चर्चा मंच पर सप्ताह में तीन दिन (रविवार,मंगलवार और बृहस्पतिवार)

को ही चर्चा होगी।

रविवार के चर्चाकार डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक,

मंगलवार के चर्चाकार

श्री दिनेश चन्द्र गुप्ता रविकर

और बृहस्पतिवार के चर्चाकार श्री दिलबाग विर्क होंगे।

समर्थक

Wednesday, October 22, 2014

झालर-दीपों से सजे, आज सभी के गेह-चर्चा मंच 1774

"कुछ कहना है"

कौन कृषक का मित्र कहाये ।
कौन भूमि भुरभुरी बनाये ।
अगर बदन दो में बँट जाता  । 
क्या दोनों नव-जीवन पाता॥

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 



धनतेरस के पर्व पर, सजे हुए बाज़ार।
घर में लाओ आज कुछ, नये-नये उपहार।।

झालर-दीपों से सजे, आज सभी के गेह।
मन के नभ से आज तो, बरसे मधुरिम नेह।।

हिमकर श्याम 

Ghotoo 

haresh Kumar 


shikha kaushik 




देवेन्द्र पाण्डेय 





सुशील कुमार जोशी 




डॉ. जेन्नी शबनम 



विज्ञापन बनाते हुएअरुण चन्द्र रॉय 


GYanesh Kumar 



पंकज सुबीर

Virendra Kumar Sharma 


12 comments:

  1. सुप्रभात
    उम्दा सूत्रों से सजा आज का चर्चा मंच
    दीप मालिका दे रही साथ मन का है सत्संग |

    ReplyDelete
  2. सुन्दर।
    दीपावली के पर्व पर त्योहारों की श्रृंखला आपको मुबारक हो।
    पोस्ट शामिल करने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  3. आभार रविकर जी , एवं आप सभी को मंगलमय दिवाली की हार्दिक कामनाएं !

    ReplyDelete
  4. सुंदर बुधवारीय चर्चा रविकर जी और आभार 'उलूक' का सूत्र 'जलायें दिये पर रहे ध्यान इतना कूड़ा धरा का कहीं बच ना पाये' को शमिल करने के लिये ।

    ReplyDelete
  5. सुंदर चर्चा ,दीपाली की मंगल शुभकामनाएँ ,सादर

    ReplyDelete
  6. सुन्दर दीप लड़ियों से सजी चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  7. सुंदर चर्चा ,दीपाली की शुभकामनाएँ ,

    ReplyDelete
  8. सुंदर चर्चा...
    दिवाली की शुभकामनाओं के साथ...कुळदीप ठाकुर।

    ReplyDelete
  9. आदरणीय रविकर जी, नमस्कार! सुंदर लिंक्स, कुछ पढ़ा, कुछ बाकी हैं...मेरी रचना को स्थान दिया, हृदय से आपका धन्यवाद एवं आभार... दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ...

    ReplyDelete
  10. अद्यतन लिंकों के साथ सुन्दर चर्चा प्रस्तुति।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।
    --
    चर्चा मंच के पाठकों को दीपोत्सव से जुड़े
    पंच पर्वों का हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  11. रविकर जी, बहुत सुंदर चिठ्टों से सजी है चर्चा।

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर चर्चा ,दीवाली की मंगल कामनायें

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin