Followers

Thursday, January 15, 2015

दोगलापन सबसे बुरा है ( चर्चा - 1859 )

आज की चर्चा में आप सबका स्वागत है 
मोदी जी ने दिल्ली रैली में कहा कि विरोधी यह प्रचार कर रहे हैं कि भाजपा सेवानिवृति की उम्र 58 कर रही है, यह दुष्प्रचार है और उनका ऐसा कोई इरादा नहीं, मैंने फेसबुक पर हरियाणा का उदाहरण दिया तो सुझाव आया  कि 58 सही उम्र है, इससे युवाओं को मौक़ा मिलता है । मैंने प्रश्न उठाया कि राजनीति में भी सेवानिवृति की उम्र हो ताकि वहां भी युवाओं को मौक़ा मिले । मुझे पूछा गया कि आपकी परेशानी क्या है ? मोदी जी का झूठ या राजनेताओं की उम्र ? मेरा मानना है कि दोगलापन सबसे बुरा है । यह दोगलापन दरअसल नेताओं की फितरत है या कहें इसके बिना राजनीति हो ही नहीं सकती मगर अंध समर्थकों को क्या कहें ? अंध समर्थकों के कारण, चाहे वो किसी के भी हों, आम जनता दुःख उठाती है । अब चलते हैं चर्चा की ओर
मेरा फोटो
My Photo
चूल्हे की आग
मेरा फोटो
bjp cartoon, hindutva, achchhe din carton, sakshi maharaj cartoon, black money cartoon, cartoons on politics, indian political cartoon
सोच
धन्यवाद 

9 comments:

  1. सुन्दर चर्चा।
    दोगलापन ही तो देश को बरबाद कर रहा है।
    --
    आपका आभार आदरणीय दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  2. Thanks dilbag ji to consider my post for charcha..
    bahut sundar charcha

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर चित्रमय चर्चा प्रस्तुति हेतु आभार!
    सभी को मकरसक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  4. सुन्दर चर्चा।
    मकरसक्रांति की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति , मेरी लघुकथा "अयोग्यता" को सम्मिलित करने के लिए आभारी हूँ |

    ReplyDelete
  6. SUNDAR LINKS ... MERE HAIKUZ KO YAHA STHAN DENE KE LIYE HAARDIK AABHAR :)

    ReplyDelete
  7. आपका आभार दिलबाग विर्क जी।

    ReplyDelete
  8. सुन्दर चर्चा।
    मकरसक्रांति की शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  9. आभार दिलबाग जी

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

"स्मृति उपवन का अभिमत" (चर्चा अंक-2814)

मित्रों! सोमवार की चर्चा में आपका स्वागत है।  देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक। (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')   -- ...