साहित्यकार समागम

मित्रों।
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार) को खटीमा में मेरे निवास पर साहित्यकार समागम का आयोजन किया जा रहा है।

जिसमें हिन्दी साहित्य और ब्लॉग से जुड़े सभी महानुभावों का स्वागत है।

कार्यक्रम विवरण निम्नवत् है-
दिनांक 4 फरवरी, 2018 (रविवार)
प्रातः 8 से 9 बजे तक यज्ञ
प्रातः 9 से 9-30 बजे तक जलपान (अल्पाहार)
प्रातः 10 से अपराह्न 1 बजे तक - पुस्तक विमोचन, स्वागत-सम्मान, परिचर्चा (विषय-हिन्दी भाषा के उन्नयन में
ब्लॉग और मुखपोथी (फेसबुक) का योगदान।
अपराह्न 1 बजे से 2 बजे तक भोजन।
अपराह्न 2 बजे से 4 बजे तक कविगोष्ठी
अपराह्न 5 बजे चाय के साथ सूक्ष्म अल्पाहार तत्पश्चात कार्यक्रम का समापन।
(
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री का निवास, टनकपुर-रोड, खटीमा, जिला-ऊधमसिंहनगर (उत्तराखण्ड)
अपने आने की स्वीकृति अवश्य दें।
सम्पर्क-9368499921, 7906360576

roopchandrashastri@gmail.com

Followers

Wednesday, January 28, 2015

गणतंत्र दिवस पर मोदी की छाप, चर्चा मंच 1872

पंकज सुबीर 
Randhir Singh Suman 
!! पंखुडी !! 
Mukesh 
मनोज पटेल 
प्रवीण 
प्राचीन समृद्ध भारत 
Asha Joglekar 
विशाल 
करण समस्तीपुरी 
"अर्श" 

मास जनवरी जा रहा, मन है बहुत उदास।
फिर भी सबको प्यार से, बुला रहा मधुमास।१।
--
गेहूँ-सरसों फूलते, रहे सुगन्ध लुटाय।
मधुमक्खी-तितली-भ्रमर, खेतों में मँडराय।२।... 

10 comments:

  1. सुप्रभात समसामयिक लिंक्स

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर लिंक्स ॥

    ReplyDelete
  3. सुंदर कडियों से सजी चर्चा। मेरी रचना को इस चर्चा में स्थान देने के लिये आभार।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर और सार्थक सूत्रों से सजी रोचक चर्चा...आभार

    ReplyDelete
  7. सुंदर लिंक्स, सार्थक चर्चा

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर इन्द्रधनुषी चर्चा।
    आपका आभार आदरणीय रविकर जी।

    ReplyDelete
  9. अच्छे चुनाव हैं ....

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"महके है दिन रैन" (चर्चा अंक-2858)

मित्रों! बुधवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- गी...