Followers

Saturday, June 26, 2010

सरस सलोने सुंदर साथी (चर्चा मंच - 196 )



-------------------------------------------------------------
आज हम चर्चा मंच पर सबसे पहले
"सरस पायस" से प्रकाशित हुई
एक विलक्षण प्रतिभा से आपको मिलवा रहे हैं!
-------------------------------------------------------------

---------------------------------------
चुलबुल द्वारा बनाए गए चित्र ख़ुद ही बोलते हैं!
इन्हें आप पहले भी चर्चा-मंच पर देखते रहे हैं!

------------------

चुलबुल द्वारा अपने ब्लॉग पर लगाया गया
पहला चित्र देखिए : इसमें क्या-क्या हो रहा है?



------------------

अब मेरे पास भी अपना लैपटॉप हो गया है : पाखी



------------------

बकरियों को प्यार से पत्ते खिलाते मयंक जी!
इनकी बालकविता को अर्चना चाव जी ने अपनी आवाज़ भी दे रखी है!

IMG_1515


------------------

सरस पायस पर मेरा शिशुगीत आपको आइसक्रीम की दावत दे रहा है!



------------------

आओ, तैरो, मेरे साथ : आदित्य!



------------------

रसगुल्ले की दावत इस बार नन्हा मन पर हो रही है!

------------------

अंत में मिलते हैं : माधव के इस सबसे अच्छे "काटू" से!


-----------------------------------------------------------------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------

13 comments:

  1. यह चर्चा भूलवश "प्रकाशित करें" पर
    चटका लग जाने के कारण कल ही
    June 25, 2010 को 8:02 PM से कुछ पहले
    प्रकाशित हो गई थी,
    पर संज्ञान में आते ही इसे
    पुन: June 26, 2010 12:01 AM पर
    प्रकाशित होने के लिए शेड्यूल कर दिया गया!

    ReplyDelete
  2. भूलवश भी जल्दी प्रकाशित हो गई तो अच्छा ही है. सुंदर चर्चा जल्दी देखने को मिल गई.

    ReplyDelete
  3. बढ़िया सब बच्चों से मिला दिया आपने

    ReplyDelete
  4. "सरस सलोने सुंदर साथी''....बहुत प्यारा लगा ये शीर्षक और चर्चा तो लाजवाब.

    ReplyDelete
  5. ...और हाँ, मेरे नए लैपटॉप की चर्चा भी तो है...रवि अंकल को ढेर सारा प्यार व आभार.

    ReplyDelete
  6. बहुत प्यारी और लुभावनी चर्चा ...

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर बाल चर्चा।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सुन्दरता से आपने चर्चा किया है!

    ReplyDelete
  9. रंग-रंगीली, मनभावन चर्चा के लिए आभार!

    ReplyDelete
  10. बहुत सुन्दर ,रवि अंकल को ढेर सारा प्यार व आभार

    ReplyDelete
  11. पाखी के लिए!
    --
    माधव के लिए!
    --
    दुनिया के सभी नन्हे साथियों के लिए!
    --
    प्यार, प्यार और प्यार ही प्यार!

    ReplyDelete
  12. hamesha ki tarah atyant maanmohak charcha...

    ReplyDelete

"चर्चामंच - हिंदी चिट्ठों का सूत्रधार" पर

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथा सम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

जानवर पैदा कर ; चर्चामंच 2815

गीत  "वो निष्ठुर उपवन देखे हैं"  (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')     उच्चारण किताबों की दुनिया -15...