आभार आपका।

    ReplyDelete
  5. विविध रंगी चर्चा आभार रविकर जी !

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर चर्चा.मेरे पोस्ट को शामिल करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा ………आभार

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया चर्चा प्रस्तुति ...आभार!

    ReplyDelete
  9. सुंदर चर्चा। बढिया लिंक्स।

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर बहुरंगी चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin