Followers


Search This Blog

Saturday, May 22, 2010

हम सब की आँखों के तारे (चर्चा मंच - 161)


नन्हे-मुन्ने, प्यारे-प्यारे!
इस दुनिया में सबसे न्यारे!
हम सब की आँखों के तारे!
ख़ुशबू के छोड़ें फव्वारे!
जिन्हें देख मन कहता गा रे!
जिनके मन में शक्करपारे!
जो हैं सबके राजदुलारे!

आँखों के सामने यदि बच्चों की गतिविधियाँ न हों,
तो मन तक सूना-सूना लगता है!
और यदि
हँसते-मुस्कराते-
खेलते-कूदते-गुनगुनाते-खिलखिलाते-
चहकते-महकते-शरमाते-सकुचाते-ठुमक-ठुमककर नाचते
और गा-गाकर ख़ुशियाँ मनाते बच्चे हमारी आँखों के सामने हों,
तो हमारी आँखों में तो ख़ुशियों की चमक बनी ही रहती है,
मन भी इनकी मधुर गुंजार से प्रफुल्लित रहता है!
-----------------------------------------------------------------



आज सबसे पहले देखते हैं कि यश तिवारी
अपनी अध्यापिका के बारे में हम सबको क्या बता रहे हैं !




अब देखते हैं कार्टून चरित्रों के साथ नन्ही परी की मस्ती!

----------------------------------------------------





अपने जन्म-दिन पर मिले शुभकामना-पत्रों को निहारते आदित्य!

---------------------------



अ-हा! चुलबुली ने कित्ती सुंदर चित्रकारी की है!

------------------------------------------------------------





उल्लू अपनी गरदन को 270 अंश तक घुमाकर देख सकता है!
पक्षियों में और भी विचित्रताएँ होती हैं!






डॉ. रूपचंद्र शास्त्री "मयंक" इस बार सबको खरबूजा खाने का न्योता दे रहे हैं!

rcmelon
----------------------------------------------------------
IMG_1197

उनको एक तितली का साथ ऐसे मिला!





अब मैं आपको अपना एक गीत सुनाता हूँ,
जो मैंने विशेष रूप से शिशुओं के लिए रचा है!

--------------------------------------

अंत में हम आपको मिलवाते हैं : इस मज़ेदार जोकर से,
जो "सरस पायस" पर अपने करतब दिखा रहा है !




13 comments:

  1. सदा की तरह आपकी चर्चा ताज़ा हवा के झोंके की तरह लगी।
    और सबसे प्यारा फलों की टोकड़ी वाला बच्चा लगा।

    ReplyDelete
  2. अरे वाह जी जबाब नही, बहुर सुंदर लगी बच्चो की यह दुनिया.

    ReplyDelete
  3. बढ़िया चर्चा.

    ReplyDelete
  4. बच्चों की यह दुनिया भी अलौकिक है

    ReplyDelete
  5. sahi kaha aapne haste khilkhilate ye bachche kal kal karti nadi ki tarah hamare zivan se sare gam baha le jate hai aur phulo ki tarah mithi khushbu bhar dete hai...

    itni sundar charhca ke liye aapka bahut aabhar...

    ReplyDelete
  6. रावेंद्रुमार रवि जी!
    आपकी शनिवार की चर्चा
    बहुत ही मनभावन होती है!
    --
    बहुत परिश्रम करते हैं आप चर्चा को लगाने में!
    --
    एक सप्ताह के बच्चों के ब्लॉगों की पोस्टों को खोजने के लिए तो आप सप्ताह के पहले दिन से प्रयास शुरू कर देते हैं!
    --

    ReplyDelete
  7. आपकी इस चर्चा से बच्चों की दुनिया में जाने का मौका मिलता है...बहुत सुन्दर चर्चा...

    ReplyDelete
  8. मजेदार चर्चा...बढ़िया रही !!

    ReplyDelete
  9. बदिया चर्चा , मजा आ गया देखकर

    ReplyDelete
  10. वाह !! मतलब अब शनिवार बच्चो का दिन घोषित हो गया... :) बहुत बढ़िया..

    ReplyDelete
  11. वाह, कित्ती प्यारी चर्चा..सभी से एक जगह ही मुलाकात हो गई.

    ReplyDelete
  12. thanks... at last kids are getting place in "charcha' regularly... thanks again

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।