साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Thursday, January 08, 2015

आज सभी को जागना होगा { चर्चा - 1852 }

आज की चर्चा में आपका हार्दिक स्वागत है 
आज आमजन इधर-उधर की बहस में उलझे हुए हैं और सत्ताधारी नेता चुपके-चुपके स्वास्थ्य, कृषि के बजट पर कैंची चला रहे हैं । कच्चा तेल सस्ता होता जा रहा है लेकिन बाजार पर निर्भर तेल सरकार पर निर्भर हो गया है । पार्टीबाज़ी से ऊपर उठकर आज निष्पक्ष मूल्यांकन की बेहद जरूरत है । आज सभी को जागना होगा । 
चलते हैं चर्चा की ओर 
My Photo
My Photo
My Photo
धन्यवाद 

7 comments:

  1. बहुत सुन्दर चर्चा आदरणीय दिलबाग सर जी।
    --
    वाकई अभी सरदी बहुत है।

    ReplyDelete
  2. सुप्रभात
    उम्दा चर्चा
    मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए धन्यवाद व आभार |

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर चर्चा ।उम्दा सूत्र सुंदर संयोजन ।

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति
    आभार!

    ReplyDelete
  5. बढ़िया लिंक्स...मेरी पोस्ट शामिल करने के लिए आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर लिंक्स..बढ़िया प्रस्तुति ..आभार

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर चर्चा प्रस्तुति, धन्यवाद व आभार |

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"श्वेत कुहासा-बादल काले" (चर्चामंच 2851)

गीत   "श्वेत कुहासा-बादल काले"   (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')    उच्चारण   बवाल जिन्दगी   ...